Meeran Waliyon Ke Imam Naat Lyrics

Meeran Waliyon Ke Imam Naat Lyrics

 

मीराँ ! वलियों के इमाम !
दे दो पंज-तन के नाम
हम ने झोली है फैलाई बड़ी देर से
डालो नज़र-ए-करम, सरकार !
अपने मँगतों पर इक बार
हम ने आस है लगाई बड़ी देर से

मेरे चाँद ! मैं सदक़े, आजा इधर भी
चमक उठे दिल की गली, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

मीराँ ! वलियों के इमाम !
दे दो पंज-तन के नाम
हम ने झोली है फैलाई बड़ी देर से

तेरे रब ने मालिक किया तेरे जद को
तेरे घर से दुनिया पली, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

मीराँ ! वलियों के इमाम !
दे दो पंज-तन के नाम
हम ने झोली है फैलाई बड़ी देर से

तेरा रुत्बा आ’ला न क्यूँ हो, कि मौला !
तू है इब्न-ए-मौला-‘अली, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

मीराँ ! वलियों के इमाम !
दे दो पंज-तन के नाम
हम ने झोली है फैलाई बड़ी देर से

क़दम गर्दन-ए-औलिया पर है तेरा
तू है रब का ऐसा वली, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

मीराँ ! वलियों के इमाम !
दे दो पंज-तन के नाम
हम ने झोली है फैलाई बड़ी देर से

तुम जो बनाओ, बात बनेगी
दोनों जहाँ में लाज रहेगी
लजपाल ! करम अब कर दो
मँगतों की झोली भर दो
भर दो कासा सब का पंज-तनी ख़ैर से

मीराँ ! वलियों के इमाम !
दे दो पंज-तन के नाम
हम ने झोली है फैलाई बड़ी देर से

कहा हम ने ‘या ग़ौस अग़िसनी’ तो दम में
हर आई मुसीबत टली, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

मीराँ ! वलियों के इमाम !
दे दो पंज-तन के नाम
हम ने झोली है फैलाई बड़ी देर से

दिल की कली मेरी आज खिली है
आप आए हैं, ख़बर मिली है
ज़रा मेरे घर भी आओ
लिल्लाह ! करम फ़रमाओ
हम ने महफ़िल है सजाई बड़ी देर से

मीराँ ! वलियों के इमाम !
दे दो पंज-तन के नाम
हम ने झोली है फैलाई बड़ी देर से

दिल की कली मेरी आज खिली है
आप आए हैं, ख़बर मिली है
ज़रा मेरे घर भी आओ
लिल्लाह ! करम फ़रमाओ
मैं ने कुटिया है सजाई बड़ी देर से

मीराँ ! वलियों के इमाम !
दे दो पंज-तन के नाम
हम ने झोली है फैलाई बड़ी देर से

रोते रोते ‘उम्र गुज़ारी
कब आएगी अपनी बारी
ज़रा जल्वा मुझे दिखा दो
मेरे दिल की कली खिला दो
मैं ने बिपता है सुनाई बड़ी देर से

मीराँ ! वलियों के इमाम !
दे दो पंज-तन के नाम
हम ने झोली है फैलाई बड़ी देर से

क़ल्ब-ओ-नज़र में नूर समाया
एक सुरूर सा ज़हन पे छाया
जब मीराँ लगे पिलाने
मेरे होश लगे ठिकाने
ऐसी पी है मैं ने मय दस्त-गीर से

मीराँ ! वलियों के इमाम !
दे दो पंज-तन के नाम
हम ने झोली है फैलाई बड़ी देर से

मुश्किल जब भी सर पर आई
तेरी रहमत आड़े आई
जब मैं ने तुम्हें पुकारा
काम आया तेरा सहारा
चलता ‘आसी का गुज़ारा तेरी ख़ैर से

मीराँ ! वलियों के इमाम !
दे दो पंज-तन के नाम
हम ने झोली है फैलाई बड़ी देर से

फ़िदा तुम पे हो जाए नूरी-ए-मुज़्तर
ये है इस की ख़्वाहिश-दिली, ग़ौसे-आ’ज़म !

मीराँ ! वलियों के इमाम !
दे दो पंज-तन के नाम
हम ने झोली है फैलाई बड़ी देर से

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
मुहम्मद मुबश्शिर हसन क़ादरी
जवेरिआ सलीम
मुहम्मद हस्सान रज़ा क़ादरी

 

meera.n ! waliyo.n ke imaam !
de do panj-tan ke naam
ham ne jholi hai phailaai ba.Di der se
Daalo nazar-e-karam ik baar
apne mangto.n par ik baar
ham ne aas hai lagaai ba.Di der se

mere chaand ! mai.n sadqe, aaja idhar bhi
chamak uThe dil ki gali, Gaus-e-aa’zam !

meera.n ! waliyo.n ke imaam !
de do panj-tan ke naam
ham ne jholi hai phailaai ba.Di der se

tere rab ne maalik kiya tere jad ko
tere ghar se duniya pali, Gaus-e-aa’zam !

meera.n ! waliyo.n ke imaam !
de do panj-tan ke naam
ham ne jholi hai phailaai ba.Di der se

tera rutba aa’la na kyu.n ho, ki maula !
tu hai ibn-e-maula-‘ali, Gaus-e-aa’zam !

meera.n ! waliyo.n ke imaam !
de do panj-tan ke naam
ham ne jholi hai phailaai ba.Di der se

qadam gardan-e-auliya par hai tera
tu hai rab ka aisa wali, Gaus-e-aa’zam !

meera.n ! waliyo.n ke imaam !
de do panj-tan ke naam
ham ne jholi hai phailaai ba.Di der se

tum jo banaao, baat banegi
dono.n jaha.n me.n laaj rahegi
lajpaal ! karam ab kar do
mangto.n ki jholi bhar do
bhar do kaasa sab ka panj-tani KHair se

meera.n ! waliyo.n ke imaam !
de do panj-tan ke naam
ham ne jholi hai phailaai ba.Di der se

kaha ham ne ‘ya Gaus aGisni’ to dam me.n
har aai museebat Tali, Gaus-e-aa’zam !

meera.n ! waliyo.n ke imaam !
de do panj-tan ke naam
ham ne jholi hai phailaai ba.Di der se

dil ki kali meri aaj khili hai
aap aae hai.n, KHabar mili hai
zara mere ghar bhi aao
lillah ! karam farmaao
ham ne mehfil hai sajaai ba.Di der se

meera.n ! waliyo.n ke imaam !
de do panj-tan ke naam
ham ne jholi hai phailaai ba.Di der se

dil ki kali meri aaj khili hai
aap aae hai.n, KHabar mili hai
zara mere ghar bhi aao
lillah ! karam farmaao
mai.n ne kuTiya hai sajaai ba.Di der se

meera.n ! waliyo.n ke imaam !
de do panj-tan ke naam
ham ne jholi hai phailaai ba.Di der se

rote rote ‘umr guzaari
kab aaegi apni baari
zara jalwa mujhe dikha do
mere dil ki kali khila do
mai.n ne bipta hai sunaai ba.Di der se

meera.n ! waliyo.n ke imaam !
de do panj-tan ke naam
ham ne jholi hai phailaai ba.Di der se

qalb-o-nazar me.n noor samaaya
ek suroor saa zehn pe chhaaya
jab meera.n lage pilaane
mere hosh lage Thikaane
aisi pee hai mai.n ne mai dast-geer se

meera.n ! waliyo.n ke imaam !
de do panj-tan ke naam
ham ne jholi hai phailaai ba.Di der se

mushkil jab bhi sar par aai
teri rahmat aa.De aai
jab mai.n ne tumhe.n pukaara
kaam aaya tera sahaara
chalta ‘Aasi ka guzaara teri KHair se

meera.n ! waliyo.n ke imaam !
de do panj-tan ke naam
ham ne jholi hai phailaai ba.Di der se

fida tum pe ho jaae Noori-e-muztar
ye hai is ki KHwaahish-dili, Gaus-e-aa’zam !

meera.n ! waliyo.n ke imaam !
de do panj-tan ke naam
ham ne jholi hai phailaai ba.Di der se

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *