Main Kis Munh Se Bolun Huzoor Aap Ka Hun Naat Lyrics

Main Kis Munh Se Bolun Huzoor Aap Ka Hun Naat Lyrics

 

 

हुज़ूर ! आप का हूँ, मगर सोचता हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ
गुनाहों के दरिया में डूबा हुआ हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

किया रब ने पैदा ‘इबादत की ख़ातिर
मोहब्बत ‘अता की इता’अत की ख़ातिर
ज़माने के चक्कर में फिर भी फँसा हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

बहुत चाहता हूँ, मदीने में आऊँ
वहाँ आ के पलकों से झाड़ू लगाऊँ
मगर कैसे आऊँ, बहुत ही बुरा हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

मेरे वास्ते आप रातों को रोए
कभी चैन से एक पल भी न सोए
यहाँ चैन से रोज़ मैं सो रहा हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

हराम और हलाल आप ने सब बताया
हर इक राज़-ए-हस्ती से पर्दा उठाया
मैं सब जान कर भी बुरा बन गया हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

हसद, झूट, ग़ीबत समाई है मुझ में
ज़माने की सारी बुराई है मुझ में
बहुत तौबा करता हूँ, फिर तोड़ता हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

हुज़ूर ! अपने मद्दाह की लाज रखिए
है जावेद मेरा, ख़ुदा से ये कहिए
गुनहगार हूँ, मुँह छुपाए खड़ा हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

ना’त-ख़्वाँ:
मुहम्मद अली फ़ैज़ी

 

huzoor ! aap ka hu.n, magar sochta hu.n
mai.n kis mu.nh se bolu.n, huzoor ! aap ka hu.n
gunaaho.n ke dariya me.n Dooba huaa hu.n
mai.n kis mu.nh se bolu.n, huzoor ! aap ka hu.n

kiya rab ne paida ‘ibaadat ki KHaatir
mohabbat ‘ata ki itaa’at ki KHaatir
zamaane ke chakkar me.n phir bhi fansa hu.n
mai.n kis mu.nh se bolu.n, huzoor ! aap ka hu.n

bahut chaahta hu.n, madine me.n aau.n
wahaa.n aa ke palako.n se jhaa.Du lagaau.n
magar kaise aau.n, bahut hi bura hu.n
mai.n kis mu.nh se bolu.n, huzoor ! aap ka hu.n

mere waaste aap raato.n ko roe
kabhi chain se ek pal bhi na soe
yahaa.n chain se roz mai.n so raha hu.n
mai.n kis mu.nh se bolu.n, huzoor ! aap ka hu.n

haraam aur halaal aap ne sab bataaya
har ik raaz-e-hasti se parda uThaaya
mai.n sab jaan kar bhi bura ban gaya hu.n
mai.n kis mu.nh se bolu.n, huzoor ! aap ka hu.n

hasad, jhooT, Geebat samaai hai mujh me.n
zamaane ki saari buraai hai mujh me.n
bahut tauba karta hu.n, phir to.Dta hu.n
mai.n kis mu.nh se bolu.n, huzoor ! aap ka hu.n

huzoor ! apne maddaah ki laaj rakhiye
hai Jaaved Mera, KHuda se ye kahiye
gunahgaar hu.n, mu.nh chhupaae kha.Da hu.n
mai.n kis mu.nh se bolu.n, huzoor ! aap ka hu.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *