Mere Gyarahwin Wale Peer Ghaus-e-Azam Dastgeer Naat Lyrics

Mere Gyarahwin Wale Peer Ghaus-e-Azam Dastgeer Naat Lyrics

 

 

Mere Gyarahwin Wale Peer Ghaus-e-Azam Dastgeer | Mere Gyarvi Wale Peer Ghous-e-Azam Dastgeer

 

मुश्किल पड़े तो याद करो दस्त-गीर को
बग़दाद वाले हज़रत-ए-पीरान-ए-पीर को

या ग़ौस ! अल-मदद
या ग़ौस ! अल-मदद

या जीलानी ! शैअल-लिल्लाह
या जीलानी ! शैअल-लिल्लाह

ख़ुदा के फ़ज़्ल से हम पर है साया ग़ौस-ए-आ’ज़म का
हमें दोनों जहाँ में है सहारा ग़ौस-ए-आ’ज़म का

ख़ुदा के फ़ज़्ल से हम पर है साया ग़ौस-ए-आ’ज़म का
ख़ुदा के फ़ज़्ल से हम पर है साया ग़ौस-ए-आ’ज़म का

या शाह-ए-जीलाँ ! करम है तेरा

मेरे ग्यारहवीं वाले पीर ! ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
तेरे दर का मैं फ़क़ीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
तेरा रुत्बा बे-नज़ीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
मेरी चमका दी तक़दीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !

हमारी लाज किस के हाथ है ! बग़दाद वाले के
मुसीबत टाल देना काम किस का ! ग़ौस-ए-आ’ज़म का

ख़ुदा के फ़ज़्ल से हम पर है साया ग़ौस-ए-आ’ज़म का
ख़ुदा के फ़ज़्ल से हम पर है साया ग़ौस-ए-आ’ज़म का

मुहम्मद का रसूलों में है जैसे मर्तबा आ’ला
है अफ़ज़ल औलिया में यूँ ही रुत्बा ग़ौस-ए-आ’ज़म का

ख़ुदा के फ़ज़्ल से हम पर है साया ग़ौस-ए-आ’ज़म का
ख़ुदा के फ़ज़्ल से हम पर है साया ग़ौस-ए-आ’ज़म का

जनाब-ए-ग़ौस दूल्हा और बराती औलिया होंगे
मज़ा दिखलाएगा महशर में सेहरा ग़ौस-ए-आ’ज़म का

निदा देगा मुनादी हश्र में यूँ क़ादरियों को
किधर हैं क़ादरी ? कर लें नज़ारा ग़ौस-ए-आ’ज़म का

मुख़ालिफ़ क्या करे मेरा कि है बे-हद करम मुझ पर
ख़ुदा का, रहमतुल-लिल-‘आलमीं का, ग़ौस-ए-आ’ज़म का

मेरे ग्यारहवीं वाले पीर ! ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
तेरे दर का मैं फ़क़ीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
तेरा रुत्बा बे-नज़ीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !
मेरी चमका दी तक़दीर, ग़ौस-ए-आ’ज़म दस्त-गीर !

जमील-ए-क़ादरी ! सौ जान से क़ुर्बान मुर्शिद पर
बनाया जिस ने मुझ जैसे को बंदा ग़ौस-ए-आ’ज़म का

ख़ुदा के फ़ज़्ल से हम पर है साया ग़ौस-ए-आ’ज़म का
ख़ुदा के फ़ज़्ल से हम पर है साया ग़ौस-ए-आ’ज़म का

शायर:
मौलाना जमीलुर्रहमान क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी

 

mushkil pa.De to yaad karo dast-geer ko
baGdaad waale hazrat-e-peeraan-e-peer ko

ya Gaus ! al-madad
ya Gaus ! al-madad

ya jeelaani ! shaial-lillah
ya jeelaani ! shaial-lillah

KHuda ke fazl se ham par hai saaya Gaus-e-aa’zam ka
hame.n dono.n jahaa.n me.n hai sahaara Gaus-e-aa’zam ka

KHuda ke fazl se ham par hai saaya Gaus-e-aa’zam ka
KHuda ke fazl se ham par hai saaya Gaus-e-aa’zam ka

ya shaah-e-jeela.n ! karam hai tera

mere gyaarahwi.n waale peer ! Gaus-e-aa’zam dast-geer !
tere dar ka mai.n faqeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !
tera rutba be-nazeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !
meri chamka di taqdeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !

hamaari laaj kis ke haath hai ! baGdaad waale ke
museebat Taal dena kaam kis ka ! Gaus-e-aa’zam ka

KHuda ke fazl se ham par hai saaya Gaus-e-aa’zam ka
KHuda ke fazl se ham par hai saaya Gaus-e-aa’zam ka

muhammad ka rasoolo.n me.n hai jaise martaba aa’la
hai afzal auliya me.n yu.n hi rutba Gaus-e-aa’zam ka

KHuda ke fazl se ham par hai saaya Gaus-e-aa’zam ka
KHuda ke fazl se ham par hai saaya Gaus-e-aa’zam ka

janaab-e-Gaus dulha aur baraati auliya honge
maza dikhlaaega mahshar me.n sehra Gaus-e-aa’zam ka

nida dega munaadi hashr me.n yu.n qaadriyo.n ko
kidhar hai.n qaadri ? kar le.n nazaara Gaus-e-aa’zam ka

muKHaalif kya kare mera ki hai be-had karam mujh par
KHuda ka, rahmatul-lil-‘aalmee.n ka, Gaus-e-aa’zam ka

mere gyaarahwi.n waale peer ! Gaus-e-aa’zam dast-geer !
tere dar ka mai.n faqeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !
tera rutba be-nazeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !
meri chamka di taqdeer, Gaus-e-aa’zam dast-geer !

Jameel-e-qaadri ! sau jaan se qurbaan murshid par
banaaya jis ne mujh jaise ko banda Gaus-e-aa’zam ka

KHuda ke fazl se ham par hai saaya Gaus-e-aa’zam ka
KHuda ke fazl se ham par hai saaya Gaus-e-aa’zam ka

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *