Nabi Ji Aa Rahe Hain Naat Lyrics

Nabi Ji Aa Rahe Hain Naat Lyrics

 

 

जी करता है आँखें बिछाएँ
क़दमों में गिर जाएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

कलमा पढ़ती आईं हवाएँ
कहने लगी फ़ज़ाएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

जन्नत ज़मीं पर है
आमद नबी की है जहान में
चाँद और सितारों ने
नूर बिखेरा आसमान में
अपनी शु’आ’एँ आज लुटाएँ
खोल के दिल की कलाएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

आमिना बीबी की
गोदी में माह-ए-ताबाँ आएगा
दाई हलीमा के
घर में वो मेहमाँ बन के जाएगा
डालियाँ सब फूलों की झुक कर
लेने लगीं बलाएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

आग़ोश-ए-‘अब्दुल्लाह
रौशन हुई है इक हिलाल से
क़ुर्बान हो जाएँ
कह दे कोई अब ये बिलाल से
जल्दी वो का’बे में आएँ
आ कर अज़ाँ सुनाएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

असहाब-ए-आ’ला का
जिस के लिए दिल बे-क़रार था
सलमान-ओ-बू-ज़र को
जिस का अभी तक इंतिज़ार था
उन से भी जा कर ये कह दो
दर-ए-नबी पर आएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

ना’त-ख़्वाँ:
शुऐब रज़ा वारसी

———————————————–

हूर-ओ-मलाइक झूमें गाएँ
अदब से पलकें बिछाएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

ज़र्रे चमके, महकी हवाएँ
हैं नूरानी फ़ज़ाएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

ऐ आमिना बीबी !
आँगन तुम्हारा ख़ुशगवार है
दीदार की ख़ातिर
हर इक पयम्बर बे-क़रार है
पत्थर जिन का कलमा सुनाएँ
पेड़ भी सर को झुकाएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

दस्त-ए-यदुल्लाही का
जल्वा है उन के मो’जिज़ात में
मिस्ल-ए-रसूल-ए-आ’ज़म
कोई नहीं है काइनात में
नूह, ज़करिया सदक़े जाएँ
ईसा, मूसा बताएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

मेरे नबी को अपनी
उम्मत से देखो कितना प्यार है
मैदान-ए-महशर में
उम्मत को उन का इंतिज़ार है
बोले फ़रिश्ते मत गबराओ
ख़ुशी के नग़्में सुनाओ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

हज़रत-ए-‘उमर को देखो
तारीख़-ए-दीं में बे-मिसाल हैं
‘उस्मान-ओ-हैदर के भी
रुत्बे बड़े ही बा-कमाल हैं
क्यूँ न नबी पे जान लुटाएँ
क्यूँ न तराने गाएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

परवाना चाहे शम’अ
और बुलबुलें भी चाहें फूल बस
सिद्दीक़ बोले मेरी
ख़ातिर ख़ुदा का है रसूल बस
उन पे ये जाँ क्यूँ न लुटाएँ
उन्हीं को दिल में बसाएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

क्यूँ हो परेशाँ ग़म से
शान-ए-रसाई उन की देखना
मैदान-ए-महशर में तुम
जल्वा-नुमाई उन की देखना
बख़्शेगा रब सारी ख़ताएँ
आओ बज़्म सजाएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

मेरे नबी ने बख़्शा
महके गुलाबों को ये बाँकपन
पा-ए-नबी का धोवन
है चाँद-सूरज की ये अंजुमन
दुश्मन के भी घरों में, ज़ैनुल !
होंगी आज दु’आएँ
नबी जी आ रहे हैं
नबी जी आ रहे हैं

ना’त-ख़्वाँ:
ज़ैन-उल-आबिदीन कानपुरी

 

jee karta hai aankhe.n bichhae.n
qadmo.n me.n gir jaae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

kalma pa.Dhti aai.n hawaae.n
kehne lagi fazaae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

jannat zamee.n par hai
aamad nabi ki hai jahaan me.n
chaand aur sitaaro.n ne
noor bikhera aasmaan me.n
apni shu’aa’e.n aaj luTaae.n
khol ke dil ki kalaae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

aamina bibi ki
godi me.n maah-e-taabaa.n aaega
daai haleema ke
ghar me.n wo mehmaa.n ban ke jaaega
Daaliyaa.n sab phoolo.n ki jhuk kar
lene lagi.n balaae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

aaGosh-e-‘abdullah
raushan hui hai ik hilaal se
qurbaan ho jaae.n
keh de koi ab ye bilaal se
jaldi wo kaa’be me.n aae.n
aa kar azaa.n sunaae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

as.haab-e-aa’la ka
jis ke liye dil be-qaraar tha
salmaan-o-bu-zar ko
jis ka abhi tak intizaar tha
un se bhi jaa kar ye keh do
dar-e-nabi par aae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

Naat-Khwaan:
Shoaib Raza Warsi

—————————————

Hoor-o-malaaik jhoome.n gaae.n
adab se palke.n bichhae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

zarre chamke, mehki hawaae.n
hai.n nooraani fazaae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

ai aamina bibi !
aangan tumhaara KHushgawaar hai
deedaar ki KHaatir
har ik payambar be-qaraar hai
patthar jin ka kalma sunaae.n
pe.D bhi sar ko jhukaae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

dast-e-yadullahi ka
jalwa hai un ke mo’jizaat me.n
misl-e-rasool-e-aa’zam
koi nahi.n hai kaainaat me.n
nooh, zakariya sadqe jaae.n
isa, moosa bataae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

mere nabi ko apni
ummat se dekho kitna pyaar hai
maidaan-e-mahshar me.n
ummat ko un ka intizaar hai
bole farishte mat gabraao
KHushi ke naGme.n sunaao
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

hazrat-e-‘umar ko dekho
taariKH-e-dee.n me.n be-misaal hai.n
‘usmaan-o-haidar ke bhi
rutbe ba.De hi baa-kamaal hai.n
kyu.n na nabi pe jaan luTaae.n
kyu.n na taraane gaae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

parwaana chaahe sham’a
aur bulbule.n bhi chaahe.n phool bas
siddiq bole meri
KHaatir KHuda ka hai rasool bas
un pe ye jaa.n kyu.n na luTaae.n
unhi.n ko dil me.n basaae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

kyu.n ho pareshaa.n Gam se
shaan-e-rasaai un ki dekhna
maidaan-e-mahshar me.n tum
jalwa-numaai un ki dekhna
baKHshega rab saari KHataae.n
aao bazm sajaae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

mere nabi ne baKHsha
mehke gulaabo.n ko ye baankpan
paa-e-nabi ka dhowan
hai chaand-sooraj ki ye anjuman
dushman ke bhi gharo.n me.n, Zainul !
hongi aaj du’aae.n
nabi ji aa rahe hai.n
nabi ji aa rahe hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *