Mustafa Ki Jaan Hai Usman Hai Naat Lyrics

Mustafa Ki Jaan Hai Usman Hai Naat Lyrics

 

पैकर-ए-शर्म-ओ-हया, आप ज़ुन्नूरैन हैं
मुस्तफ़ा के बा-वफ़ा, आप ज़ुन्नूरैन हैं

मुस्तफ़ा की जान है, ‘उस्मान है
दीन की पहचान है, ‘उस्मान है

बा’द-ए-सिद्दीक़-ओ-‘उमर असहाब में
जिस की ऊँची शान है, ‘उस्मान है

मुस्तफ़ा की जान है, ‘उस्मान है
दीन की पहचान है, ‘उस्मान है

राह-ए-हक़ पर जिस ने अपना माल-ओ-ज़र
कर दिया क़ुर्बान है, ‘उस्मान है

मुस्तफ़ा की जान है, ‘उस्मान है
दीन की पहचान है, ‘उस्मान है

वक़्त-ए-रुख़्सत हाथ में क़ुरआन था
क़ारी-ए-क़ुरआन है, ‘उस्मान है

पैकर-ए-शर्म-ओ-हया, आप ज़ुन्नूरैन हैं
मुस्तफ़ा के बा-वफ़ा, आप ज़ुन्नूरैन हैं

ख़िदमत-ए-क़ुरआन से पाया लक़ब
जाम’-ए-क़ुरआन है, ‘उस्मान है

मुस्तफ़ा की जान है, ‘उस्मान है
दीन की पहचान है, ‘उस्मान है

जिस की उल्फ़त अहल-ए-सुन्नत के लिए
ज़ीनत-ए-ईमान है, ‘उस्मान है

मुस्तफ़ा की जान है, ‘उस्मान है
दीन की पहचान है, ‘उस्मान है

सारे ‘आलम में कहीं भी जाइए
हर तरफ़ फ़ैज़ान है, ‘उस्मान है

मुस्तफ़ा की जान है, ‘उस्मान है
दीन की पहचान है, ‘उस्मान है

काश ! रज़वी आप का दर देख ले
दिल में ये अरमान है, ‘उस्मान है

मुस्तफ़ा की जान है, ‘उस्मान है
दीन की पहचान है, ‘उस्मान है

शायर:
अहमद रज़ा अत्तारी गुजराती

नात-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी

 

paikar-e-sharm-o-haya, aap zunnoorain hai.n
mustafa ke ba-bafa, aap zunnoorain hai.n

mustafa ki jaan hai, ‘usman hai
deen ki pahchaan hai, ‘usman hai

baa’d-e-siddiq-o-‘umar as.haab me.n
jis ki unchi shaan hai, ‘usman hai

mustafa ki jaan hai, ‘usman hai
deen ki pahchaan hai, ‘usman hai

raah-e-haq par jis ne apna maal-o-zar
kar diya qurbaan hai, ‘usman hai

mustafa ki jaan hai, ‘usman hai
deen ki pahchaan hai, ‘usman hai

waqt-e-ruKHsat haath me.n qur.aan tha
qaari-e-qur.aan hai, ‘usman hai

paikar-e-sharm-o-haya, aap zunnoorain hai.n
mustafa ke ba-bafa, aap zunnoorain hai.n

KHidmat-e-qur.aan se paaya laqab
jaam’-e-qur.aan hai, ‘usman hai

mustafa ki jaan hai, ‘usman hai
deen ki pahchaan hai, ‘usman hai

jis ki ulfat ahl-e-sunnat ke liye
zeenat-e-imaan hai, ‘usman hai

mustafa ki jaan hai, ‘usman hai
deen ki pahchaan hai, ‘usman hai

saare ‘aalam me.n kahi.n bhi jaaiye
har taraf faizaan hai, ‘usman hai

mustafa ki jaan hai, ‘usman hai
deen ki pahchaan hai, ‘usman hai

kaash ! Razvi aap ka dar dekh le
dil me.n ye armaan hai, ‘usman hai

mustafa ki jaan hai, ‘usman hai
deen ki pahchaan hai, ‘usman hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *