Main Bhaarat Ka Musalmaan Naat Lyrics

Main Bhaarat Ka Musalmaan Naat Lyrics

 

 

मैं भारत का मुसलमान, मैं भारत का मुसलमान
राजा मेरा ख़्वाजा है इस देश का सुल्तान

मैं भारत का मुसलमान, मैं भारत का मुसलमान

दिल्ली में निज़ामुद्दीन, मुंबई में ‘अली हाजी
कलियर में मेरा साबिर, है जिन की बड़ी हस्ती
और शहर-ए-बरेली में रहते हैं रज़ा ख़ान

मैं भारत का मुसलमान, मैं भारत का मुसलमान

ये लाल-क़िला’ देखो, ये ताज महल देखो
मीनारों की ऊँचाई है मिस्ल-ए-जबल देखो
जाओगे जहाँ, पाओगे बस मेरी ही पहचान

मैं भारत का मुसलमान, मैं भारत का मुसलमान

छोड़ा था न छोड़ूँगा, बातिल ! ये वतन मैं तो
बाँधे हुए फिरता हूँ माथे से क़फ़न मैं तो
मैं शान हूँ भारत की, भारत है मेरी जान

मैं भारत का मुसलमान, मैं भारत का मुसलमान

कुछ भी हो मगर आगे बढ़ना नहीं छोड़ूँगा
भारत के लुटेरों से लड़ना नहीं छोड़ूँगा
इस मुल्क की उल्फ़त में हो जाऊँगा क़ुर्बान

मैं भारत का मुसलमान, मैं भारत का मुसलमान

क्यूँ डर के जियूँ ! रखूँ क्यूँ बंद मैं मुँह अपना
जंगों में बहाया है मैं ने भी लहू अपना
इस देश की मिट्टी पे मेरा भी है एहसान

मैं भारत का मुसलमान, मैं भारत का मुसलमान

उस मुल्क के गुन गाओ, जिस मुल्क में रहते हो
गुलफ़ाम रज़ा ! हक़ है लोगों से जो कहते हो
भूला था न भूलूँगा आक़ा का ये फ़रमान

मैं भारत का मुसलमान, मैं भारत का मुसलमान

शायर:
गुलफ़ाम रज़ा हस्सानी

नात-ख़्वाँ:
गुलफ़ाम रज़ा हस्सानी

 

mai.n bhaarat ka musalmaan, mai.n bhaarat ka musalmaan
raaja mera KHwaja hai is desh ka sultaan

mai.n bhaarat ka musalmaan, mai.n bhaarat ka musalmaan

dilli me.n nizaamuddin, mumbai me.n ‘ali haji
kaliyar me.n mera saabir, hai jin ki ba.Di hasti
aur shahr-e-bareli me.n rahte hai.n raza KHaan

mai.n bhaarat ka musalmaan, mai.n bhaarat ka musalmaan

ye laal-qila’ dekho, ye taaj mahal dekho
meenaro.n ki unchaee hai misl-e-jabal dekho
jaaoge jahaa.n, paaoge bas meri hi pahchaan

mai.n bhaarat ka musalmaan, mai.n bhaarat ka musalmaan

chho.Da tha na chho.Du.nga, baatil ! ye watan mai.n to
baandhe hue phirta hu.n maathe se qafan mai.n to
mai.n shaan hu.n bhaarat ki, bhaarat hai meri jaan

mai.n bhaarat ka musalmaan, mai.n bhaarat ka musalmaan

kuchh bhi ho magar aage ba.Dhna nahi.n chho.Du.ga
bhaarat ke lutero.n se la.Dna nahi.n chho.Du.ga
is mulk ki ulfat me.n ho jaaunga qurbaan

mai.n bhaarat ka musalmaan, mai.n bhaarat ka musalmaan

kyu.n Dar ke jiyu.n ! raKHoo.n kyu.n band mai.n moonh apna
jango.n me.n bahaaya hai mai.n ne bhi lahoo apna
is desh ki miTTi pe mera bhi hai ehsaan

mai.n bhaarat ka musalmaan, mai.n bhaarat ka musalmaan

us mulk ke gun gaao, jis mulk me.n rahte ho
Gulfaam Raza ! haq hai logo.n se jo kahte ho
bhoola tha na bhuloo.nga aaqa ka ye farmaan

mai.n bhaarat ka musalmaan, mai.n bhaarat ka musalmaan

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *