Mehshar Mein Maghfirat Ki Khabar Ghaus-e-Pak Hain Naat Lyrics

Mehshar Mein Maghfirat Ki Khabar Ghaus-e-Pak Hain Naat Lyrics

 

महशर में मग़्फ़िरत की ख़बर ग़ौस-ए-पाक हैं
सब कुछ मेरा है, मेरे अगर ग़ौस-ए-पाक हैं

ख़ैर-उल-वरा की आल हैं मौला ‘अली के लाल
ख़ैरुन्निसा के नूर-ए-नज़र ग़ौस-ए-पाक हैं

बग़दाद मोहतरम है दयार-ए-नबी के बा’द
या’नी रसूल इधर तो उधर ग़ौस-ए-पाक हैं

उन के नसब में नूर-ए-मुहम्मद है जल्वा-गर
बेशक हसन के लख़्त-ए-जिगर ग़ौस-ए-पाक हैं

गर्दन पे हर वली के क़दम ग़ौस-ए-पाक का
तारे हैं सब वली तो क़मर ग़ौस-ए-पाक हैं

क्या ख़ूब है नसीर ये मिस्रा’ अमीर का
अल्लाह भी उधर है जिधर ग़ौस-ए-पाक हैं

ना’त-ख़्वाँ:
अमीर हम्ज़ा ख़लीलाबादी

 

mehshar me.n maGfirat ki KHabar Gaus-e-paak hai.n
sab kuchh mera hai, mere agar Gaus-e-paak hai.n

KHair-ul-wara ki aal hai.n maula ‘ali ke laal
KHairunnisa ke noor-e-nazar Gaus-e-paak hai.n

baGdaad mohtaram hai dayaar-e-nabi ke baa’d
yaa’ni rasool idhar to udhar Gaus-e-paak hai.n

un ke nasab me.n noor-e-muhammad hai jalwa-gar
beshak hasan ke laKHt-e-jigar Gaus-e-paak hai.n

gardan pe har wali ke qadam Gaus-e-paak ka
taare hai.n sab wali to qamar Gaus-e-paak hai.n

kya KHoob hai naseer ye misra’ Ameer ka
allah bhi udhar hai jidhar Gaus-e-paak hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *