Khushboo Meri Zabaan Ne Lutaana Shuru Kiya Naat Lyrics

Khushboo Meri Zabaan Ne Lutaana Shuru Kiya Naat Lyrics

 

 

ख़ुश्बू मेरी ज़बाँ ने लुटाना शुरू किया
ना’त-ए-नबी जो मैंने सुनाना शुरू किया

मुनकर-नकीर ने कहा, ये कौन है बता
‘आशिक़ ने बस दुरूद सुनाना शुरू किया

जन्नत भी मुस्कुरा के मुझे देखने लगी
मैंने जो माँ का पाँव दबाना शुरू किया

बकरी के साथ शेर-ए-बबर खेलने लगा
जब बकरियाँ नबी ने चराना शुरू किया

दीवाने मुस्तफ़ा के सभी झूमने लगे
सुन कर के ना’त ना’रा लगाना शुरू किया

नज्दी वहाबियों का पसीना उतर गया
जब मेरे मुजाहिद ने हराना शुरू किया

चौहान मिस्ल-ए-गूँगा था ख़्वाजा के सामने
जब पंडितों को कलमा पढ़ाना शुरू किया

जब सुन लिया कि आ गए बी-आमिना के लाल
इब्लीस ने तो आँसू बहाना शुरू किया

देखा नदीम ने भी वो ख़ुश-हाल हो गया
नाम-ए-नबी पे जिस ने लुटाना शुरू किया

शायर:
नदीम रज़ा फ़ैज़ी

ना’त-ख़्वाँ:
नदीम रज़ा फ़ैज़ी

 

KHushboo meri zabaa.n ne luTaana shuru kiya
naa’t-e-nabi jo mai.n ne sunaana shuru kiya

munkar-nakeer ne kaha, ye kaun hai bata
‘aashiq ne bas durood sunaana shuru kiya

jannat bhi muskura ke mujhe dekhne lagi
mai.n ne jo maa.n ka paa.nw dabaana shuru kiya

bakari ke saath sher-e-babar khelne laga
jab bakriyaa.n nabi ne charaana shuru kiya

deewaane mustafa ke sabhi jhoomne lage
sun kar ke naa’t naa’ra lagaana shuru kiya

chauhaan misl-e-goonga tha KHwaaja ke saamne
jab pandito.n ko kalma pa.Dhaana shuru kiya

jab sun liya ki aa gae bi-aamina ke laal
iblis ne to aansu bahaana shuru kiya

dekha Nadeem ne bhi wo KHush-haal ho gaya
naam-e-nabi pe jis ne luTaana shuru kiya

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *