Milad Na Chhodenge Naat Lyrics

Milad Na Chhodenge Naat Lyrics

 

 

Milad Na Chhodenge | Milad Na Chorenge | Hum Mustafa Ka Jashn-e-Wiladat Manaenge

 

मरहबा ! मरहबा ! मरहबा ! मरहबा !

या नबी ! या नबी ! नबी नबी नबी नबी !
या नबी ! या नबी ! नबी नबी नबी नबी !

फ़ैली हुई है चार-सू ख़ुश्बू गली-गली
सरकार आए, देखो हवाएँ धुली-धुली

सब ख़ास-ओ-‘आम जश्न-ए-बहाराँ मनाएँगे
हम मुस्तफ़ा का जश्न-ए-विलादत मनाएँगे

हम मुस्तफ़ा के नाम पे सब कुछ लुटाएँगे
हम मुस्तफ़ा का जश्न-ए-विलादत मनाएँगे

कोई कुछ भी कहे, चाहे कहता रहे
ये महफ़िलें मीलाद की घर घर में सजाएँगे

वल्लाह ! वल्लाह ! वल्लाह ! वल्लाह !
वल्लाह ! वल्लाह !

मीलाद न छोड़ेंगे ! मीलाद न छोड़ेंगे !
मीलाद न छोड़ेंगे ! मीलाद न छोड़ेंगे !

माहौल नूर-नूर है, रहमत की रौशनी
मिलती है ख़स्ता-हालों को ख़ुश-हाल ज़िंदगी
बच्चे, जवान, सारे ही ख़ुशियाँ मनाएँगे
हम मुस्तफ़ा का जश्न-ए-विलादत मनाएँगे

हम मुस्तफ़ा के नाम पे सब कुछ लुटाएँगे
हम मुस्तफ़ा का जश्न-ए-विलादत मनाएँगे

कोई कुछ भी कहे, चाहे कहता रहे
ये महफ़िलें मीलाद की घर घर में सजाएँगे

वल्लाह ! वल्लाह ! वल्लाह ! वल्लाह !
वल्लाह ! वल्लाह !

मीलाद न छोड़ेंगे ! मीलाद न छोड़ेंगे !
मीलाद न छोड़ेंगे ! मीलाद न छोड़ेंगे !

जलसों जुलूसों का करो तुम दिल से एहतिराम
भेजो नबी पे बा-अदब, ऐ मोमिनो ! सलाम

अस्सलाम, ऐ जान-ए-‘आलम !
अस्सलाम, इमाम-ए-‘आलम !
शाह-ए-दीं ! सुल्तान-ए-‘आलम !

जलसों जुलूसों का करो तुम दिल से एहतिराम
भेजो नबी पे बा-अदब, ऐ मोमिनो ! सलाम
ज़िक्र-ए-नबी से ने’मत-ए-रहमान पाएँगे
हम मुस्तफ़ा का जश्न-ए-विलादत मनाएँगे

हम मुस्तफ़ा के नाम पे सब कुछ लुटाएँगे
हम मुस्तफ़ा का जश्न-ए-विलादत मनाएँगे

कोई कुछ भी कहे, चाहे कहता रहे
ये महफ़िलें मीलाद की घर घर में सजाएँगे

वल्लाह ! वल्लाह ! वल्लाह ! वल्लाह !
वल्लाह ! वल्लाह !

मीलाद न छोड़ेंगे ! मीलाद न छोड़ेंगे !
मीलाद न छोड़ेंगे ! मीलाद न छोड़ेंगे !

सरकार ! आप आए ज़माना बदल गया
मक्का बदल गया तो मदीना बदल गया
ता’लीम मुस्तफ़ा की जहाँ को सिखाएँगे
हम मुस्तफ़ा का जश्न-ए-विलादत मनाएँगे

हम मुस्तफ़ा के नाम पे सब कुछ लुटाएँगे
हम मुस्तफ़ा का जश्न-ए-विलादत मनाएँगे

कोई कुछ भी कहे, चाहे कहता रहे
ये महफ़िलें मीलाद की घर घर में सजाएँगे

वल्लाह ! वल्लाह ! वल्लाह ! वल्लाह !
वल्लाह ! वल्लाह !

मीलाद न छोड़ेंगे ! मीलाद न छोड़ेंगे !
मीलाद न छोड़ेंगे ! मीलाद न छोड़ेंगे !

चलते रहेंगे ‘इश्क़-ओ-मोहब्बत के क़ाफ़िले
घटते रहेंगे हम से मदीने के फ़ासिले
हम बारहवीं की रात हरम में मनाएँगे
हम मुस्तफ़ा का जश्न-ए-विलादत मनाएँगे

हम मुस्तफ़ा के नाम पे सब कुछ लुटाएँगे
हम मुस्तफ़ा का जश्न-ए-विलादत मनाएँगे

कोई कुछ भी कहे, चाहे कहता रहे
ये महफ़िलें मीलाद की घर घर में सजाएँगे

वल्लाह ! वल्लाह ! वल्लाह ! वल्लाह !
वल्लाह ! वल्लाह !

मीलाद न छोड़ेंगे ! मीलाद न छोड़ेंगे !
मीलाद न छोड़ेंगे ! मीलाद न छोड़ेंगे !

असहाब-ए-मुस्तफ़ा का तरीक़ा बताएँगे
हम आल-ए-मुस्तफ़ा से मोहब्बत सिखाएँगे
आक़ा पे कुल असासा, उजागर ! लुटाएँगे
हम मुस्तफ़ा का जश्न-ए-विलादत मनाएँगे

हम मुस्तफ़ा के नाम पे सब कुछ लुटाएँगे
हम मुस्तफ़ा का जश्न-ए-विलादत मनाएँगे

कोई कुछ भी कहे, चाहे कहता रहे
ये महफ़िलें मीलाद की घर घर में सजाएँगे

वल्लाह ! वल्लाह ! वल्लाह ! वल्लाह !
वल्लाह ! वल्लाह !

मीलाद न छोड़ेंगे ! मीलाद न छोड़ेंगे !
मीलाद न छोड़ेंगे ! मीलाद न छोड़ेंगे !

या नबी ! या नबी ! नबी नबी नबी नबी !
या नबी ! या नबी ! नबी नबी नबी नबी !

सरकार आ गए !
दिलदार आ गए !
ग़म-ख़्वार आ गए !
लज-पाल आ गए !

शायर:
अल्लामा निसार अली उजागर

ना’त-ख़्वाँ:
अब्दुल्लाह ख़लील क़ादरी

 

marhaba ! marhaba ! marhaba ! marhaba !

ya nabi ! ya nabi ! nabi nabi nabi nabi !
ya nabi ! ya nabi ! nabi nabi nabi nabi !

faili hui hai chaar-soo KHushboo gali-gali
sarkaar aae, dekho hawaae.n dhuli-dhuli

sab KHaas-o-‘aam jashn-e-bahaaraa.n manaaenge
ham mustafa ka jashn-e-wilaadat manaaenge

ham mustafa ke naam pe sab kuchh luTaaenge
ham mustafa ka jashn-e-wilaadat manaaenge

koi kuchh bhi kahe, chaahe kehta rahe
ye mehfile.n meelaad ki ghar ghar me.n sajaaenge

wallah ! wallah ! wallah ! wallah !
wallah ! wallah !

meelaad na chho.Denge ! meelaad na chho.Denge !
meelaad na chho.Denge ! meelaad na chho.Denge !

maahaul noor-noor hai, rahmat ki raushni
milti hai KHasta-haalo.n ko KHush-haal zindagi
bachche, jawaan, saare hi KHushiyaa.n manaaenge
ham mustafa ka jashn-e-wilaadat manaaenge

ham mustafa ke naam pe sab kuchh luTaaenge
ham mustafa ka jashn-e-wilaadat manaaenge

koi kuchh bhi kahe, chaahe kehta rahe
ye mehfile.n meelaad ki ghar ghar me.n sajaaenge

wallah ! wallah ! wallah ! wallah !
wallah ! wallah !

meelaad na chho.Denge ! meelaad na chho.Denge !
meelaad na chho.Denge ! meelaad na chho.Denge !

jalso.n julooso.n ka karo tum dil se ehtiraam
bhejo nabi pe baa-adab, ai momino ! salaam

assalaam, ai jaan-e-‘aalam
assalaam, imaam-e-‘aalam
shaah-e-dee.n ! sultaan-e-‘aalam

jalso.n julooso.n ka karo tum dil se ehtiraam
bhejo nabi pe baa-adab, ai momino ! salaam
zikr-e-nabi se ne’mat-e-rahman paaenge
ham mustafa ka jashn-e-wilaadat manaaenge

ham mustafa ke naam pe sab kuchh luTaaenge
ham mustafa ka jashn-e-wilaadat manaaenge

koi kuchh bhi kahe, chaahe kehta rahe
ye mehfile.n meelaad ki ghar ghar me.n sajaaenge

wallah ! wallah ! wallah ! wallah !
wallah ! wallah !

meelaad na chho.Denge ! meelaad na chho.Denge !
meelaad na chho.Denge ! meelaad na chho.Denge !

sarkaar ! aap aae zamaana badal gaya
makka badal gaya to madina badal gaya
taa’leem mustafa ki jahaa.n ko sikhaaenge
ham mustafa ka jashn-e-wilaadat manaaenge

ham mustafa ke naam pe sab kuchh luTaaenge
ham mustafa ka jashn-e-wilaadat manaaenge

koi kuchh bhi kahe, chaahe kehta rahe
ye mehfile.n meelaad ki ghar ghar me.n sajaaenge

wallah ! wallah ! wallah ! wallah !
wallah ! wallah !

meelaad na chho.Denge ! meelaad na chho.Denge !
meelaad na chho.Denge ! meelaad na chho.Denge !

chalte rahenge ‘ishq-o-mohabbat ke qaafile
ghaT.te rahenge ham se madine ke faasile
ham baarahwi.n ki raat haram me.n manaaenge
ham mustafa ka jashn-e-wilaadat manaaenge

ham mustafa ke naam pe sab kuchh luTaaenge
ham mustafa ka jashn-e-wilaadat manaaenge

koi kuchh bhi kahe, chaahe kehta rahe
ye mehfile.n meelaad ki ghar ghar me.n sajaaenge

wallah ! wallah ! wallah ! wallah !
wallah ! wallah !

meelaad na chho.Denge ! meelaad na chho.Denge !
meelaad na chho.Denge ! meelaad na chho.Denge !

as.haab-e-mustafa ka tareeqa bataaenge
ham aal-e-mustafa se mohabbat sikhaaenge
aaqa pe kul asaasa, Ujaagar ! luTaaenge
ham mustafa ka jashn-e-wilaadat manaaenge

ham mustafa ke naam pe sab kuchh luTaaenge
ham mustafa ka jashn-e-wilaadat manaaenge

koi kuchh bhi kahe, chaahe kehta rahe
ye mehfile.n meelaad ki ghar ghar me.n sajaaenge

wallah ! wallah ! wallah ! wallah !
wallah ! wallah !

meelaad na chho.Denge ! meelaad na chho.Denge !
meelaad na chho.Denge ! meelaad na chho.Denge !

ya nabi ! ya nabi ! nabi nabi nabi nabi !
ya nabi ! ya nabi ! nabi nabi nabi nabi !

sarkaar aa gae !
dildaar aa gae !
Gam-KHwaar aa gae !
laj-paal aa gae !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *