Kya Haal-e-Dil Sunaana Sarkaar Jaante Hain Naat Lyrics

Kya Haal-e-Dil Sunaana Sarkaar Jaante Hain Naat Lyrics

 

 

क्या हाल-ए-दिल सुनाना, सरकार जानते हैं
मेरे दर्द का फ़साना, सरकार जानते हैं

यहाँ सब तड़प रहे हैं, वो जानते हैं लेकिन
कब किस को है बुलाना, सरकार जानते हैं

ख़ामोश इस लिए थे, हैदर का था ‘अक़ीदा
सूरज को मोड़ लाना, सरकार जानते हैं

चुप-चाप मैं मदीने ये सोच कर खड़ा था
माँगेगा क्या दीवाना, सरकार जानते हैं

जुर्मों पे भी हूँ नादिम, लेकिन मैं मुत्मइन हूँ
बद-कार को छुड़ाना, सरकार जानते हैं

शाकिर ! मलूल न हो, क्यूँ-कर क़बूल न हो
ये ख़याल-ए-‘आजिज़ाना सरकार जानते हैं

शायर:
तनवीरुल्लाह शाकिर

ना’त-ख़्वाँ:
मुहम्मद आज़म क़ादरी
राओ अली हसनैन

 

kya haal-e-dil sunaana, sarkaar jaante hai.n
mere dard ka fasaana, sarkaar jaante hai.n

yahaa.n sab ta.Dap rahe hai.n, wo jaante hai.n lekin
kab kis ko hai bulaana, sarkaar jaante hai.n

KHaamosh is liye the, haidar ka tha ‘aqeeda
sooraj ko mo.D laana, sarkaar jaante hai.n

chup-chaap mai.n madine ye soch kar kha.Da tha
maa.ngega kya deewaana, sarkaar jaante hai.n

jurmo.n pe bhi hu.n naadim, lekin mai.n mutmain hu.n
bad-kaar ko chhu.Daana, sarkaar jaante hai.n

Shaakir ! malool na ho, kyu.n-kar qabool na ho
ye KHayaal-e-‘aajizaana sarkaar jaante hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *