Man Ki Muraaden Paaenge Khwaja Ke Darbaar Mein Naat Lyrics

Man Ki Muraaden Paaenge Khwaja Ke Darbaar Mein Naat Lyrics

 

 

मन की मुरादें पाएँगे ख़्वाजा के दरबार में
बिगड़ी को बनवाएँगे ख़्वाजा के दरबार में

गीत ख़ुशी के गाएँगे ख़्वाजा के दरबार में
झूम झूम के जाएँगे ख़्वाजा के दरबार में

लाखों करोड़ों जाते हैं, मन की मुरादें पाते हैं
हम भी कभी तो जाएँगे ख़्वाजा के दरबार में

ख़्वाजा की बारात में रहमत की बरसात है
नूर के बादल छाएँगे ख़्वाजा के दरबार में

मुज़्तर हैं, ग़म वाले हैं, दुनिया के ठुकराए हैं
दर्द सुनाने जाएँगे ख़्वाजा के दरबार में

उन की चौखट चूम कर, अजमेर नगर में घूम कर
दिल के गुल खिल जाएँगे ख़्वाजा के दरबार में

‘उर्स में उन के चारों ओर नूर के बादल बरसेंगे
नूरी हम कहलाएँगे ख़्वाजा के दरबार में

दिल की मुरादें पाने को, दीन की राहें पाने को
बारी बारी जाएँगे ख़्वाजा के दरबार में

हम हैं, बेख़ुद अत्तारी ! उन के ग़ुलामों में शामिल
मिल कर मिदहत गाएँगे ख़्वाजा के दरबार में

शायर:
वसीम बेख़ुद माण्डलवी

नात-ख़्वाँ:
सिदरतुल-मुंतहा

 

man ki muraade.n paae.nge KHwaja ke darbaar me.n
bigDi ko banwaae.nge KHwaja ke darbaar me.n

geet KHushi ke gaae.nge KHwaja ke darbaar me.n
jhoom jhoom ke jaae.nge KHwaja ke darbaar me.n

laakho.n karoDo.n jaate hai.n, man kee muraade.n paate hai.n
ham bhi kabhi to jaae.nge KHwaja ke darbaar me.n

KHwaja kee baaraat me.n rahmat kee barsaat hai
noor ke baadal chhae.nge KHwaja ke darbaar me.n

muztar hai.n, Gam waale hai.n, duniya ke Thukraae hai.n
dard sunaane jaae.nge KHwaja ke darbaar me.n

un ki chaukhat choom kar, ajmer nagar me.n ghoom kar
dil ke gul khil jaae.nge KHwaja ke darbaar me.n

‘urs me.n un ke chaaro.n or noor ke baadal barse.nge
noori ham kahlaae.nge KHwaja ke darbaar me.n

dil ki muraade.n paane ko, deen kee raahe.n paane ko
baari baari jaae.nge KHwaja ke darbaar me.n

ham hai.n, BeKHud Attari ! un ke Gulaamo.n me.n shaamil
mil kar midhat gaae.nge KHwaja ke darbaar me.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *