Mahboob-e-Kibriya Se Mera Salaam Kehna Naat Lyrics

Mahboob-e-Kibriya Se Mera Salaam Kehna Naat Lyrics

 

महबूब-ए-किब्रिया से मेरा सलाम कहना
सुलतान-ए-अंबिया से मेरा सलाम कहना

तुझ पर ख़ुदा की रहमत, ए ‘आज़िम-ए-मदीना !
नूर-ए-मुहम्मदी से रौशन हो तेरा सीना
जब साहिल-ए-‘अरब पर पहुँचे तेरा सफ़ीना
उस वक़्त सर झुका कर, लिल्लाह बा-क़रीना
उस ज़ात-ए-मुस्तफ़ा से मेरा सलाम कहना

महबूब-ए-किब्रिया से मेरा सलाम कहना
सुलतान-ए-अंबिया से मेरा सलाम कहना

दरबार-ए-मुस्तफ़ा की हासिल हो जब हुज़ूरी
पेश-ए-नज़र हो जिस दम वो बारगाह-ए-नूरी
हो दूर रंज-ओ-कुल्फ़त, मिट जाए फ़िक्र-ए-दूरी
दीदार-ए-मुस्तफ़ा की जब आरज़ू हो पूरी
वश्शम्स की ज़िया से मेरा सलाम कहना

महबूब-ए-किब्रिया से मेरा सलाम कहना
सुलतान-ए-अंबिया से मेरा सलाम कहना

राह-ए-तलब की लज़्ज़त जब क़ल्ब को मज़ा दे
‘इश्क़-ए-नबी-ए-मुर्सल जब रूह को जिला दे
जब सोज़-ए-‘आशिक़ाना जज़्बात को जगा दे
हस्ती का ज़र्रा ज़र्रा जब आह की सदा दे
‘आलम के दिलरुबा से मेरा सलाम कहना

महबूब-ए-किब्रिया से मेरा सलाम कहना
सुलतान-ए-अंबिया से मेरा सलाम कहना

साहिल पे आते आते मौजों को चूम लेना
मौजों के बा’द दिलकश ज़र्रों को चूम लेना
उस पाक सरज़मीं की राहों को चूम लेना
फूलों को चूम लेना, काँटों को चूम लेना
फिर नूर-ए-वद्दुहा से मेरा सलाम कहना

महबूब-ए-किब्रिया से मेरा सलाम कहना
सुलतान-ए-अंबिया से मेरा सलाम कहना

रौज़े की जालियों के जिस दम क़रीब जाना
रो रो के हाल-ए-मुस्लिम सरकार को सुनाना
बेसाख़्ता मचलना, जोश-ए-जुनूँ दिखाना
सीने में भी बसाना, आँखों में भी बसाना
फिर नूर-ए-हक़-नुमा से मेरा सलाम कहना

महबूब-ए-किब्रिया से मेरा सलाम कहना
सुलतान-ए-अंबिया से मेरा सलाम कहना

शायर:
अल्लामा शारिक़ इरायानी

ना’त-ख़्वाँ:
अश्फ़ाक़ अत्तारी – मेहमूद अत्तारी
अज़ीम अत्तारी – मदनी रज़ा अत्तारी

 

mahboob-e-kibriya se mera salaam kehna
sultaan-e-ambiya se mera salaam kehna

tujh par KHuda ki rahmat, ai ‘aazim-e-madina !
noor-e-muhammadi se raushan ho tera seena
jab saahil-e-‘arab par pahunche tera safeena
us waqt sar jhuka kar, lillaah ! baa-qareena
us zaat-e-mustafa se mera salaam kehna

mahboob-e-kibriya se mera salaam kehna
sultaan-e-ambiya se mera salaam kehna

darbaar-e-mustafa ki haasil ho jab huzoori
pesh-e-nazar ho jis dam wo baargaah-e-noori
ho door ranj-o-kulfat, miT jaae fikr-e-doori
deedaar-e-mustafa ki jab aarzoo ho poori
washshams ki ziya se mera salaam kehna

mahboob-e-kibriya se mera salaam kehna
sultaan-e-ambiya se mera salaam kehna

raah-e-talab ki lazzat jab qalb ko maza de
‘ishq-e-nabi-e-mursal jab rooh ko jila de
jab soz-e-‘aashiqaana jazbaat ko jaga de
hasti ka zarra zarra jab aah ki sada de
‘aalam ke dilruba se mera salaam kehna

mahboob-e-kibriya se mera salaam kehna
sultaan-e-ambiya se mera salaam kehna

saahil pe aate aate maujo.n ko choom lena
maujo.n ke baa’d dilkash zarro.n ko choom lena
us paak sarzamee.n ki raaho.n ko choom lena
phoolo.n ko choom lena, kaanTo.n ko choom lena
phir noor-e-wadduha se mera salaam kehna

mahboob-e-kibriya se mera salaam kehna
sultaan-e-ambiya se mera salaam kehna

rauze ki jaaliyo.n ke jis dam qareeb jaana
ro ro ke haal-e-muslim sarkaar ko sunaana
besaKHta machalna, josh-e-junoo.n dikhaana
seene me.n bhi basaana, aankho.n me.n bhi basaana
phir noor-e-haq-numa se mera salaam kehna

mahboob-e-kibriya se mera salaam kehna
sultaan-e-ambiya se mera salaam kehna

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *