Mujh Khata-kar Sa Insan Madine Mein Rahe Naat Lyrics

Mujh Khata-kar Sa Insan Madine Mein Rahe Naat Lyrics

 

 

Mujh Khata-kar Sa Insan Madine Mein Rahe | Mujh Khatakar Sa Insan Madine Mein Rahe

 

मुझ ख़ता-कार सा इंसान मदीने में रहे
बन के सरकार का मेहमान मदीने में रहे

याद आती है मुझे अहल-ए-मदीना की वो बात
ज़िंदा रहना हो तो इंसान मदीने में रहे

अल्लाह अल्लाह ! सर-अफ़राज़ी-ए-सहरा-ए-हिजाज़
सारी मख़्लूक़ का सुल्तान मदीने में रहे

दूर रह कर भी उठाता हूँ हुज़ूरी के मज़े
मैं यहाँ और मेरी जान मदीने में रहे

यूँ अदा करते हैं ‘उश्शाक़ मोहब्बत की नमाज़
सज्दा का’बे में हो और ध्यान मदीने में रहे

उन की शफ़क़त ग़म-ए-कौनैन भुला देती है
जितने दिन आप का मेहमान मदीने में रहे

छोड़ आया हूँ दिल-ओ-जान ये कह कर, आ’ज़म !
आ रहा हूँ, मेरा सामान मदीने में रहे

शायर:
मुहम्मद आ’ज़म चिश्ती

ना’त-ख़्वाँ:
सय्यिद ज़बीब मसूद
असद रज़ा अत्तारी

 

mujh KHata-kaar saa insaan madine me.n rahe
ban ke sarkaar ka mehmaan madine me.n rahe

yaad aati hai mujhe ahl-e-madina ki wo baat
zinda rehna ho to insaan madine me.n rahe

allah allah ! sar-afraazi-e-sahra-e-hijaaz
saari maKHlooq ka sutaan madine me.n rahe

door reh kar bhi uThaata hu.n huzoori ke maze
mai.n yaha.n aur meri jaan madine me.n rahe

yu.n ada karte hai.n ‘ushshaaq mohabbat ki namaaz
sajda kaa’be me.n ho aur dhyaan madine me.n rahe

un ki shafqat Gam-e-kaunain bhula deti hai
jitne din aap ka mehmaan madine me.n rahe

chho.D aaya hu.n dil-o-jaan ye keh kar, Aa’zam !
aa raha hu.n, mera saamaan madine me.n rahe

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *