Mil Gae Mustafa Mil Gai Zindagi Naat Lyrics

Mil Gae Mustafa Mil Gai Zindagi Naat Lyrics

 

मिल गए मुस्तफ़ा, मिल गई ज़िंदगी
जिन के सदक़े हुई ज़िंदगी ज़िंदगी

उन से पहले थी बेचारगी ज़िंदगी
अब तो करती है चारागरी ज़िंदगी

मिल गए मुस्तफ़ा, मिल गई ज़िंदगी
जिन के सदक़े हुई ज़िंदगी ज़िंदगी

क़ब्ल उन से तो बस मौत थी ज़िंदगी
आप आए तो ज़िंदा हुई ज़िंदगी

मिल गए मुस्तफ़ा, मिल गई ज़िंदगी
जिन के सदक़े हुई ज़िंदगी ज़िंदगी

ज़िंदगी बस इसी शुक्र में काट दो
साया-ए-मुस्तफ़ा में मिली ज़िंदगी

मिल गए मुस्तफ़ा, मिल गई ज़िंदगी
जिन के सदक़े हुई ज़िंदगी ज़िंदगी

आल-ए-अतहर के सदक़े से क्या कुछ मिला
आगही, रौशनी, सरवरी, ज़िंदगी

मिल गए मुस्तफ़ा, मिल गई ज़िंदगी
जिन के सदक़े हुई ज़िंदगी ज़िंदगी

दिल अगर ज़ात-ए-अहमद का तालिब नहीं
क्या मुक़द्दर मिला, क्या कटी ज़िंदगी

मिल गए मुस्तफ़ा, मिल गई ज़िंदगी
जिन के सदक़े हुई ज़िंदगी ज़िंदगी

अपनी उम्मत की ख़ातिर वो रोते रहे
कौन समझेगा कैसे सजी ज़िंदगी

मिल गए मुस्तफ़ा, मिल गई ज़िंदगी
जिन के सदक़े हुई ज़िंदगी ज़िंदगी

इस्म-ए-अहमद की हैं बरकतें इस क़दर
नाम-ए-बासित को भी बख़्श दी ज़िंदगी

मिल गए मुस्तफ़ा, मिल गई ज़िंदगी
जिन के सदक़े हुई ज़िंदगी ज़िंदगी

ना’त-ख़्वाँ:
असद रज़ा अत्तारी

 

mil gae mustafa, mil gai zindagi
jin ke sadqe hui zindagi zindagi

un se pehle thi bechaaragi zindagi
ab to karti hai chaaraagari zindagi

mil gae mustafa, mil gai zindagi
jin ke sadqe hui zindagi zindagi

qabl un se to bas maut thi zindagi
aap aae to zinda hui zindagi

mil gae mustafa, mil gai zindagi
jin ke sadqe hui zindagi zindagi

zindagi bas isi shukr me.n kaaT do
saaya-e-mustafa me.n mili zindagi

mil gae mustafa, mil gai zindagi
jin ke sadqe hui zindagi zindagi

aal-e-at.har ke sadqe se kya kuchh mila
aag.hi, raushni, sarwari, zindagi

mil gae mustafa, mil gai zindagi
jin ke sadqe hui zindagi zindagi

dil agar zaat-e-ahmad ka taalib nahi.n
kya muqaddar mila, kya kaTi zindagi

mil gae mustafa, mil gai zindagi
jin ke sadqe hui zindagi zindagi

apni ummat ki KHaatir wo rote rahe
kaun samjhega kaise saji zindagi

mil gae mustafa, mil gai zindagi
jin ke sadqe hui zindagi zindagi

ism-e-ahmad ki hai.n barkate.n is qadar
naam-e-Baasit ko bhi baKHsh di zindagi

mil gae mustafa, mil gai zindagi
jin ke sadqe hui zindagi zindagi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *