Mere Dil Mein Ishq-e-Huzoor Hai Ishq-e-Muhammad Naat Lyrics

Mere Dil Mein Ishq-e-Huzoor Hai Ishq-e-Muhammad Naat Lyrics

 

 

मदीने वाले का जो भी ग़ुलाम हो जाए
क़सम ख़ुदा की ! वो ‘आली-मक़ाम हो जाए

नबी के ‘इश्क़ का जिस दिल में दाग़ रौशन हो
तो उस पे आतिश-ए-दोज़ख़ हराम हो जाए

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है
मैं जहाँ में सब से अमीर हूँ
मुझे ताजदारी से क्या ग़रज़
मैं दर-ए-नबी का फ़क़ीर हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है
मैं जहाँ में सब से अमीर हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है

लहद में ‘इश्क़-ए-मुहम्मद का दाग़ रखता हूँ
अँधेरी क़ब्र में रौशन चराग़ रखता हूँ

मैं ग़ुलाम-ए-पंजतन-ए-पाक हूँ
मैं दर-ए-बतूल की ख़ाक हूँ
मैं हसन-हुसैन का हूँ गदा
मैं सग-ए-जनाब-ए-अमीर हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है
मैं जहाँ में सब से अमीर हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है

ख़ालिक़ ने मुझ को मेरी तलब से सिवा दिया
सरमायादार-ए-‘इश्क़-ए-मुहम्मद बना दिया

मुझे मेहर-ओ-माह से हो काम क्या
तेरे नक़्श-ए-पा पे मैं हूँ फ़िदा
मुझे क्या रिहाई से वास्ता
तेरी ज़ुल्फ़ का मैं असीर हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है
मैं जहाँ में सब से अमीर हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है

कभी मेरे ज़ुल्मत-कदे में आ
इसे अपने नूर से जगमगा
मैं अज़ल के रोज़ से मुंतज़िर
तेरा, ऐ सिराज-ए-मुनीर ! हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है
मैं जहाँ में सब से अमीर हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है

ये ‘अता है ‘इश्क़-ए-हुज़ूर की
मुझे जिस ने ऐसी हयात दी
जो न बुझ सके वो चराग़ हूँ
जो न मिट सके वो लकीर हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है
मैं जहाँ में सब से अमीर हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है

जिसे कहिए जूद-ओ-करम की जा
वो है दर जहाँ में हुज़ूर का
उसी दर से मुझ को ख़ुदा मिला
उसी आस्ताँ का फ़क़ीर हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है
मैं जहाँ में सब से अमीर हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है

शह-ए-यसरिबी ! तेरे हुस्न की
किसे ताब जो करे हम-सरी

न गुलों में ऐसी शगुफ़्तगी
न ये रंग-ओ-बू, न ये ताज़गी

तेरी मिस्ल कोई हुवा न हो
तेरे सदक़े जाऊँ मैं, या नबी !

मैं हूँ साजिद-ए-दर-ए-मुस्तफ़ा
ये मेरे हुज़ूर की है ‘अता
कहाँ उन का दर, कहाँ मेरा सर
मैं तो इक ग़ुलाम-ए-हक़ीर हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है
मैं जहाँ में सब से अमीर हूँ

मेरे दिल में ‘इश्क़-ए-हुज़ूर है

ना’त-ख़्वाँ:
नुसरत फ़तेह अली ख़ान
सिब्तैन हैदर

 

madine waale ka jo bhi Gulaam ho jaae
qasam KHuda ki ! wo ‘aali-maqaam ho jaae

nabi ke ‘ishq ka jis dil me.n daaG raushan ho
to us pe aatish-e-dozaKH haraam ho jaae

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai
mai.n jahaa.n me.n sab se ameer hu.n
mujhe taajdaari se kya garaz
mai.n dar-e-nabi ka faqeer hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai
mai.n jahaa.n me.n sab se ameer hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai

lahad me.n ‘ishq-e-muhammad ka daaG rakhta hu.n
andheri qabr me.n raushan charaaG rakhta hu.n

mai.n Gulaam-e-panjtan-e-paak hu.n
mai.n dar-e-batool ki KHaak hu.n
mai.n hasan-husain ka hu.n gada
mai.n sag-e-janaab-e-ameer hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai
mai.n jahaa.n me.n sab se ameer hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai

KHaaliq ne mujh ko meri talab se siwa diya
sarmaayaadaar-e-‘ishq-e-muhammad bana diya

mujhe mehr-o-maah se ho kaam kya
tere naqsh-e-paa pe mai.n hu.n fida
mujhe kya rihaai se waasta
teri zulf ka mai.n aseer hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai
mai.n jahaa.n me.n sab se ameer hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai

kabhi mere zulmat-kade me.n aa
ise apne noor se jagmaga
mai.n azal ke roz se muntazir
tera, ai siraaj-e-muneer ! hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai
mai.n jahaa.n me.n sab se ameer hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai

ye ‘ata hai ‘ishq-e-huzoor ki
mujhe jis ne aisi hayaat di
jo na bujh sake wo charaaG hu.n
jo na miT sake wo lakeer hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai
mai.n jahaa.n me.n sab se ameer hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai

jise kahiye jood-o-karam ki jaa
wo hai dar jahaa.n me.n huzoor ka
usi dar se mujh ko KHuda mila
usi aastaa.n ka faqeer hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai
mai.n jahaa.n me.n sab se ameer hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai

shah-e-yasribi ! tere husn ki
kise taab jo kare ham-sari

na gulo.n me.n aisi shaguftgi
na ye rang-o-boo, na ye taazgi

teri misl koi huwa na ho
tere sadqe jaau.n mai.n, ya nabi !

mai.n hu.n saajid-e-dar-e-mustafa
ye mere huzoor ki hai ‘ata
kahaa.n un ka dar, kahaa.n mera sar
mai.n to ik Gulaam-e-haqeer hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai
mai.n jahaa.n me.n sab se ameer hu.n

mere dil me.n ‘ishq-e-huzoor hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *