Khwaja-e-Hind Wo Darbaar Hai Aa’la Tera Naat Lyrics

Khwaja-e-Hind Wo Darbaar Hai Aa’la Tera Naat Lyrics

 

 

ख़्वाजा-ए-हिन्द ! वो दरबार है आ’ला तेरा
कभी महरूम नहीं माँगने वाला तेरा

मय सर-जोश दर आग़ोश है शीशा तेरा
बे-ख़ुदी छाए न क्यूँ पी के प्याला तेरा

है तेरी ज़ात अजब बहर-ए-हक़ीक़त, प्यारे !
किसी तैराक ने पाया न किनारा तेरा

गुलशन-ए-हिन्द है शादाब, कलेजे ठंडे
वाह ! ए अब्र-ए-करम ! ज़ोर बरसना तेरा

तेरे ज़र्रे पे म’आसी की घटा छाई है
इस तरफ़ भी कभी, ए महर ! हो जल्वा तेरा

फिर मुझे अपना दर-ए-पाक दिखा दे प्यारे
आँखें पुर-नूर हों फिर देख के जल्वा तेरा

ज़िल्ल-ए-हक़ ग़ौस पे है, ग़ौस का साया तुझ पर
साया-गुस्तर ! सर-ए-ख़ुद्दाम पे साया तेरा

तुझ को बग़दाद से हासिल हुई वो शान-ए-रफ़ी’अ
दंग रह जाते हैं सब देख के रुत्बा तेरा

क्यूँ न बग़दाद में जारी हो तेरा चश्मा-ए-फ़ैज़ !
बहर-ए-बग़दाद ही की नहर है दरिया तेरा

कुर्सी डाली तेरी तख़्त-ए-शह-जीलाँ के हुज़ूर
कितना ऊँचा किया अल्लाह ने पाया तेरा

जब से तू ने क़दम-ए-ग़ौस लिया है सर पर
औलिया सर पे क़दम लेते हैं, शाहा ! तेरा

मुह्य-ए-दीं ग़ौस हैं और ख़्वाजा मु’ईनुद्दीं है
ए हसन ! क्यूँ न हो महफ़ूज़ अक़ीदा तेरा

शायर:
मौलाना हसन रज़ा ख़ान

नात-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी

 

KHwaja-e-hind ! wo darbaar hai aa’la tera
kabhi mahroom nahi.n maa.ngne waala tera

mai sar-josh dar aaGosh hai sheesha tera
be-KHudi chaae na kyu.n pee ke pyaala tera

hai teri zaat ajab bahr-e-haqeeqat, pyaare !
kisi tairaak ne paaya na kinaara tera

gulshan-e-hind hai shaadaab, kaleje Thande
waah ! ai abr-e-karam ! zor barasna tera

tere zarre pe ma’aasee kee ghata chhai hai
is taraf bhi kabhi, ai mahr ! ho jalwa tera

phir mujhe apna dar-e-paak dikha de pyaare
aa.nkhe.n pur-noor ho.n phir dekh ke jalwa tera

zill-e-haq Gaus pe hai, Gaus ka saaya tujh par
saaya-gustar ! sar-e-KHuddaam pe saaya tera

tujh ko baGdaad se haasil hui wo shaan-e-rafee’a
dang rah jaate hai.n sab dekh ke rutba tera

kyu.n na baGdaad me.n jaari ho tera chashma-e-faiz !
bahr-e-baGdaad hee kee nahr hai dariya tera

kursi Daali teri taKHt-e-shah-e-jeelaa.n ke huzoor
kitna u.ncha kiya Allah ne paaya tera

jab se tu ne qadam-e-Gaus liya hai sar par
auliya sar pe qadam lete hai.n, shaaha ! tera

muhy-e-dee.n Gaus Hai.n aur KHwaja Mu’eenuddee.n hai
ai Hasan ! kyu.n na ho mahfooz aqeeda tera

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *