Mujh Ko Ramzaan Ka Mahina Achchha Lagta Hai Naat Lyrics

Mujh Ko Ramzaan Ka Mahina Achchha Lagta Hai Naat Lyrics

 

 

आया अल्लाह का मेहमान
आया है माह-ए-रमज़ान
ले कर हाथों में क़ुरआँ
आया है माह-ए-रमज़ान

रहमत-ए-रमज़ान ! रहमत-ए-रमज़ान !
रहमत-ए-रमज़ान ! रहमत-ए-रमज़ान !

मुझ को रमज़ाँ का महीना अच्छा लगता है
सहरी-ओ-इफ़्तार करना अच्छा लगता है

मुझ को रमज़ाँ का महीना अच्छा लगता है
मुझ को रमज़ाँ का महीना अच्छा लगता है

रमज़ान के रोज़े रखूँगा
मैं सारी नमाज़ें पढ़ूँगा
क़ुरआँ की तिलावत करूँगा
और दीन की बातें सीखूँगा

रहमान राज़ी होगा, रहमान राज़ी होगा
रहमान राज़ी होगा, रहमान राज़ी होगा

देखो फ़लक़ पे चाँद चमका, माह-ए-रमज़ाँ आया
निखरा निखरा हर इक चेहरा, माह-ए-रमज़ाँ आया
पूरे महीने रोज़े रखना अच्छा लगता है

मुझ को रमज़ाँ का महीना अच्छा लगता है
मुझ को रमज़ाँ का महीना अच्छा लगता है

बच्चो ! रोज़ा रखना है
क़ुर्ब ख़ुदा का पाना है

राज़ी होता है रहमान
आया है माह-ए-रमज़ान

रमज़ाँ में मोमिन के मुक़द्दर रौशन लगते हैं
मस्जिद के मेहराब-ओ-मिम्बर रौशन लगते हैं
मस्जिद में लोगों का बढ़ना अच्छा लगता है

मुझ को रमज़ाँ का महीना अच्छा लगता है
मुझ को रमज़ाँ का महीना अच्छा लगता है

रमज़ान के रोज़े रखूँगा
मैं सारी नमाज़ें पढ़ूँगा
क़ुरआँ की तिलावत करूँगा
और दीन की बातें सीखूँगा

रब की रहमत घर घर उतरी, आया है मेहमान
मज़े मज़े की ख़ुश्बू फैली, सजे हैं दस्तर-ख़्वान
इफ़्तारी में मिल कर खाना अच्छा लगता है

मुझ को रमज़ाँ का महीना अच्छा लगता है
मुझ को रमज़ाँ का महीना अच्छा लगता है

गुंबद-ए-ख़ज़रा के साए में हम सब बैठे हों
दस्तर-ख़्वान सजा हो, लब पर उन की नातें हों
तयबा में इफ़्तारी करना अच्छा लगता है

मुझ को रमज़ाँ का महीना अच्छा लगता है
मुझ को रमज़ाँ का महीना अच्छा लगता है

मुझे नेक बनना है, मुझे नेक बनना है
मुझे नेक बनना है, मुझे नेक बनना है

नफ़रतों को छोड़ के, टूटे दिलों को जोड़ के
माह-ए-रमज़ाँ की बरकत से एक बनना है

मुझे नेक बनना है, मुझे नेक बनना है
मुझे नेक बनना है, मुझे नेक बनना है

रिश्वत लेना और देना, सूद पे बिज़नेस क्यूँ करना
माह-ए-रमज़ाँ की बरकत से बचते रहना है

मुझे नेक बनना है, मुझे नेक बनना है
मुझे नेक बनना है, मुझे नेक बनना है

ग़ीबत और चुग़ल-ख़ोरी नेकी से है ग़द्दारी
माह-ए-रमज़ाँ की बरकत से हक़ ही कहना है

मुझे नेक बनना है, मुझे नेक बनना है
मुझे नेक बनना है, मुझे नेक बनना है

‘अशरा-ए-रहमत, ‘अशरा-ए-बख़्शिश, नार से आज़ादी
माँग, उजागर ! अपनी बख़्शिश, बन जा फ़रियादी
रब से दु’आएँ करते रहना अच्छा लगता है

मुझ को रमज़ाँ का महीना अच्छा लगता है
मुझ को रमज़ाँ का महीना अच्छा लगता है

शायर:
अल्लामा निसार अली उजागर

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी
हाफ़िज़ अहसन क़ादरी
हन्ज़ला क़ादरी
हम्ज़ा क़ादरी

 

aaya allah ka mehmaan
aaya hai maah-e-ramzaan
le kar haatho.n me.n qur.aa.n
aay hai maah-e-ramzaan

rahmat-e-ramzaan ! rahmat-e-ramzaan !
rahmat-e-ramzaan ! rahmat-e-ramzaan !

mujh ko ramzaa.n ka mahina achchha lagta hai
sahri-o-iftaar karna achchha lagta hai

mujh ko ramzaa.n ka mahina achchha lagta hai
mujh ko ramzaa.n ka mahina achchha lagta hai

ramzaan ke roze rakhoonga
mai.n saari namaaze.n pa.Dhoonga
qur.aa.n ki tilaawat karoonga
aur deen ki baate.n seekhoonga

rahman raazi hoga, rahman raazi hoga
rahman raazi hoga, rahman raazi hoga

dekho falaq pe chaand chamka,
maah-e-ramzaa.n aaya
nikhra nikhra har ik chehra,
maah-e-ramzaa.n aaya
poore mahine roze rakhna achchha lagta hai

mujh ko ramzaa.n ka mahina achchha lagta hai
mujh ko ramzaa.n ka mahina achchha lagta hai

bachcho ! roze rakhna hai
qurb KHuda ka paana hai

raazi hota hai rahmaan
aaya hai maah-e-ramzaan

ramzaa.n me.n momin ke muqaddar –
raushan lagte hai.n
masjid ke mehraab-o-mimbar –
raushan lagte hai.n
masjid me.n logo.n ka ba.Dhna achchha lagta hai

mujh ko ramzaa.n ka mahina achchha lagta hai
mujh ko ramzaa.n ka mahina achchha lagta hai

ramzaan ke roze rakhoonga
mai.n saari namaaze.n pa.Dhoonga
qur.aa.n ki tilaawat karoonga
aur deen ki baate.n seekhoonga

rab ki rahmat ghar ghar utri,
aaya hai mehmaan
maze maze ki KHushboo phaili,
saje hai.n dastar-KHwaan
iftaari me.n mil kar khaana achchha lagta hai

mujh ko ramzaa.n ka mahina achchha lagta hai
mujh ko ramzaa.n ka mahina achchha lagta hai

gumbad-e-KHazra ke saae me.n –
ham sab baiThe ho.n
dastar-KHwaan saja ho, lab par –
un ki naate.n ho.n
tayba me.n iftaari karna achchha lagta hai

mujh ko ramzaa.n ka mahina achchha lagta hai
mujh ko ramzaa.n ka mahina achchha lagta hai

mujhe nek ban.na hai, mujhe nek ban.na hai
mujhe nek ban.na hai, mujhe nek ban.na hai

nafrato.n ko chho.D ke, TooTe dilo.n ko jo.D ke
maah-e-ramzaa.n ki barkat se ek ban.na hai

mujhe nek ban.na hai, mujhe nek ban.na hai
mujhe nek ban.na hai, mujhe nek ban.na hai

rishwat lena aur dena, sood pe business kyu.n karna
maah-e-ramzaa.n ki barkat se bachte rehna hai

mujhe nek ban.na hai, mujhe nek ban.na hai
mujhe nek ban.na hai, mujhe nek ban.na hai

Geebat aur chuGal-KHori neki se hai Gaddaari
maah-e-ramzaa.n ki barkat se haq hi kehna hai

mujhe nek ban.na hai, mujhe nek ban.na hai
mujhe nek ban.na hai, mujhe nek ban.na hai

‘ashra-e-rahmat, ‘ashra-e-baKHshish,
naar se aazaadi
maang, Ujaagar ! apni baKHshish,
ban ja fariyaadi
rab se du’aae.n karte rehna achchha lagta hai

mujh ko ramzaa.n ka mahina achchha lagta hai
mujh ko ramzaa.n ka mahina achchha lagta hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *