Mere Khwaja Piya Mere Khwaja Piya Naat Lyrics

Mere Khwaja Piya Mere Khwaja Piya Naat Lyrics

 

 

Mere Khwaja Piya ! Mere Khwaja Piya | Hafiz Tahir Qadri

मेरे ख़्वाजा ! ख़्वाजा ! ख़्वाजा !
मेरे ख़्वाजा ! ख़्वाजा ! ख़्वाजा !
मेरे ख़्वाजा ! ख़्वाजा ! ख़्वाजा !
मेरे ख़्वाजा !

ख़्वाजा पिया ! ख़्वाजा पिया ! ख़्वाजा पिया !
ख़्वाजा पिया ! ख़्वाजा पिया ! ख़्वाजा पिया !

‘अली का दुलारा ख़्वाजा !
दिल में समा जा, ख़्वाजा !
शाहों का शाह तू, ख़्वाजा !

या ख़्वाजा ! या ख़्वाजा !
या ख़्वाजा ! या ख़्वाजा !

मेरा बिगड़ा बख़्त सँवार दो, मेरे ख़्वाजा ! मुझ को नवाज़ दो
तेरी इक निगाह की बात है, मेरी ज़िंदगी का सवाल है

ख़्वाजा-ए-ख़्वाजगाँ है लक़ब आप का

या सख़ी ग़रीब-नवाज़ सरकार !

मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !
मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !

आप का मर्तबा रब ने ऊँचा किया

या सख़ी ग़रीब-नवाज़ सरकार !

मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !
मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !

ख़्वाजा पिया ! ख़्वाजा पिया ! ख़्वाजा पिया !
ख़्वाजा पिया ! ख़्वाजा पिया ! ख़्वाजा पिया !

तुझ को भेजा मदीने से सरकार ने
रब के महबूब, नबियों के सरदार ने
मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत की तू है सदा

या सख़ी ग़रीब-नवाज़ सरकार !

मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !
मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !

दर-ए-ख़्वाजा पे सवाली को खड़ा रहने दो
सर नदामत से झुका है तो झुका रहने दो

मुझ को मिल जाएगा सदक़ा, मैं चला जाऊँगा
कासा-ए-दिल मेरा क़दमों में पड़ा रहने दो

तू सख़ी है, तेरे बाबा, नाना सख़ी
तेरे घर का है हर एक बच्चा सख़ी
तेरे दर से न कोई भी ख़ाली गया

या सख़ी ग़रीब-नवाज़ सरकार !

मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !
मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !

मो’ईनुद्दीन ख़्वाजा ! महाराजा !
मो’ईनुद्दीन ख़्वाजा ! महाराजा !

मेरा ख़्वाजा ‘अता-ए-रसूल है, वो बहार-ए-चिश्त का फूल है
वो बहार-ए-गुलशन-ए-फ़ातिमा, चमन-ए-‘अली का निहाल है

क्या अनोखी, निराली तेरी शान है !
आज भी ‘अक़्ल-ए-इंसान हैरान है
एक कासे में दरिया को तू ने लिया

या सख़ी ग़रीब-नवाज़ सरकार !

मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !
मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !

तू ‘अली मुर्तज़ा का है लख़्त-ए-जिगर
तू हुसैन-ओ-हसन का है नूर-ए-नज़र
सय्यिदा फ़ातिमा का है तू लाडला

या सख़ी ग़रीब-नवाज़ सरकार !

मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !
मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !

फिर से ज़ालिम यहाँ ज़ुल्म ढाने लगे
फिर मुसलमान को ये सताने लगे
कुछ करम कीजिए, हिन्द के बादशा !

या सख़ी ग़रीब-नवाज़ सरकार !

मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !
मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !

हिन्द में हर जगह आप का नूर है
ये करामत ज़माने में मशहूर है
आप ने मुर्दा इंसां को ज़िंदा किया

या सख़ी ग़रीब-नवाज़ सरकार !

मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !
मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !

मुर्दा दिल को मेरे अब जिला दीजिए
मुझ को मेरे ख़ुदा से मिला दीजिए
आसिम-ए-बे-नवा का है ये मुद्द’आ

या सख़ी ग़रीब-नवाज़ सरकार !

मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !
मेरे ख़्वाजा पिया ! मेरे ख़्वाजा पिया !

ख़्वाजा पिया ! ख़्वाजा पिया ! ख़्वाजा पिया !
ख़्वाजा पिया ! ख़्वाजा पिया ! ख़्वाजा पिया !

शायर:
मुहम्मद आसिम क़ादरी

नात-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी और हाफ़िज़ अहसन क़ादरी

 

mere KHwaja ! KHwaja ! KHwaja !
mere KHwaja ! KHwaja ! KHwaja !
mere KHwaja ! KHwaja ! KHwaja !
mere KHwaja !

KHwaja piya ! KHwaja piya ! KHwaja piya !
KHwaja piya ! KHwaja piya ! KHwaja piya !

‘ali ka dulaara KHwaja !
dil me.n sama ja, KHwaja !
shaaho.n ka shaah tu, KHwaja !

ya KHwaja ! ya KHwaja !
ya KHwaja ! ya KHwaja !

mera big.Da baKHt sa.nwaar do
mere KHwaja ! mujh ko nawaaz do
teri ik nigaah kee baat hai
meri zindagi ka sawaal hai

KHwaja-e-KHwajga.n hai laqab aap ka

ya saKHee Gareeb-nawaaz sarkaar !

mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !
mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !

aap ka martaba rab ne u.ncha kiya

ya saKHee Gareeb-nawaaz sarkaar !

mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !
mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !

KHwaja piya ! KHwaja piya ! KHwaja piya !
KHwaja piya ! KHwaja piya ! KHwaja piya !

tujh ko bheja madine ki sarkaar ne
rab ke mahboob, nabiyo.n ke sardaar ne
mustafa, jaan-e-rahmat kee tu hai sada

ya saKHee Gareeb-nawaaz sarkaar !

mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !
mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !

dar-e-KHwaja pe sawaali ko khada rahne do
sar nadaamat se jhuka hai to jhuka rahne do

mujh ko mil jaaega sadqa, mai.n chala jaau.nga
kaasa-e-dil mera qadmo.n me.n pa.Da rahne do

tu saKHee hai, tere baaba, naana saKHee
tere ghar ka hai har ek bachcha saKHee
tere dar se na koi bhi KHaali Gaya

ya saKHee Gareeb-nawaaz sarkaar !

mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !
mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !

mo’eenuddin KHwaja ! mahaaraaja !
mo’eenuddin KHwaja ! mahaaraaja !

mera KHwaja ‘ata-e-rasool hai
wo bahaar-e-chisht ka phool hai
wo bahaar-e-gulshan-e-faatima
chaman-e-‘ali ka nihaal hai

kya anokhi, niraali teri shaan hai !
aaj bhi ‘aql-e-insaan hairaan hai
ek kaase me.n dariya ko tu ne liya

ya saKHee Gareeb-nawaaz sarkaar !

mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !
mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !

tu ‘ali murtaza ka hai laKHt-e-jigar
tu husain-o-hasan ka hai noor-e-nazar
sayyida faatima ka hai tu laadla

ya saKHee Gareeb-nawaaz sarkaar !

mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !
mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !

phir se zaalim yaha.n zulm Dhaane lage
phir musalmaan ko ye sataane lage
kuchh karam kijiye, hind ke baadsha !

ya saKHee Gareeb-nawaaz sarkaar !

mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !
mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !

hind me.n har jagah aap ka noor hai
ye karaamat zamaane me.n mash.hoor hai
aap ne murda insaa.n ko zinda kiya

ya saKHee Gareeb-nawaaz sarkaar !

mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !
mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !

murda dil ko mere ab jila dijiye
mujh ko mere KHuda se mila dijiye
Aasim-e-be-nawa ka hai ye mudd’aa

ya saKHee Gareeb-nawaaz sarkaar !

mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !
mere KHwaja piya ! mere KHwaja piya !

KHwaja piya ! KHwaja piya ! KHwaja piya !
KHwaja piya ! KHwaja piya ! KHwaja piya !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *