Jo Ho Chuka Hai Jo Hoga Huzoor Jante Hain Naat Lyrics

Jo Ho Chuka Hai Jo Hoga Huzoor Jante Hain Naat Lyrics

 

जो हो चुका है, जो होगा, हुज़ूर जानते हैं
तेरी ‘अता से, ख़ुदाया ! हुज़ूर जानते हैं

वो मोमिनों की तो जानों से भी क़रीब हुए
कहाँ से किस ने पुकारा, हुज़ूर जानते हैं

हिरन ये कहने लगी, छोड़ दे मुझे, सय्याद !
मैं लौट आऊँगी वल्लाह, हुज़ूर जानते हैं

हिरन ने, ऊँट ने, चिड़ियों ने की यही फ़रियाद
कि उन के ग़म का मदावा हुज़ूर जानते हैं

बुला रहे हैं नबी, जा के इतना बोल उसे
दरख़्त कैसे चलेगा हुज़ूर जानते हैं

कहाँ मरेंगे अबू-जहल-ओ-‘उत्बा-ओ-शैबा
कि जंग-ए-बद्र का नक़्शा हुज़ूर जानते हैं

इसी लिए तो सुलाया है अपने पहलू में
कि यार-ए-ग़ार का रुत्बा हुज़ूर जानते हैं

‘उमर ने तन से जुदा कर दिया था सर जिस का
वो अपना है कि पराया हुज़ूर जानते हैं

नबी का फ़ैसला न मान कर वो जाँ से गया
मिज़ाज ‘उमर का है कैसा, हुज़ूर जानते हैं

वोही हैं पैकर-ए-शर्म-ओ-हया-ओ-ज़ुन्नूरैन
मक़ाम उन की हया का हुज़ूर जानते हैं

वो ख़ुद शहीद हैं, बेटे, नवासे, पोते शहीद
‘अली की शान-ए-यगाना हुज़ूर जानते हैं

हैं जिस के मौला हुज़ूर, उस के हैं ‘अली मौला
अबू-तुराब का रुत्बा हुज़ूर जानते हैं

मैं उन की बात करूँ ये कहाँ मेरी औक़ात
कि शान-ए-फ़ातिमा-ज़हरा हुज़ूर जानते हैं

जिनाँ में कौन हैं सरदार नौजवानों के ?
हसन-हुसैन के नाना-हुज़ूर जानते हैं

नहीं है ज़ाद-ए-सफ़र पास जिन ग़ुलामों के
उन्हें भी दर पे बुलाना हुज़ूर जानते हैं

ख़ुदा को देखा नहीं और एक मान लिया
ये जानते थे सहाबा, हुज़ूर जानते हैं

ख़बर भी है ? कि ख़बर सब की है उन्हें कब से
कि जब ये अब था न तब था, हुज़ूर जानते हैं

मुनाफ़िक़ों का ‘अक़ीदा, वो ग़ैब-दान नहीं
सहाबियों का ‘अक़ीदा, हुज़ूर जानते हैं

ऐ ‘इल्म-ए-ग़ैब के मुन्किर ! ख़ुदा को देखा है ?
तुझे भी कहना पड़ेगा, हुज़ूर जानते हैं

उन्हीं के हाथ में हैं कुंजियाँ ख़ज़ानों की
कि किस को देना है कितना, हुज़ूर जानते हैं

है उन के हाथ में क्या-क्या, तुझे ख़बर न मुझे
ख़ुदा ने कितना नवाज़ा, हुज़ूर जानते हैं

वो कितना फ़ासला था और कलाम था कितना
अव-अदना और फ़-अव्हा हुज़ूर जानते हैं

मिले थे राह में नौ बार किस लिए मूसा
कि दीद-ए-हक़ का बहाना हुज़ूर जानते हैं

ख़ुदा ही जाने, ‘उबैद ! उन को है पता क्या-क्या
हमें पता है बस इतना, हुज़ूर जानते हैं

शायर:
ओवैस रज़ा क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी

 

jo hu chuka hai, jo hoga, huzoor jaante hai.n
teri ‘ata se, KHudaya ! huzoor jaante hai.n

wo momino.n ki to jaano.n se bhi qareeb hue
kaha.n se kis ne pukaara, huzoor jaante hai.n

hiran ye kehne lagi, chho.D de mujhe, sayyaad !
mai.n lauT aaungi wallah, huzoor jaante hai.n

hiran ne, oonT ne, chi.Diyo.n ne ki yahi fariyaad
ki un ke Gam ka madaawa huzoor jaante hai.n

bula rahe hai.n nabi, jaa ke itna bol use
daraKHt kaise chalega huzoor jaante hai.n

kaha.n marenge abu-jahal-o-‘utba-o-shaiba
ki jang-e-badr ka naqsha huzoor jaante hai.n

isi lie to sulaaya hai apne pahloo me.n
ki yaar-e-Gaar ka rutba huzoor jaante hai.n

‘umar ne tan se juda kar diya tha sar jis ka
wo apna hai ki paraaya huzoor jaante hai.n

nabi ka faisla na maan kar wo jaa.n se gaya
mizaaj ‘umar ka hai kaisa, huzoor jaante hai.n

wohi hai.n paikar-e-sharm-o-haya-o-zunnoorain
maqaam un ki haya ka huzoor jaante hai.n

wo KHud shaheed hai.n, beTe, nawaase, pote shaheed
‘ali ki shaan-e-yagaana huzoor jaante hai.n

hai.n jis ke maula huzoor, us ke hai.n ‘ali maula
abu-turaab ka rutba huzoor jaante hai.n

mai.n un ki baat karu.n ye kaha.n meri auqaat
ki shaan-e-faatima-zahra huzoor jaante hai.n

jina.n me.n kaun hai.n sardaar naujawaano.n ke ?
hasan-husain ke naana-huzoor jaante hai.n

nahi.n hai zaad-e-safar paas jin Gulaamo.n ke
unhe.n bhi dar pe bulaana huzoor jaante hai.n

KHuda ko dekha nahi.n aur ek maan liya
ye jaante the sahaaba, huzoor jaante hai.n

KHabar bhi hai ? ki KHabar sab ki hai unhe.n kab se
ki jab ye ab tha na tab tha, huzoor jaante hai.n

munaafiqo.n ka ‘aqeeda, wo Gaib-daan nahi.n
sahaabiyo.n ka ‘aqeeda, huzoor jaante hai.n

ai ‘ilm-e-Gaib ke munkir ! KHuda ko dekha hai ?
tujhe bhi kehna pa.Dega, huzoor jaante hai.n

unhi.n ke haath me.n hai.n kunjiya.n KHazaano.n ki
ki kis ko dena hai kitna, huzoor jaante hai.n

hai un ke haath me.n kya-kya, tujhe KHabar na mujhe
KHuda ne kitna nawaaza, huzoor jaante hai.n

wo kitna faasla tha aur kalaam tha kitna
aw-adna aur fa-awha huzoor jaante hai.n

mile the raah me.n nau baar kis lie moosa
ki deed-e-haq ka bahaana huzoor jaante hai.n

KHuda hi jaane, ‘Ubaid ! un ko hai pata kya-kya
hame.n pata hai bas itna, huzoor jaante hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *