Machi Hai Dhoom Payambar Ki Aamad Aamad Hai Naat Lyrics

Machi Hai Dhoom Payambar Ki Aamad Aamad Hai Naat Lyrics

 

 

मची है धूम, पयम्बर की आमद आमद है
हबीब-ए-ख़ालिक़-ए-अकबर की आमद आमद है

किया है सब्ज़ ‘अलम नस्ब बाम-ए-का’बा पर
कि दो-जहान के सरवर की आमद आमद है

न क्यूँ हो नूर से तब्दील कुफ़्र की ज़ुल्मत
ख़ुदा के माह-ए-मुनव्वर की आमद आमद है

है जिब्रईल को हुक्म-ए-ख़ुदा ख़बर कर दो
कि आज हक़ के पयम्बर की आमद आमद है

ख़ुशी के जोश में हैं बुलबुलें भी नग़्मा-कुनाँ
चमन में आज गुल-ए-तर की आमद आमद है

दो ज़ानू हो के अदब से पढ़ो सलात-ओ-सलाम
‘अज़ीज़-ओ-ख़ल्क़ के मसदर की आमद आमद है

जमील-ए-क़ादरी ! कह दे, खड़े हों अहल-ए-सुनन
हमारे हामी-ओ-यावर की आमद आमद है

शायर:
मौलाना जमीलुर्रहमान क़ादरी

 

machi hai dhoom, payambar ki aamad aamad hai
habeeb-e-KHaaliq-e-akbar ki aamad aamad hai

kiya hai sabz ‘alam nasb baam-e-kaa’ba par
ki do-jahaan ke sarwar ki aamad aamad hai

na kyu.n ho noor se tabdeel kufr ki zulmat
KHuda ke maah-e-munawwar ki aamad aamad hai

hai jibraeel ko hukm-e-KHuda KHabar kar do
ki aaj haq ke payambar ki aamad aamad hai

KHushi ke josh me.n hai.n bulbule.n bhi naGma-kunaa.n
chaman me.n aaj gul-e-tar ki aamad aamad hai

do zaanu ho ke adab se pa.Dho salaat-o-salaam
‘azeez-o-KHalq ke masdar ki aamad aamad hai

Jameel-e-Qadri ! keh de, kha.De ho.n ahl-e-sunan
hamaare haami-o-yaawar ki aamad aamad hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *