Main To Panj-tan Ka Ghulaam Hun Naat Lyrics

Main To Panj-tan Ka Ghulaam Hun Naat Lyrics

 

मैं तो पंज-तन का ग़ुलाम हूँ
मैं ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम हूँ
मैं फ़क़ीर-ए-ख़ैरुल-अनाम हूँ
मैं तो पंज-तन का ग़ुलाम हूँ

मुझे ‘इश्क़ है तो ख़ुदा से है
मुझे ‘इश्क़ है तो रसूल से
ये करम है सारा बतूल का
मेरे मुँह से आए महक सदा
जो मैं नाम लूँ तेरा झूम के

मैं तो पंज-तन का ग़ुलाम हूँ
मैं तो पंज-तन का ग़ुलाम हूँ

मुझे ‘इश्क़ सर्व-ओ-समन से है
मुझे ‘इश्क़ सारे चमन से है
मुझे ‘इश्क़ उन के वतन से है
मुझे ‘इश्क़ उन की गली से है
मुझे ‘इश्क़ है तो ‘अली से है
मुझे ‘इश्क़ है तो हसन से है
मुझे ‘इश्क़ है तो हुसैन से
मुझे ‘इश्क़ शाह-ए-ज़मन से है

मैं तो पंज-तन का ग़ुलाम हूँ
मैं तो पंज-तन का ग़ुलाम हूँ

हुआ कैसे तन से वो सर जुदा
जहाँ ‘इश्क़ है वहीं कर्बला
मेरी बात उन ही की बात है
मेरे सामने वोही ज़ात है
वही जिन को शेर-ए-ख़ुदा कहें
जिन्हें बाब-ए-सल्ले-‘अला कहें
वही जिन को ज़ात-ए-‘अली कहें
वही पुख़्ता हैं, मैं तो ख़ाम हूँ

मैं तो पंज-तन का ग़ुलाम हूँ
मैं तो पंज-तन का ग़ुलाम हूँ

मैं, क़मर ! हूँ शा’इर-ए-बे-नवा
मेरी हैसियत ही भला है क्या
वो हैं बादशाहों के बादशाह
मैं हूँ उन के दर का बस इक गदा
मेरा पंज-तन से है वासिता
मेरा निस्बतों का है सिलसिला
मैं फ़क़ीर-ए-ख़ैरुल-अनाम हूँ

मैं तो पंज-तन का ग़ुलाम हूँ
मैं तो पंज-तन का ग़ुलाम हूँ

शायर:
यूसुफ़ क़मर

नात-ख़्वाँ:
अब्दुल हबीब अत्तारी

 

main to panj-tan ka Gulaam hu.n
mai.n Gulaam ibn-e-Gulaam hu.n
mai.n faqeer-e-KHairul-anaam hu.n
main to panj-tan ka Gulaam hu.n

mujhe ‘ishq hai to KHuda se hai
mujhe ‘ishq hai to rasool se
ye karam hai saara batool ka
mere munh se aae mahak sada
jo mai.n naam loo.n tera jhoom ke

main to panj-tan ka Gulaam hu.n
main to panj-tan ka Gulaam hu.n

mujhe ‘ishq sarw-o-saman se hai
mujhe ‘ishq saare chaman se hai
mujhe ‘ishq un ke watan se hai
mujhe ‘ishq un ki gali se hai
mujhe ‘ishq hai to ‘ali se hai
mujhe ‘ishq hai to hasan se hai
mujhe ‘ishq hai to husain se
mujhe ‘ishq shaah-e-zaman se hai

main to panj-tan ka Gulaam hu.n
main to panj-tan ka Gulaam hu.n

huaa kaise tan se wo sar juda
jahaa.n ‘ishq hai wahi.n karbala
meri baat un hi ki baat hai
mere saamne wohi zaat hai
wahi jin ko sher-e-KHuda kahe.n
jinhe.n baab-e-salle-‘ala kahe.n
wahi jin ko zaat-e-‘ali kahe.n
wahi puKHta hai.n, mai.n to KHaam hu.n

main to panj-tan ka Gulaam hu.n
main to panj-tan ka Gulaam hu.n

mai.n, Qamar ! hu.n shaa’ir-e-be-nawa
meri haisiyat hi bhala hai kya
wo hai.n baadshaaho.n ke baadshaah
mai.n hu.n un ke dar ka bas ik gada
mera panj-tan se hai waasita
mera nisbato.n ka hai silsila
mai.n faqeer-e-KHairul-anaam hu.n

main to panj-tan ka Gulaam hu.n
main to panj-tan ka Gulaam hu.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *