Khuda Ka Deen Bachaana Husain Jaante Hain Naat Lyrics

Khuda Ka Deen Bachaana Husain Jaante Hain Naat Lyrics

 

ख़ुदा का दीन बचाना हुसैन जानते हैं
सर-ए-नियाज़ कटाना हुसैन जानते हैं

बता रही है हमें ये ज़मीन-ए-कर्ब-ओ-बला
यज़ीदियत को मिटाना हुसैन जानते हैं

जहाँ में छाए हुए हैं अँधेरे बातिल के
चराग़-ए-दीन जलाना हुसैन जानते हैं

ग़म-ए-हुसैन में आँखों से अश्क जारी हैं
है कौन उन का दीवाना हुसैन जानते हैं

मदीना पाक की गलियों में दोश-ए-अक़्दस पर
उठा के चलते थे नाना हुसैन जानते हैं

ये बात सच है कि, सय्यद ! हिसाब मुश्किल है
हमें है कैसे छुड़ाना हुसैन जानते हैं

शायर:
सय्यिद इम्तियाज़ हुसैन काज़मी

ना’त-ख़्वाँ:
सय्यिद ज़बीब मसूद
आबिद रऊफ़ क़ादरी

———————————————–

ख़ुदा का दीन बचाना हुसैन जानते हैं
यज़ीदियों को मिटाना हुसैन जानते हैं

ख़ुदा का दीन बचाना हुसैन जानते हैं
नबी से वा’दा निभाना हुसैन जानते हैं

कटे हुए सर-ए-अक़्दस से नोक-ए-नेज़ा पर
क़ुरआन-ए-पाक सुनाना हुसैन जानते हैं

वो जानते हैं कि मुन्किर है कौन पंज-तन का
है कौन उन का दीवाना हुसैन जानते हैं

क़सम ख़ुदा की ! वो नस्ल-ए-यज़ीद में होगा
जो आज भी नहीं माना हुसैन जानते हैं

हुआ जो कर्ब-ओ-बला में रिज़ा-ए-हक़ थी रिज़ा
ज़मीं से चश्में चलाना हुसैन जानते हैं

गवाही देती है, आसिफ़ ! ज़मीन-ए-कर्ब-ओ-बला
लहू से फूल खिलाना हुसैन जानते हैं

ना’त-ख़्वाँ:
अबू-बकर क़ादरी

 

KHuda ka deen bachaana husain jaante hai.n
sar-e-niyaaz kaTaana husain jaante hai.n

bata rahi hai hame.n ye zameen-e-karb-o-bala
yazeediyat ko miTaana husain jaante hai.n

jahaa.n me.n chhaae hue hai.n andhere baatil ke
charaaG-e-deen jalaana husain jaante hai.n

Gam-e-husain me.n aankho.n se ashk jaari hai.n
hai kaun un ka deewaana husain jaante hai.n

madina paak ki galiyo.n me.n dosh-e-aqdas par
uTha ke chalte the naana husain jaante hai.n

ye baat sach hai ki, Saiyad ! hisaab mushkil hai
hame.n hai kaise chhu.Daana husain jaante hai.n

Poet:
Sayed Imtiyaz Hussain Kazmi

Naat-Khwaan:
Sayed Zabeeb Masood
Abid Rauf Qadri

———————————–

KHuda ka deen bachaana husain jaante hai.n
yazeediyo.n ko miTaana husain jaante hai.n

KHuda ka deen bachaana husain jaante hai.n
nabi se waa’da nibhaana husain jaante hai.n

kaTe hue sar-e-aqdas se nok-e-neza par
qur.aan-e-paak sunaana husain jaante hai.n

wo jaante hai.n ki munkir hai kaun panj-tan ka
hai kaun un ka deewaana husain jaante hai.n

qasam KHuda ki ! wo nasl-e-yazeed me.n hoga
jo aaj bhi nahi.n maana husain jaante hai.n

huaa jo karb-o-bala me.n riza-e-haq thi riza
zamee.n se chashme.n chalaana husain jaante hai.n

gawaahi deti hai, Aasif ! zameen-e-karb-o-bala
lahoo se phool khilaana husain jaante hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *