Mere Lafzon Mein Shamsudduha Hai Mere Lahje Mein Badrudduja Naat Lyrics

Mere Lafzon Mein Shamsudduha Hai Mere Lahje Mein Badrudduja Naat Lyrics

 

 

मेरे लफ़्ज़ों में शम्सुद्दुहा है, मेरे लहजे में बदरुद्दुजा
मश’अल-ए-मिदहत-ए-मुस्तफ़ा हूँ, हर अँधेरे को मैं जगमगा दूँ

ऐसी इक ना’त लिखने की, या रब ! मुझ को तौफ़ीक़ दे ज़िंदगी में
उन की ज़ुल्फ़ों की ख़ुशबू सुँघाऊँ, उन के क़दमों की आहट सुना दूँ

इक यही आरज़ू रह गई है, उन के दरबार तक हो रसाई
अपनी पेशानी उस दर पे रख दूँ, सारी दुनिया को फिर मैं भुला दूँ

वो मेरी शा’इरी, मेरा फ़न हैं, मैं सुख़न हूँ, वो जान-ए-सुख़न हैं
अपना सब कुछ उन्हीं का दिया है, अपना सब कुछ उन्हीं पर लुटा दूँ

मेरी बख़्शिश का सामाँ यही है, मेरे दिल का भी अरमाँ यही है
एक दिन उन के रोज़े पे जा कर, उन की ना’तें उन्हीं को सुना दूँ

है तमन्ना कि ढल जाऊँ, या रब ! पैकर-ए-उस्वा-ए-मुस्तफ़ा में
मुस्कुराऊँ अगर संग बरसें, हर बुरे को भली सी दु’आ दूँ

‘इश्क़ है आग, आँसू है पानी, दोनों यकजा हैं ‘इश्क़-ए-नबी में
ये करिश्मा है ना’त-ए-नबी का, जब कहो ये करिश्मा दिखा दूँ

काश ! आए जब उन की सवारी, ए अदीब ! उन के क़दमों के नीचे
खींच कर रूह को तन से बाहर, उस की चादर बना कर बिछा दूँ

शायर:
अदीब रायपुरी

नात-ख़्वाँ:
असद रज़ा अत्तारी

 

mere lafzo.n me.n shamsudduha hai
mere lahje me.n badrudduja
mash’al-e-mid.hat-e-mustafa hu.n
har andhere ko mai.n jagmaga du.n

aisi ik naa’t likhne ki, ya rab !
mujh ko taufeeq de zindagi me.n
un ki zulfo.n ki KHushboo sunghaau.n
un ke qadmo.n ki aahat suna du.n

ik yahi aarzoo rah gai hai
un ke darbaar tak ho rasaai
apni peshaani us dar pe rakh du.n
saari duniya ko phir mai.n bhula du.n

wo meri shaa’iri, mera fan hai.n
mai.n suKHan hu.n, wo jaan-e-suKHan hai.n
apna sab kuchh unhi.n ka diya hai
apna sab kuchh unhi.n par luTa du.n

meri baKHshish ka saamaa.n yahi hai
mere dil ka bhi armaa.n yahi hai
ek din un ke roze pe jaa kar
un ki naa’te.n unhi.n ko suna du.n

hai tamanna ki Dhal jaau.n, ya rab !
paikar-e-uswa-e-mustafa me.n
muskuraau.n agar sang barse.n
har bure ko bhali si du’aa du.n

‘ishq hai aag, aansu hai paani
dono.n yakja hai.n ‘ishq-e-nabi me.n
ye karishma hai naa’t-e-nabi ka
jab kaho ye karishma dikha du.n

kaash ! aae jab un ki sawaari
ai Adeeb ! un ke qadmo.n ke neeche
kheench kar rooh ko tan se baahar
us ki chaadar bana kar bichha du.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *