Kya Tarana Hai Ghaus-ul-wara Ka Naat Lyrics

Kya Tarana Hai Ghaus-ul-wara Ka Naat Lyrics

 

 

Kya Tarana Hai Ghaus-ul-wara Ka | Kya Tarana Hai Ghausul Wara Ka

 

क्या तराना है ग़ौस-उल-वरा का
क्या घराना है ग़ौस-उल-वरा का
जिन के तल्वों को चूमें फ़रिश्ते
हाँ वो नाना है ग़ौस-उल-वरा का

जा के दरबार में, ऐ दीवानो !
हाल-ए-दिल अपना उन को सुनाओ
क्यूँ कि दरबार-ए-ख़ैर-उल-वरा में
आना-जाना है ग़ौस-उल-वरा का

इस लिए दर पे मेला लगा है
इस लिए भीड़ हर दम लगी है
बेबसों, बेकसों का सहारा
आस्ताना है ग़ौस-उल-वरा का

जान-ओ-दिल उन पे क़ुर्बान कर दो
‘इश्क़ में उन के ख़ुद को मिटा दो
ता-कि महशर में बोलें फ़रिश्ते
ये दीवाना है ग़ौस-उल-वरा का

मुस्तफ़ा जान-ए-रहमत के सदक़े
बादशाहत मिली उन को ऐसी
खा रहे हैं जो हम आज, ‘अज़मत !
दाना दाना है ग़ौस-उल-वरा का

शायर:
अज़मत रज़ा भागलपुरी

ना’त-ख़्वाँ:
अज़मत रज़ा भागलपुरी

 

kya taraana hai Gaus-ul-wara ka
kya gharaana hai Gaus-ul-wara ka
jin ke talwo.n ko choome.n farishte
haa.n wo naana hai Gaus-ul-wara ka

jaa ke darbaar me.n, ai deewaano !
haal-e-dil apna un ko sunaao
kyu.n ki darbaar-e-KHair-ul-wara me.n
aana-jaana hai Gaus-ul-wara ka

is liye dar pe mela laga hai
is liye bhee.D har dam lagi hai
bebaso.n, bekaso.n ka sahaara
aastaana hai Gaus-ul-wara ka

jaan-o-dil un pe qurbaan kar do
‘ishq me.n un ke KHud ko miTa do
taa-ki mahshar me.n bole farishte
ye deewaana hai Gaus-ul-wara ka

mustafa jaan-e-rahmat ke sadqe
baadshaahat mili un ko aisi
khaa rahe hai.n jo ham aaj, ‘Azmat !
daana daana hai Gaus-ul-wara ka

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *