Madine Ko Jaaen Ye Jee Chaahta Hai Naat Lyrics

Madine Ko Jaaen Ye Jee Chaahta Hai Naat Lyrics

 

मदीने को जाएँ ये जी चाहता है
मुक़द्दर बनाएँ ये जी चाहता है

मदीने को जाएँ ये जी चाहता है

मदीने के आक़ा ! दो ‘आलम के मौला !
तेरे पास आएँ ये जी चाहता है

मदीने को जाएँ ये जी चाहता है

जहाँ दोनों ‘आलम हैं महव-ए-तमन्ना
वहाँ सर झुकाएँ ये जी चाहता है

मदीने को जाएँ ये जी चाहता है

मुहम्मद की बातें, मुहम्मद की सीरत
सुनें और सुनाएँ ये जी चाहता है

मदीने को जाएँ ये जी चाहता है

दिलों से जो निकलें दयार-ए-नबी में
सुनें वो सदाएँ ये जी चाहता है

मदीने को जाएँ ये जी चाहता है

पहुँच जाएँ, बहज़ाद ! जब हम मदीने
तो ख़ुद को न पाएँ ये जी चाहता है

मदीने को जाएँ ये जी चाहता है

शायर:
बहज़ाद लखनवी

ना’त-ख़्वाँ:
ज़ुल्फ़िक़ार अली हुसैनी

 

madine ko jaae.n ye jee chaahta hai
muqaddar banaae.n ye jee chaahta hai

madine ko jaae.n ye jee chaahta hai

madine ke aaqa ! do ‘aalam ke maula !
tere paas aae.n ye jee chaahta hai

madine ko jaae.n ye jee chaahta hai

jahaa.n dono.n ‘aalam hai.n mahw-e-tamanna
wahaa.n sar jhukaae.n ye jee chaahta hai

madine ko jaae.n ye jee chaahta hai

muhammad ki baate.n, muhmmad ki seerat
sune.n aur sunaae.n ye jee chaahta hai

madine ko jaae.n ye jee chaahta hai

dilo.n se jo nikle.n dayaar-e-nabi me.n
sune.n wo sadaae.n ye jee chaahta hai

madine ko jaae.n ye jee chaahta hai

pahunch jaae.n, Behzaad ! jab ham madine
to KHud ko na paae.n ye jee chaahta hai

madine ko jaae.n ye jee chaahta hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *