Mera Baadshaah Husain Hai Aisa Baadshaah Husain Hai Naat Lyrics

Mera Baadshaah Husain Hai Aisa Baadshaah Husain Hai Naat Lyrics

 

 

ये बात किस क़दर हसीं
जो कह गए मो’ईनुद्दीं
कि दीन की पनाह हुसैन है

मेरा हुसैन है !
मेरा बादशाह हुसैन है !

अमन का मेहर-ओ-माह भी
जो शाहों का है शाह भी
ऐसा बादशाह हुसैन है

मेरा हुसैन है !
मेरा बादशाह हुसैन है !

करे कोई जो हम-सरी
किसी की क्या मजाल है
हुसैन हर लिहाज़ से
जहाँ में बे-मिसाल है

ये हो चुका है फ़ैसला
न कोई दूसरा हसन
न कोई दूसरा हुसैन है

मेरा हुसैन है !
मेरा बादशाह हुसैन है !

है जिस की फ़िक्र कर्बला
हुसैन वो दिमाग़ है
ये पंज-तन की अंजुमन
का पाँचवा चराग़ है

हसन का पहला हम-सफ़र
‘अली का दूसरा पिसर
इमाम तीसरा हुसैन है

मेरा हुसैन है !
मेरा बादशाह हुसैन है !

हिदायत-ए-हुसैन पर
‘अमल करो, ए मोमिनो !
रहेंगे हम बहिश्त में
यक़ीं रखो, ए मोमिनो !

क़ुबूल होगी हर दु’आ
किसी से क्यूँ डरें भला
हमारा वास्ता हुसैन है

मेरा हुसैन है !
मेरा बादशाह हुसैन है !

दु’आओं में, निदाओं में
जो वास्ता इसे बनाएगा
बहिश्त की जो राहों का
रास्ता इसे बनाएगा

न वास्ते में तोड़ है
न रास्ते में मोड़ है
ऐसी सीधी राह हुसैन है

मेरा हुसैन है !
मेरा बादशाह हुसैन है !

क़ज़ा के बा’द फिर मुझे
नई हयात मिल गई
‘अज़ाब से, ‘इताब से
मुझे निजात मिल गई

सवाल जब किया गया
है कौन तेरा पेशवा
तो मैंने कह दिया हुसैन है

मेरा हुसैन है !
मेरा बादशाह हुसैन है !

शहीद-ए-कर्बला का ग़म
जिसे भी ना-गवार है
वो बद-‘अमल, है बद-नसब
उसी पे बे-शुमार है

अरे ओ दुश्मन-ए-अज़ल !
तू मर ज़रा क़बर में चल
पता चलेगा क्या हुसैन है

मेरा हुसैन है !
मेरा बादशाह हुसैन है !

करेगा जो मुख़ालिफ़त
ग़म-ए-हुसैन की यहाँ
वो होगा हश्र, हश्र में
कि अल-हफ़िज़-ओ-अल-अमाँ

जहाँ भी छुपने जाएगा
कहीं भी बच न पाएगा
कि हर जगह मेरा हुसैन है

मेरा हुसैन है !
मेरा बादशाह हुसैन है !

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ अहमद रज़ा क़ादरी
मीलाद रज़ा क़ादरी

 

ye baat kis qadar hasee.n
jo keh gae mo’inuddi.n
ki deen ki panaah husain hai

mera husain hai !
mera baadshaah husain hai !

aman ka mehr-o-maah bhi
jo shaaho.n ka hai shaah bhi
aisa baadshaah husain hai

mera husain hai !
mera baadshaah husain hai !

kare koi jo ham-sari
kisi ki kya majaal hai
husain har lihaaz se
jahaa.n me.n be-misaal hai

ye ho chuka hai faisla
na koi doosra hasan
na koi doosra husain hai

mera husain hai !
mera baadshaah husain hai !

hai jis ki fikr karbala
husain wo dimaaG hai
ye panj-tan ki anjuman
ka paanchwa charaaG hai

hasan ka pehla ham-safar
‘ali ka doosra pisar
imaam teesra husain hai

mera husain hai !
mera baadshaah husain hai !

hidaayat-e-husain par
‘amal karo, ai momino !
rahenge ham bahisht me.n
yaqee.n rakho, ai momino !

qubool hogi har du’aa
kisi se kyu.n Dare.n bhala
hamaara waasta husain hai

mera husain hai !
mera baadshaah husain hai !

du’aao.n me.n, nidaao.n me.n
jo waasta ise banaaega
bahisht ki jo raaho.n ka
raasta ise banaaega

na waaste me.n to.D hai
na raaste me.n mo.D hai
aisi seedhi raah husain hai

mera husain hai !
mera baadshaah husain hai !

qaza ke baa’d phir mujhe
naee hayaat mil gae
‘azaab se, ‘itaab se
mujhe nijaat mil gai

sawaal jab kiya gaya
hai kaun tera peshwa
to mai.n ne keh diya husain hai

mera husain hai !
mera baadshaah husain hai !

shaheed-e-karbala ka Gam
jise bhi naa-gawaar hai
wo bad-‘amal, hai bad-nasab
usi pe be-shumaar hai

are o dushman-e-azal !
tu mar zara qabar me.n chal
pata chalega kya husain hai

mera husain hai !
mera baadshaah husain hai !

karega jo muKHaalifat
Gam-e-husain ki yahaa.n
wo hoga hashr, hashr me.n
ki al-hafeez-o-al-amaa.n

jahaa.n bhi chhupne jaaega
kahi.n bhi bach na paaega
ki har jagah mera husain hai

mera husain hai !
mera baadshaah husain hai !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *