Madine Ke Zaair Salaam Un Se Kehna Naat Lyrics

Madine Ke Zaair Salaam Un Se Kehna Naat Lyrics

 

 

मदीने के ज़ाइर ! सलाम उन से कहना
तड़पते हैं तेरे ग़ुलाम, उन से कहना

हो जब सामने सब्ज़-गुंबद तुम्हारे
निहायत ‘अक़ीदत से दामन पसारे
है हाज़िर तुम्हारा ग़ुलाम, उन से कहना

मदीने के ज़ाइर ! सलाम उन से कहना
तड़पते हैं तेरे ग़ुलाम, उन से कहना

बड़ी चाहतों से है इस दर को पाया
पड़ा ही रहूँ, दर न छूटे तुम्हारा
न जाऊँगा अब तिश्ना-काम, उन से कहना

मदीने के ज़ाइर ! सलाम उन से कहना
तड़पते हैं तेरे ग़ुलाम, उन से कहना

फिरें कब तलक दर-ब-दर बे-ठिकाने
कहाँ जाएँ हम अपने दिल की सुनाने
तुम्ही तो बनाते हो काम, उन से कहना

मदीने के ज़ाइर ! सलाम उन से कहना
तड़पते हैं तेरे ग़ुलाम, उन से कहना

इसी आरज़ू में गुज़रते रहे दिन
कि पहुँचें दयार-ए-नबी हम भी लेकिन
नहीं है कोई इंतिज़ाम, उन से कहना

मदीने के ज़ाइर ! सलाम उन से कहना
तड़पते हैं तेरे ग़ुलाम, उन से कहना

गुमा इस तरह, आक़ा ! अपनी विला में
ख़ुमार-ए-मोहब्बत हो हर इक अदा में
यूँही हो बसर सुब्ह-ओ-शाम, उन से कहना

मदीने के ज़ाइर ! सलाम उन से कहना
तड़पते हैं तेरे ग़ुलाम, उन से कहना

शरी’अत पे उठे मेरा जो क़दम हो
वज़ीफ़ा तेरे नाम का दम-ब-दम हो
ये हो उम्र यूँही तमाम, उन से कहना

मदीने के ज़ाइर ! सलाम उन से कहना
तड़पते हैं तेरे ग़ुलाम, उन से कहना

दिखा दो अनस को वो दिलकश नज़ारे
तरसते हैं जिन को मुसलमान सारे
ये बातें ब-सद-एहतिराम, उन से कहना

मदीने के ज़ाइर ! सलाम उन से कहना
तड़पते हैं तेरे ग़ुलाम, उन से कहना

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी

 

madine ke zaair ! salaam un se kehna
ta.Dapte hai.n tere Gulaam, un se kehna

ho jab saamne sabz-gumbad tumhaare
nihaayat ‘aqeedat se daaman pasaare
hai haazir tumhaara Gulaam, un se kehna

madine ke zaair ! salaam un se kehna
ta.Dapte hai.n tere Gulaam, un se kehna

ba.Di chaahato.n se hai is dar ko paaya
pa.Da hi rahu.n, dar na chhoote tumhaara
na jaaunga ab tishna-kaam, un se kehna

madine ke zaair ! salaam un se kehna
ta.Dapte hai.n tere Gulaam, un se kehna

phire.n kab talak dar-ba-dar be-Thikaane
kahaa.n jaae.n ham apne dil ki sunaane
tumhi to banaate ho kaam, un se kehna

madine ke zaair ! salaam un se kehna
ta.Dapte hai.n tere Gulaam, un se kehna

isi aarzoo me.n guzarte rahe din
ki pahunche.n dayaar-e-nabi ham bhi lekin
nahi.n hai koi intizaam, un se kehna

madine ke zaair ! salaam un se kehna
ta.Dapte hai.n tere Gulaam, un se kehna

guma is tarah, aaqa ! apni wila me.n
KHumaar-e-mohabbat ho har ik ada me.n
yu.nhi ho basar sub.h-o-shaam, un se kehna

madine ke zaair ! salaam un se kehna
ta.Dapte hai.n tere Gulaam, un se kehna

sharee’at pe uThe mera jo qadam ho
wazeefa tere naam ka dam-ba-dam ho
ye ho umr yu.nhi tamaam, un se kehna

madine ke zaair ! salaam un se kehna
ta.Dapte hai.n tere Gulaam, un se kehna

dikha do Anas ko wo dilkash nazaare
taraste hai.n jin ko musalmaan saare
ye baate.n ba-sad-ehtiraam, un se kehna

madine ke zaair ! salaam un se kehna
ta.Dapte hai.n tere Gulaam, un se kehna

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *