Karo Mujh Par Mehrbani Mere Makhdoom Simnani Naat Lyrics

Karo Mujh Par Mehrbani Mere Makhdoom Simnani Naat Lyrics

 

करो मुझ पर मेहरबानी, मेरे मख़्दूम सिमनानी !
तुम्हारी है जहाँ-बानी, मेरे मख़्दूम सिमनानी !

तलाश-ए-हक़-त’आला में हुकूमत तर्क फ़र्मा कर
हुए महबूब-ए-यज़्दानी, मेरे मख़्दूम सिमनानी !

हज़ारों ग़म के मारों को मिली राहत तेरे दर से
तेरा दरबार ला-सानी, मेरे मख़्दूम सिमनानी !

तवज्जोह की नज़र पड़ जाए तेरी गर, मेरे आक़ा !
करे बिल्ली भी मेहमानी, मेरे मख़्दूम सिमनानी !

नसीबा गर वफ़ा मुझ से करे तो आप के दर की
करूँगा मैं भी दरबानी, मेरे मख़्दूम सिमनानी !

मरीज़ों, ग़म के मारों की मुसीबत दूर करता है
तेरा मुश्किल-कुशा पानी, मेरे मख़्दूम सिमनानी !

मेरे मुर्शिद मु’ईन अशरफ़ को रखियो तुम हिफ़ाज़त में
है तेरा बेटा रूहानी, मेरे मख़्दूम सिमनानी !

शह-ए-ख़्वाजा के सदक़े में ख़ुदा-रा कर भी दीजे हल
मुनव्वर की परेशानी, मेरे मख़्दूम सिमनानी !

शायर:
सय्यिद नूर मियाँ

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
सय्यिद अब्दुल क़ादिर अल-क़ादरी

 

karo mujh par mehrbaani, mere maKHdoom simnaani !
tumhaari hai jahaa.n-baani, mere maKHdoom simnaani !

talaash-e-haq-ta’aala me.n hukoomat tark farma kar
hue mahboob-e-yazdaani, mere maKHdoom simnaani !

hazaaro.n Gam ke maaro.n ko mili raahat tere dar se
tera darbaar laa-saani, mere maKHdoom simnaani !

tawajjoh ki nazar pa.D jaae teri gar, mere aaqa !
kare billi bhi mehmaani, mere maKHdoom simnaani !

naseeba gar wafa mujh se kare to aap ke dar ki
karunga mai.n bhi darbaani, mere maKHdoom simnaani !

mareezo.n, Gam ke maaro.n ki museebat door karta hai
tera mushkil-kusha paani, mere maKHdoom simnaani !

mere murshid mu’een ashraf ko rakhiyo tum hifaazat me.n
hai tera beTa roohani, mere maKHdoom simnaani !

shah-e-KHwaaja ke sadqe me.n KHuda-ra kar bhi deeje hal
Munawwar ki pareshaani, mere maKHdoom simnaani !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *