Kar Do Karam Maula Kar Do Karam Naat Lyrics

Kar Do Karam Maula Kar Do Karam Naat Lyrics

 

बिस्मिल्लाह
हम्द-ओ-सना रब्ब-ए-ज़ुल-जलाल की

कर दो करम, मौला ! कर दो करम
हम पे करम, मौला ! हम पे करम

बिखरे हुए शर्मसार हैं हम
रहमत के तलबगार हैं हम
वास्ता नबी का, मौला ! रख लो भरम

कर दो करम, मौला ! कर दो करम
हम पे करम, मौला ! हम पे करम

देने वाला तू बड़ा है
हम तुझी से माँगते हैं
करता है तू ही ‘अता

मुश्किलों की कर कुशाई
हम से दे हमें रिहाई
इतनी सी है इल्तिजा

बिखरे हुए शर्मसार हैं हम
रहमत के तलबगार हैं हम
वास्ता नबी का, मौला ! रख लो भरम

कर दो करम, मौला ! कर दो करम
हम पे करम, मौला ! हम पे करम

तू ख़ालिक़-ए-दो-जहाँ है
ज़र्रे ज़र्रे से ‘अयाँ है
तेरी ही हम्द-ओ-सना

रब्ब-ए-काएनात तू है
रब्ब-ए-मो’जिज़ात तू है
बंदों पे तू मेहरबाँ

बिखरे हुए शर्मसार हैं हम
रहमत के तलबगार हैं हम
वास्ता ‘अली का, मौला ! रख लो भरम

कर दो करम, मौला ! कर दो करम
हम पे करम, मौला ! हम पे करम

या रब्ब-ए-मुस्तफ़ा !
या रब्ब-ए-अंबिया !
या रब्ब-ए-मुर्तज़ा !
या रब्ब-ए-औलिया !

तू वह्दहू-ला-शरीका-लहू
तेरी शान जल्ला जलालुहु

तू करीम है, तू ‘अज़ीम है
रहमान है, तू रहीम है

आदम को तू ने इस्म सिखाए
नूह से कश्ती को बनवाया

आग लगी गुलज़ार बनाया
अपने ख़लील को है बचाया

भेज के मिस्र में यूसुफ़ को
शहंशाह-ए-मिस्र बनाया

यूनुस को पेट में मछली के
आयत-ए-करीमा पढ़वाया

तेरे हुक्म से मूसा ने
दरिया-ए-नील पार किया

मुर्दों को ज़िंदा करने का
‘ईसा को मो’जिज़ा है दिया

आख़िर में मेरे आक़ा को
मे’राज पे बुलाया
दीदार है कराया

या रब्ब-ए-ज़ुल-जलाल !
कर दो करम

शायर:
ख़ादिम हुसैन

ना’त-ख़्वाँ:
नबील शौक़त अली और सनम मारवी

 

bismillah
hamd-o-sanaa rabb-e-zul-jalaal ki

kar do karam, maula ! kar do karam
ham pe karam, maula ! ham pe karam

bikhre hue sharmsaar hai.n ham
rahmat ke talabgaar hai.n ham
waasta nabi ka, maula ! rakh lo bharam

kar do karam, maula ! kar do karam
ham pe karam, maula ! ham pe karam

dene waala tu ba.Da hai
ham tujhi se maangte hai.n
karta hai tu hi ‘ata

mushkilo.n ki kar kushaai
ham se de hame.n rihaai
itni si hai iltija

bikhre hue sharmsaar hai.n ham
rahmat ke talabgaar hai.n ham
waasta nabi ka, maula ! rakh lo bharam

kar do karam, maula ! kar do karam
ham pe karam, maula ! ham pe karam

tu KHaaliq-e-do-jahaa.n hai
zarre zarre se ‘ayaa.n hai
teri hi hamd-o-sanaa

rabb-e-kaa.enaat tu hai
rabb-e-mo’jizaat tu hai
bando.n pe tu mehrbaa.n

bikhre hue sharmsaar hai.n ham
rahmat ke talabgaar hai.n ham
waasta ‘ali ka, maula ! rakh lo bharam

kar do karam, maula ! kar do karam
ham pe karam, maula ! ham pe karam

ya rabb-e-mustafa !
ya rabb-e-ambiya !
ya rabb-e-murtaza !
ya rabb-e-auliya !

tu wahdahu-laa-shareeka-lahu
teri shaan jalla jalaaluhu

tu kareem hai, tu ‘azeem hai
rahmaan hai, tu raheem hai

aadam ko tu ne ism sikhaae
nooh se kashti ko banwaaya

aag lagi gulzaar banaaya
apne KHaleel ko hai bachaaya

bhej ke misr me.n yusuf ko
shanshaah-e-misr banaaya

yunus ko peT me.n machhli ke
aayat-e-kareema pa.Dhwaaya

tere hukm se moosa ne
dareeya-e-neel paar kiya

murdo.n ko zinda karne ka
‘isaa ko mo’jiza hai diya

aaKHir me.n mere aaqa ko
me’raaj pe bulaaya
deedaar hai karaaya

ya rabb-e-zul-jalaal !
kar do karam

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *