Madani Rang Mein Rang Jaao Mere Yaar Naat Lyrics

Madani Rang Mein Rang Jaao Mere Yaar Naat Lyrics

 

 

‘अत्तार मेरा पीर, ‘अत्तार मेरा पीर
‘अत्तार मेरा पीर, ‘अत्तार मेरा पीर

मुर्शिद है बे-मिसाल, लजपाल, बे-नज़ीर

मदनी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
मदनी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

मदनी क़ाफ़िला, चैनल मदनी,
हुलिया-ओ-सूरत मदनी,
मर्कज़-ओ-मजलिस मदनी,
हर सनीचर तज़्किरा वो भी मदनी,
मुन्ना-ओ-मुन्नी मदनी,
या’नी मदीने की है बहार

इसी माहौल के ‘आलिम का लक़ब है मदनी,
जामि’आ, मक्तब मदनी,
दर्स-ओ-मदारिस मदनी
और ये मेरे शैख़-ए-तरीक़त की ‘अता
दावत-ए-इस्लामी का है गुलशन-ए-गुलज़ार

मदनी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
मदनी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

मदनी क़ाफ़िलों में करता है जो दिल से सफ़र,
पाता है वो ख़ैर बशर की,
ब-ख़ुदा ! हुस्न-ए-नज़र
होता अगर उस का जिगर,
मिस्ल-ए-हजर,
उन की नज़र से
बिला-शक बनता वो गुलज़ार

मदनी क़ाफ़िलों में बटता है यूँ फ़ज़्ल-ए-ख़ुदा,
उल्फ़त-ए-महबूब-ए-ख़ुदा,
फ़ैज़-ए-‘अली शेर-ए-ख़ुदा,
सारे सहाबा से वफ़ा,
सारे बुज़ुर्गों की विला,
या’नी सँवर जाता है किरदार

मदनी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
मदनी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

जहाँ सिद्दीक़ की गुस्ताख़ी में,
हैदर की मोहब्बत में,
सहाबा से बग़ावत में,
यज़ीदों की मोहब्बत में,
‘अली शेर से नफ़रत में
भरे रिफ़्ज़-ओ-ख़वारिज का जगा फ़ितना-ए-बद-कार

कि सहाबा पे लिखा ऐसा रिसाला,
कि पड़ा ग़ैरों की तनक़ीद पे ताला,
मेरे ‘अत्तार ने तो अहल-ए-सुनन को दिया ना’रा
कि हर असहाब-ए-नबी
जन्नत-ए-आ’ला का है हक़दार

मदनी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
मदनी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

मदनी रंग में रंग जाओ
बलोची हो, कि गुजराती,
कि बंगाली, कि पंजाबी,
कि मैमन हो, कि हिंदी हो,
कि सिंधी हो,
कि अहनाफ़-ओ-शवाफ़े’अ हो, हनाबिल या मालिकी

यहाँ रंगत न ही सूरत से सरोकार,
जो है ‘आशिक़-ए-सरकार,
सहाबा का वफ़ादार,
करे ग़ौस-ओ-रज़ा,
ख़्वाजा-ओ-सब-औलिया से प्यार,
हमें है वही दरकार

मदनी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
मदनी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

बड़ा अबतर है मेरा हाल,
कि पल्ले नहीं आ’माल-ओ-ख़ुश-अफ़आल,
करो चश्म-ए-‘अता,
बहर-ए-रज़ा ! तुम करो बेहतर
मेरा किरदार-ए-बद-अतवार,
बने नेक ये अब्दुल कमाल

मेरी निस्बत हनफ़ी,
क़ादरी, अत्तारी, रज़वी हूँ मैं,
मुर्शिद की बदौलत मेरा ये नाम है,
बनता मेरा हर काम है
और फ़िक्र नहीं
मुर्शिद-ए-कामिल है,
कि मैं हूँ सग-ए-‘अत्तार

मदनी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
मदनी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

शायर:
अब्दुल कमाल क़ादरी अत्तारी

नात-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी

 

‘attar mera peer, ‘attar mera peer
‘attar mera peer, ‘attar mera peer

murshid hai be-misaal
lajpaal, be-nazeer

madani rang me.n rang jaao, mere yaar !
madani rang me.n rang jaao, mere yaar !

madani qaafila, channel madani,
huliya-o-soorat madani,
markaz-o-majlis madani,
har saneechar tazkira wo bhi madani,
munna-o-munni madani,
yaa’ni madine ki hai bahaar

isi maahaul ke ‘aalim ka laqab hai madani,
jaami’aa, maktab madani,
dars-o-madaaris madani
aur ye mere shaiKH-e-tareeqat ki ‘ata
dawat-e-islami ka hai gulshan-e-gulzaar

madani rang me.n rang jaao, mere yaar !
madani rang me.n rang jaao, mere yaar !

madani qaafilon me.n karta hai jo dil se safar,
paata hai wo KHair bashar ki,
ba-KHuda ! husn-e-nazar
hota agar us ka jigar,
misl-e-hajar,
un ki nazar se
bila-shak banta wo gulzaar

madani qaafilon me.n
baT.ta hai yu.n fazl-e-KHuda,
ulfat-e-mahboob-e-KHuda,
faiz-e-‘ali sher-e-KHuda,
saare sahaaba se wafa,
saare buzurgo.n ki wila,
yaa’ni sanwar jaata hai kirdaar

madani rang me.n rang jaao, mere yaar !
madani rang me.n rang jaao, mere yaar !

jahaa.n siddiq ki gustaaKHi me.n,
haidar ki mohabbat me.n,
sahaaba se baGaawat me.n,
yazeedo.n ki mohabbat me.n,
‘ali sher se nafrat me.n,
bhare rifz-o-KHawaarij ka
jaga fitna-e-bad-kaar

ki sahaaba pe likha aisa risaala,
ki pa.Da Gairo.n ki tanqeed pe taala,
mere ‘attar ne to ahl-e-sunan ko diya naa’ra
ki har ashaab-e-nabi
jannat-e-aa’la ka hai haqdaar

madani rang me.n rang jaao, mere yaar !
madani rang me.n rang jaao, mere yaar !

madani rang me.n rang jaao
balochi ho, ki gujarati,
ki bangaali, ki punjabi,
ki meman ho, ki hindi ho,
ki sindhi ho,
ki ahnaaf-o-shawaafe’a ho,
hanaabil ya maaliki

yahaa.n rangat na hi soorat se sarokaar,
jo hai ‘aashiq-e-sarkaar,
sahaaba ka wafaadaar,
kare Gaus-o-raza,
KHwaaja-o-sab-auliya se pyaar,
hame.n hai wahi darkaar

madani rang me.n rang jaao, mere yaar !
madani rang me.n rang jaao, mere yaar !

ba.Da abtar hai mera haal,
ki palle nahi.n aa’maal-o-KHush-af.aal,
karo chashm-e-‘ata,
bahr-e-raza ! tum karo behtar
mera kirdar-e-bad-atwaar,
bane nek ye Abdul Kamaal

meri nisbat hanafi,
qadri, attari, razvi hu.n mai.n,
murshid ki badaulat mera ye naam hai,
banta mera har kaam hai
aur fikr nahi.n
murshid-e-kaamil hai,
ki mai.n hu.n sag-e-‘attar

madani rang me.n rang jaao, mere yaar !
madani rang me.n rang jaao, mere yaar !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *