Mera Qaid Hai Ahmed Raza Mera Quaid Hai Ahmed Raza Naat Lyrics

Mera Qaid Hai Ahmed Raza Mera Quaid Hai Ahmed Raza Naat Lyrics

 

 

मेरे रज़ा ! मीठे रज़ा ! सोहणे रज़ा ! मुर्शिद रज़ा !

रज़ा रज़ा राज़ा ! रज़ा रज़ा राज़ा !
रज़ा रज़ा राज़ा ! रज़ा रज़ा राज़ा !

रज़ा रज़ा रज़ा रज़ा रज़ा रज़ा !
रज़ा रज़ा रज़ा रज़ा रज़ा रज़ा !

मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा
मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा

घर घर चराग़-ए-‘इश्क़ जलाया रज़ा ने है
ईमान और ‘अक़ीदा बचाया रज़ा ने है

मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा
मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा

मुर्शिद है रज़ा रज़ा !
रहबर है रज़ा रज़ा !
क़ाइद है रज़ा रज़ा !
मोहसिन है रज़ा रज़ा !
सोचा है रज़ा रज़ा !
लिखा है रज़ा रज़ा !
समझा है रज़ा रज़ा !
करना है रज़ा रज़ा !

जब जब क़लम उठाया लिखी शान-ए-मुस्तफ़ा
ग़ैरों के हक़ में इस ने कभी कुछ नहीं लिखा
वो है इमाम-ए-‘इश्क़-ओ-मोहब्बत, है बा-वफ़ा
‘इश्क़-ए-नबी का जाम पिलाया रज़ा ने है

मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा
मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा

आल-ए-नबी की जिस घड़ी ख़ुश्बू इन्हें मिली
‘इज़्ज़त की इन की आप ने, रुकवाई पालकी
काँधे पे इन को रख के घुमाया गली गली
क्या है अदब ये हम को सिखाया रज़ा ने है

है अटल फ़ैसला, सिर्फ़ ना’रा नहीं
जो रज़ा का नहीं वो हमारा नहीं

खोल कर कान सुन ले, ऐ गुस्ताख़-ए-दीं !
तू भी सुन ले, ऐ शैतान के हम-नशीं !
कोई रिश्ता हमारा तुम्हारा नहीं
जो रज़ा का नहीं वो हमारा नहीं

जिस में हुब्ब-ए-‘अली का हो दा’वा फ़क़त
वो जो बाक़ी सहाबा को समझे ग़लत
उस ने ईमान दिल में उतारा नहीं
जो रज़ा का नहीं वो हमारा नहीं

अहल-ए-ईमाँ ! ज़रूरी है हुब्ब-ए-नबी
बा’द इन के न आएगा कोई नबी
इस पे समझौता, राग़िब ! गवारा नहीं
जो रज़ा का नहीं वो हमारा नहीं

मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा
मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा

मेरे प्यारे आ’ला हज़रत !
मेरे प्यारे आ’ला हज़रत !

गुस्ताख़-ए-मुस्तफ़ा से न कुछ राब्ता रखो
चाहे वो बाप भाई या कोई ‘अज़ीज़ हो
भेजो सलाम आक़ा पे, ना’तें पढ़ा करो
क्या ख़ूब ‘इश्क़ हम को सिखाया रज़ा ने है

मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा
मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा

मेरा रज़ा बरेली में गर आया न होता
अल्लाह ही जाने हिन्द में फिर हाल क्या होता
मुन्किर नबी के दीन के सब चीखने लगे
जिस दम क़लम को अपने उठाया रज़ा ने है

मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा
मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा

दे कर फ़तावा-रज़विय्या, हक़ पर चला दिया
गुमराह, बद-‘अक़ीदों से हम को बचा दिया
हर एक को नबी का दीवाना बना दिया
जन्नत के रास्ते पे चलाया रज़ा ने है

मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा
मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा

शौक़-ए-फ़रीदी ! सैफ़-ए-‘उमर इस का है क़लम
तहरीर से है इस की ‘अदू के दिलों में ग़म
लहराके ‘इश्क़-ए-शाह का चारों तरफ़ ‘अलम
आ’दा-ए-दीं का क़ल’आ गिराया रज़ा ने है

मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा
मेरा क़ाइद है अहमद रज़ा

मुर्शिद है रज़ा रज़ा !
रहबर है रज़ा रज़ा !
क़ाइद है रज़ा रज़ा !
मोहसिन है रज़ा रज़ा !
सोचा है रज़ा रज़ा !
लिखा है रज़ा रज़ा !
समझा है रज़ा रज़ा !
करना है रज़ा रज़ा !

रज़ा रज़ा राज़ा ! रज़ा रज़ा राज़ा !
रज़ा रज़ा राज़ा ! रज़ा रज़ा राज़ा !

शायर:
शौक़ फ़रीदी
मिस्बाह-उल-हक़ राग़िब

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी
हाफ़िज़ अहसन क़ादरी

 

mere raza ! meethe raza !
sohne raza ! murshid raza !

raza raza raza ! raza raza raza !
raza raza raza ! raza raza raza !

raza raza raza raza raza raza !
raza raza raza raza raza raza !

mera qaaid hai ahmad raza
mera qaaid hai ahmad raza

ghar ghar charaaG-e-‘ishq jalaaya raza ne hai
imaan aur ‘aqeeda bachaaya raza ne hai

mera qaaid hai ahmad raza
mera qaaid hai ahmad raza

murshid hai raza raza !
rahbar hai raza raza !
qaaid hai raza raza !
mohsin hai raza raza !
socha hai raza raza !
likha hai raza raza !
samjha hai raza raza !
karna hai raza raza !

jab jab qalam uThaaya likhi shaan-e-mustafa
Gairo.n ke haq me.n is ne kabhi kuchh nahi.n likha
wo hai imaam-e-‘ishq-o-mohabbat, hai baa-wafa
‘ishq-e-nabi ka jaam pilaaya raza ne hai

mera qaaid hai ahmad raza
mera qaaid hai ahmad raza

aal-e-nabi ki jis gha.Di KHushboo inhe.n mili
‘izzat ki in ki aap ne, rukwaai paalki
kaandhe pe in ko rakh ke ghumaaya gali gali
kya hai adab ye ham ko sikhaaya raza ne hai

hai aTal faisla, sirf naa’ra nahi.n
jo raza ka nahi.n wo hamaara nahi.n

khol kar kaam sun le, ai gustaaKH-e-dee.n !
tu bhi sun le, ai shaitaan ke ham-nashee.n !
koi rishta hamaara tumhaara nahi.n
jo raza ka nahi.n wo hamaara nahi.n

jis me.n hubb-e-‘ali ka ho daa’wa faqat
wo jo baaqi sahaaba ko samjhe Galat
us ne imaan dil me.n uTaara nahi.n
jo raza ka nahi.n wo hamaara nahi.n

ahl-e-imaa.n ! zaroori hai hubb-e-nabi
baa’d in ke na aaega koi nabi
is pe samjhauta, RaaGib ! gawaara nahi.n
jo raza ka nahi.n wo hamaara nahi.n

mera qaaid hai ahmad raza
mera qaaid hai ahmad raza

mere pyaare aa’la hazrat !
mere pyaare aa’la hazrat !

gustaaKH-e-mustafa se na kuchh raabta rakho
chaahe wo baap bhaai ya koi ‘azeez ho
bhejo salaam aaqa pe, naa’te.n pa.Dha karo
kya KHoob ‘ishq ham ko sikhaaya raza ne hai

mera qaaid hai ahmad raza
mera qaaid hai ahmad raza

mera raza bareli me.n gar aaya na hota
allah hi jaane hind me.n phir haal kya hota
munkir nabi ke deen se sab cheeKHne lage
jis dam qalam ko apne uThaaya raza ne hai

mera qaaid hai ahmad raza
mera qaaid hai ahmad raza

de kar fataawa-razwiyya, haq par chala diya
gumraah, bad-‘aqeedo.n se ham ko bacha diya
har ek ko nabi ka deewaana bana diya
jannat ke raaste pe chalaaya raza ne hai

mera qaaid hai ahmad raza
mera qaaid hai ahmad raza

Shauq-e-Fareedi ! saif-e-‘umar is ka hai qalam
tehreer se hai is ki ‘adoo ke dilo.n me.n Gam
lehraake ‘ishq-e-shaah ka chaaro.n taraf ‘alam
aa’da-e-dee.n ka qal’aa giraaya raza ne hai

mera qaaid hai ahmad raza
mera qaaid hai ahmad raza

murshid hai raza raza !
rahbar hai raza raza !
qaaid hai raza raza !
mohsin hai raza raza !
socha hai raza raza !
likha hai raza raza !
samjha hai raza raza !
karna hai raza raza !

raza raza raza ! raza raza raza !
raza raza raza ! raza raza raza !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *