Main Hun Ghaus Ka Diwana Fikar Nahin Koi Naat Lyrics

Main Hun Ghaus Ka Diwana Fikar Nahin Koi Naat Lyrics

 

Main Hun Ghaus Ka Diwana Fikar Nahin Koi | Main Hoon Ghous Ka Deewana Fikar Nahin Koi

 

मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ !
मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ !

जीलाँ जीलाँ जीलाँ जीलानी !
जीलाँ जीलाँ जीलाँ जीलानी !

मेरा पीर, मेरा पीर ! दस्त-गीर, दस्त-गीर !
मेरा पीर, मेरा पीर ! दस्त-गीर, दस्त-गीर !

मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई
मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई

फ़िकर नहीं कोई, बाबा ! फ़िकर नहीं कोई
फ़िकर नहीं कोई, बाबा ! फ़िकर नहीं कोई

चाह-ए-दुश्मन हो ज़माना, फ़िकर नहीं कोई
चाह-ए-दुश्मन हो ज़माना, फ़िकर नहीं कोई

मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई
मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई

शैअल-लिल्लाह, या अब्दुल क़ादिर
या साकिन बग़दाद ! या शैख़-उल-जीलानी !

जीलाँ जीलाँ जीलाँ जीलानी !
जीलाँ जीलाँ जीलाँ जीलानी !

मेरा पीर, मेरा पीर ! दस्त-गीर, दस्त-गीर !
मेरा पीर, मेरा पीर ! दस्त-गीर, दस्त-गीर !

जानता ये है तेरी करामत हर इक चाहने वाला
डूबी हुई कश्ती को तुम ने इक पल में निकाला
जब भी मुश्किल आए, ना’रा ग़ौस का लगाना

ना’रा ग़ौस का लगाना, फ़िकर नहीं कोई
ना’रा ग़ौस का लगाना, फ़िकर नहीं कोई

मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई
मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई

फ़िकर नहीं कोई, बाबा ! फ़िकर नहीं कोई
फ़िकर नहीं कोई, बाबा ! फ़िकर नहीं कोई

चाह-ए-दुश्मन हो ज़माना, फ़िकर नहीं कोई
चाह-ए-दुश्मन हो ज़माना, फ़िकर नहीं कोई

मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई
मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई

दर पे तुम्हारे जो भी आए, मन की मुरादें पाए
हर इक को ख़ैरात मिली है, ख़ाली न कोई जाए
तेरे दर के टुकड़ों से पलता है सारा ज़माना

मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई
मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई

शैअल-लिल्लाह, या अब्दुल क़ादिर
या साकिन बग़दाद ! या शैख़-उल-जीलानी !

जीलाँ जीलाँ जीलाँ जीलानी !
जीलाँ जीलाँ जीलाँ जीलानी !

मेरा पीर, मेरा पीर ! दस्त-गीर, दस्त-गीर !
मेरा पीर, मेरा पीर ! दस्त-गीर, दस्त-गीर !

क़ब्र में आ के नकीरों ने इक धोबी से पूछा
अल्लाह से, महबूब से उस के, तेरा क्या है रिश्ता ?
बोला, मैं हूँ ग़ौस का शैदा, हाथ न लगाना

मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई
मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई

फ़िकर नहीं कोई, बाबा ! फ़िकर नहीं कोई
फ़िकर नहीं कोई, बाबा ! फ़िकर नहीं कोई

चाह-ए-दुश्मन हो ज़माना, फ़िकर नहीं कोई
चाह-ए-दुश्मन हो ज़माना, फ़िकर नहीं कोई

मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई
मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई

ग़ौस-ए-आ’ज़म के गुन गाना, चाहे दुनिया रूठे
ग़ौस पिया का दामन तेरे हाथों से न छूटे
चाहे मुश्किल जो भी आए, तुम न कभी घबराना

मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई
मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई

शैअल-लिल्लाह, या अब्दुल क़ादिर
या साकिन बग़दाद ! या शैख़-उल-जीलानी !

जीलाँ जीलाँ जीलाँ जीलानी !
जीलाँ जीलाँ जीलाँ जीलानी !

मेरा पीर, मेरा पीर ! दस्त-गीर, दस्त-गीर !
मेरा पीर, मेरा पीर ! दस्त-गीर, दस्त-गीर !

जान-ओ-दिल सब तुम पे फ़िदा हैं, ग़ौस पिया जीलानी !
वलियों के सरदार तुम्हीं हो, महबूब-ए-सुब्हानी !
जो भी पुकारे दिल से तुम को, उस की मदद को आना

मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई
मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई

फ़िकर नहीं कोई, बाबा ! फ़िकर नहीं कोई
फ़िकर नहीं कोई, बाबा ! फ़िकर नहीं कोई

चाह-ए-दुश्मन हो ज़माना, फ़िकर नहीं कोई
चाह-ए-दुश्मन हो ज़माना, फ़िकर नहीं कोई

मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई
मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई

रो रो के मैं तुम को पुकारूँ, अपने दर पे बुलाओ
मौला ‘अली के सदक़े में क़िस्मत को चमकाओ
हसन और मुबश्शिर को भी अपने दर पे बुलाना

मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई
मैं हूँ ग़ौस का दीवाना, फ़िकर नहीं कोई

शैअल-लिल्लाह, या अब्दुल क़ादिर
या साकिन बग़दाद ! या शैख़-उल-जीलानी !

जीलाँ जीलाँ जीलाँ जीलानी !
जीलाँ जीलाँ जीलाँ जीलानी !

मेरा पीर, मेरा पीर ! दस्त-गीर, दस्त-गीर !
मेरा पीर, मेरा पीर ! दस्त-गीर, दस्त-गीर !

ना’त-ख़्वाँ:
मुहम्मद मुबश्शिर हसन

 

meera.n ! meera.n ! meera.n ! meera.n !
meera.n ! meera.n ! meera.n ! meera.n !

jeela.n jeela.n jeela.n jeelaani !
jeela.n jeela.n jeela.n jeelaani !

mera peer, mera peer ! dast-geer, dast-geer !
mera peer, mera peer ! dast-geer, dast-geer !

mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi
mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi

fikar nahi.n koi, baaba ! fikar nahi.n koi
fikar nahi.n koi, baaba ! fikar nahi.n koi

chaahe dushman ho zamaana, fikar nahi.n koi
chaahe dushman ho zamaana, fikar nahi.n koi

mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi
mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi

shaial-lillah, ya abdul qaadir !
ya saakin baGdaad ! ya shaiKH-ul-jeelaani !

jeela.n jeela.n jeela.n jeelaani !
jeela.n jeela.n jeela.n jeelaani !

mera peer, mera peer ! dast-geer, dast-geer !
mera peer, mera peer ! dast-geer, dast-geer !

jaanta hai ye teri karaamat har ik chaahne waala
Doobi hui kashti ko tum ne ik pal me.n nikaala
jab bhi mushkil aae, naa’ra Gaus ka lagaana

naa’ra Gaus ka lagaana, fikar nahi.n koi
naa’ra Gaus ka lagaana, fikar nahi.n koi

mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi
mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi

fikar nahi.n koi, baaba ! fikar nahi.n koi
fikar nahi.n koi, baaba ! fikar nahi.n koi

chaahe dushman ho zamaana, fikar nahi.n koi
chaahe dushman ho zamaana, fikar nahi.n koi

mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi
mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi

dar pe tumhaare jo bhi aae, man ki muraade.n paae
har ik ko KHairaat mili hai, KHaali na koi jaae
tere dar ke Tukdo.n se palta hai saara zamaana

mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi
mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi

shaial-lillah, ya abdul qaadir !
ya saakin baGdaad ! ya shaiKH-ul-jeelaani !

jeela.n jeela.n jeela.n jeelaani !
jeela.n jeela.n jeela.n jeelaani !

mera peer, mera peer ! dast-geer, dast-geer !
mera peer, mera peer ! dast-geer, dast-geer !

qabr me.n aa ke nakeero.n ne ik dhobi se poochha
allah se, mahboob se us ke, tera kya hai rishta ?
bola, mai.n hu.n Gaus ka shaida, haath na lagaana

mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi
mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi

fikar nahi.n koi, baaba ! fikar nahi.n koi
fikar nahi.n koi, baaba ! fikar nahi.n koi

chaahe dushman ho zamaana, fikar nahi.n koi
chaahe dushman ho zamaana, fikar nahi.n koi

mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi
mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi

Gaus-e-aa’zam ke gun gaana, chaahe duniya rooThe
Gaus piya ka daaman tere haatho.n se na chhooTe
chaahe mushkil jo bhi aae, tum na kabhi ghabraana

mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi
mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi

shaial-lillah, ya abdul qaadir !
ya saakin baGdaad ! ya shaiKH-ul-jeelaani !

jeela.n jeela.n jeela.n jeelaani !
jeela.n jeela.n jeela.n jeelaani !

mera peer, mera peer ! dast-geer, dast-geer !
mera peer, mera peer ! dast-geer, dast-geer !

jaan-o-dil sab tum pe fida hai.n, Gaus piya jeelaani !
waliyo.n ke sardaar tumhi.n ho, mahboob-e-sub.haani !
jo bhi pukaare dil se tum ko, us ki madad ko aana

mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi
mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi

fikar nahi.n koi, baaba ! fikar nahi.n koi
fikar nahi.n koi, baaba ! fikar nahi.n koi

chaahe dushman ho zamaana, fikar nahi.n koi
chaahe dushman ho zamaana, fikar nahi.n koi

mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi
mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi

ro ro ke mai.n tum ko pukaaru.n, apne dar pe bulaao
maula ‘ali ke sadqe me.n qismat ko chamkaao
Hasan aur Mubashshir ko bhi apne dar pe bulaana

mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi
mai.n hu.n Gaus ka deewaana, fikar nahi.n koi

shaial-lillah, ya abdul qaadir !
ya saakin baGdaad ! ya shaiKH-ul-jeelaani !

jeela.n jeela.n jeela.n jeelaani !
jeela.n jeela.n jeela.n jeelaani !

mera peer, mera peer ! dast-geer, dast-geer !
mera peer, mera peer ! dast-geer, dast-geer !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *