Kya Bharosa Hai Is Zindagi Ka Naat Lyrics

Kya Bharosa Hai Is Zindagi Ka Naat Lyrics

 

क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का
साथ देती नहीं ये किसी का

क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का
क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का

माल-ओ-दौलत, ये तेरी जवानी
चार दिन की है बस ज़िंदगानी
हक़ किया कर अदा बंदगी का
क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का

क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का
क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का

छोड़ कर तुझ को सब कुछ है जाना
कब्र है तेरा आख़िर ठिकाना
तोड़ मत भूल कर दिल किसी का
क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का

क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का
क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का

हम रहे न, मोहब्बत रहेगी
दास्ताँ अपनी दुनिया कहेगी
नाम रह जाएगा आदमी का
क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का

क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का
क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का

साथ देती नहीं ये किसी का

क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का
क्या भरोसा है इस ज़िंदगी का

नशीद-ख़्वाँ:
संदली अहमद

 

kya bharosa hai is zindagi ka
saath deti nahin ye kisi ka

kya bharosa hai is zindagi ka
kya bharosa hai is zindagi ka

maal-o-daulat, ye teri jawaani
chaar din ki hai bas zindagaani
haq kiya kar ada bandagi ka
kya bharosa hai is zindagi ka

kya bharosa hai is zindagi ka
kya bharosa hai is zindagi ka

chho.D kar tujh ko sab kuchh hai jaana
kabr hai tera aaKHir Thikaana
to.D mat bhool kar dil kisi ka
kya bharosa hai is zindagi ka

kya bharosa hai is zindagi ka
kya bharosa hai is zindagi ka

ham rahe na, mohabbat rahegi
dastaa.n apni duniya kahegi
naam rah jaaega aadmi ka
kya bharosa hai is zindagi ka

kya bharosa hai is zindagi ka
kya bharosa hai is zindagi ka

saath deti nahin ye kisi ka

kya bharosa hai is zindagi ka
kya bharosa hai is zindagi ka

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *