Kehti Hai Ye Phoolon Ki Rida Allahu Allah Naat Lyrics

Kehti Hai Ye Phoolon Ki Rida Allahu Allah Naat Lyrics

 

अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !
अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !

कहती है ये फूलों की रिदा, अल्लाहु अल्लाह
अश्जार के पत्तों ने कहा, अल्लाहु अल्लाह

अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !
अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !

बादल ने आसमाँ पे लिखा अल्लाहु अल्लाह
पर्बत की क़तारों की निदा अल्लाहु अल्लाह

अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !
अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !

हो सूरा-ए-यासीन कि हो सूरा-ए-रहमान
क़ुरआन के लफ़्ज़ों की सदा अल्लाहु अल्लाह

अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !
अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !

करता है सना तेरी बरसता हुआ पानी
दरिया भी है मसरूफ़-ए-सना, अल्लाहु अल्लाह

अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !
अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !

ख़ुशबू, किरन, उजाले, धनक और कहकशाँ
ज़ाकिर हैं तेरे अर्ज़-ओ-समा, अल्लाहु अल्लाह

अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !
अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !

शबनम गिरी जो फूलों पे पढ़ती हुई सना
बुलबुल ने देख कर ये कहा, अल्लाहु अल्लाह

अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !
अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !

जब नज़’अ के ‘आलम में हो, मौला ! ये उजागर
विर्द-ए-ज़बाँ हो ज़िक्र तेरा, अल्लाहु अल्लाह

अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !
अल्लाहु अल्लाह ! अल्लाहु अल्लाह !

शायर:
अल्लामा निसार अली उजागर

नात-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी

 

allahu allah ! allahu allah !
allahu allah ! allahu allah !

kehti hai ye phoolo.n ki rida, allahu allah
ashjaar ke patto.n ne kaha, allahu allah

allahu allah ! allahu allah !
allahu allah ! allahu allah !

baadal ne aasmaa.n pe likha, allahu allah
parbat ki qataaro.n ki nida, allahu allah

allahu allah ! allahu allah !
allahu allah ! allahu allah !

ho soora-e-yaseen ki ho soora-e-rahmaan
qur.aan ke lafzo.n ki sada, allahu allah

allahu allah ! allahu allah !
allahu allah ! allahu allah !

karta hai sana teri barsta huaa paani
dariya bhi hai masroof-e-sana, allahu allah

allahu allah ! allahu allah !
allahu allah ! allahu allah !

KHushboo, kiran, ujaale, dhanak aur kahkashaa.n
zaakir hai.n tere arz-o-sama, allahu allah

allahu allah ! allahu allah !
allahu allah ! allahu allah !

shabnam giri jo phoolo.n pe pa.Dhti hui sana
bulbul ne dekh kar ye kaha, allahu allah

allahu allah ! allahu allah !
allahu allah ! allahu allah !

jab naz’a ke ‘aalam me.n ho, maula ! ye Ujaagar
wird-e-zabaa.n ho zikr tera, allahu allah

allahu allah ! allahu allah !
allahu allah ! allahu allah !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *