Khuda Ka Fazl Nabi Ki Inaayaton Ka Safar Naat Lyrics

Khuda Ka Fazl Nabi Ki Inaayaton Ka Safar Naat Lyrics

 

 

हाज़िर हैं, मौला ! हाज़िर हैं
हाज़िर हैं, मौला ! हाज़िर हैं

लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !
लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !

ख़ुदा का फ़ज़्ल, नबी की ‘इनायतों का सफ़र
जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

बुलावा आया है ‘अर्श-ए-करम से इन के लिए
ख़ुशा-नसीब ये है कितनी ‘इज़्ज़तों का सफ़र

जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

ख़ुदा का फ़ज़्ल, नबी की ‘इनायतों का सफ़र
जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !
लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !

ख़ुशी के मारे ज़मीं पर क़दम नहीं पड़ते
कि होने वाला है तयबा के रास्तों का सफ़र

जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

ख़ुदा का फ़ज़्ल, नबी की ‘इनायतों का सफ़र
जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !
लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !

हरम से लौट के आएँगे बख़्शे-बख़्शाए
कि राह-ए-‘अफ़्व पे तय होगा सीरतों का सफ़र

जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

ख़ुदा का फ़ज़्ल, नबी की ‘इनायतों का सफ़र
जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !
लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !

मदीने मक्के को जाना, हयात की में’राज
है पस्तियों की तरफ़ से बुलंदियों का सफ़र

जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

ख़ुदा का फ़ज़्ल, नबी की ‘इनायतों का सफ़र
जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !
लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !

दर-ए-नबी की ज़ियारत है ख़ुल्द का मुज़्दा
बहुत बहुत हो मुबारक ये जन्नतों का सफ़र

जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

ख़ुदा का फ़ज़्ल, नबी की ‘इनायतों का सफ़र
जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !
लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !

शह-ए-‘अरब से हमारा सलाम भी कहना
वहाँ पहुँच के जो हासिल हो क़ुर्बतों का सफ़र

जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

ख़ुदा का फ़ज़्ल, नबी की ‘इनायतों का सफ़र
जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !
लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !

निगाह-ए-शौक़ तरसती है दीद की ख़ातिर
करा दें, आक़ा ! हमें भी ज़ियारतों का सफ़र

जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

ख़ुदा का फ़ज़्ल, नबी की ‘इनायतों का सफ़र
जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !
लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !

गुल-ए-दु’आ-ए-फ़रीदी भी पेश-ए-ख़िदमत है
न ख़त्म हो ये तुम्हारी स’आदतों का सफ़र

जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

ख़ुदा का फ़ज़्ल, नबी की ‘इनायतों का सफ़र
जहाँ में सब से मुबारक ये हाजियों का सफ़र

लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !
लब्बैक ! लब्बैक ! अल्लाहुम्म लब्बैक !

शायर:
मुहम्मद सलमान रज़ा फ़रीदी सिद्दीक़ी मिस्बाही

नात-ख़्वाँ:
हसनैन रज़ा अत्तारी

 

haazir hai.n, maula ! haazir hai.n
haazir hai.n, maula ! haazir hai.n

labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !
labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !

KHuda ka fazl, nabi ki ‘inaayato.n ka safar
jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

bulaawa aaya hai ‘arsh-e-karam se in ke liye
KHusha-naseeb ye hai kitni ‘izzato.n ka safar

jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

KHuda ka fazl, nabi ki ‘inaayato.n ka safar
jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !
labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !

KHushi ke maare zamee.n par qadam nahi.n Pa.Dte
ki hone waala hai tayba ke raasto.n ka safar

jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

KHuda ka fazl, nabi ki ‘inaayato.n ka safar
jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !
labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !

haram se lauT ke aae.nge baKHshe-baKHshaae
ki raah-e-‘afw pe tai hoga seerato.n ka safar

jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

KHuda ka fazl, nabi ki ‘inaayato.n ka safar
jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !
labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !

madine makke ko jaana, hayaat ki me’raaj
hai pastiyo.n ki taraf se bulandiyo.n ka safar

jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

KHuda ka fazl, nabi ki ‘inaayato.n ka safar
jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !
labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !

dar-e-nabi ki ziyaarat hai KHuld ka muzda
bahut bahut ho mubaarak ye jannato.n ka safar

jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

KHuda ka fazl, nabi ki ‘inaayato.n ka safar
jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !
labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !

shah-e-‘arab se hamaara salaam bhi kahna
wahaa.n pahunch ke jo haasil ho qurbato.n ka safar

jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

KHuda ka fazl, nabi ki ‘inaayato.n ka safar
jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !
labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !

nigaah-e-shauq tarasti hai deed ki KHaatir
kara de.n, aaqa ! hame.n bhi ziyaarato.n ka safar

jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

KHuda ka fazl, nabi ki ‘inaayato.n ka safar
jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !
labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !

gul-e-du’aa-e-Fareedi bhi pesh-e-KHidmat hai
na KHatm ho ye tumhari sa’aadato.n ka safar

jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

KHuda ka fazl, nabi ki ‘inaayato.n ka safar
jahaa.n me.n sab se mubaarak ye haajiyo.n ka safar

labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !
labbaik ! labbaik ! allahumm labbaik !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *