Nabi Ka Lab Par Jo Zikr Hai Be-Misaal Aaya Kamaal Aaya Naat Lyrics

Nabi Ka Lab Par Jo Zikr Hai Be-Misaal Aaya Kamaal Aaya Naat Lyrics

 

 

 

पैकर-ए-दिल-रुबा बन के आया, रूह-ए-अर्ज़-ओ-समा बन के आया
सब रसूल-ए-ख़ुदा बन के आए, वो हबीब-ए-ख़ुदा बन के आया

नबी का लब पर जो ज़िक्र है बे-मिसाल आया, कमाल आया !
जो हिज्र-ए-तयबा में याद बन कर ख़याल आया, कमाल आया !

नबी का लब पर जो ज़िक्र है बे-मिसाल आया, कमाल आया !

तेरी दुआओं ही की बदौलत अज़ाब-ए-रब से बचे हुए हैं
जो हक़ में उम्मत के तेरे लब पर सवाल आया, कमाल आया !

नबी का लब पर जो ज़िक्र है बे-मिसाल आया, कमाल आया !

ग़ुरूर उमय्या का तोड़ डाला, दिखा के ईमान वाला जज़्बा
जो हब्शियों में ग़ुलाम तेरा बिलाल आया, कमाल आया !

नबी का लब पर जो ज़िक्र है बे-मिसाल आया, कमाल आया !

नबी की आमद से नूर फैला, फ़ज़ा-ए-शब पर निखार आया
चमन में कलियों के रुख़ पे हुस्न-ओ-जमाल आया, कमाल आया !

नबी का लब पर जो ज़िक्र है बे-मिसाल आया, कमाल आया !

लक़ब जो सिद्दीक़ तेरा ठहरा, निराला सब से है तेरा पहरा
नबी के शातिम पे जैसे तुझ को जलाल आया, कमाल आया !

नबी का लब पर जो ज़िक्र है बे-मिसाल आया, कमाल आया !

उमर की जुर्अत पे जाऊँ क़ुरबाँ, थे क़ैसर-ओ-किस्रा जिन से लर्ज़ां
उमर के आने से कुफ्र पर जो ज़वाल आया, कमाल आया !

नबी का लब पर जो ज़िक्र है बे-मिसाल आया, कमाल आया !

हुसैन इब्न-ए-अली का ना’रा ज़बाँ पर आया तो दिल पुकारा
नबी का प्यारा, हसीं दुलारा, कमाल आया ! कमाल आया !

नबी का लब पर जो ज़िक्र है बे-मिसाल आया, कमाल आया !

नबी तो, साइम ! सभी हैं आ’ला, हैं रुत्बे सब के अज़ीम-ओ-बाला
मगर जो आख़िर में आमिना का वो लाल आया, कमाल आया !

नबी का लब पर जो ज़िक्र है बे-मिसाल आया, कमाल आया !

शायर:
मलिक मुबश्शिर साइम अ’लवी

नात-ख़्वाँ:
ज़ोहैब अशरफ़ी

 

paikar-e-dil-ruba ban ke aaya
rooh-e-arz-o-sama ban ke aaya
sab rasool-e-KHuda ban ke aae
wo habeeb-e-KHuda ban ke aaya

nabi ka lab par jo zikr hai
be-misaal aaya, kamaal aaya !
jo hijr-e-tayba me.n yaad ban kar
KHayaal aaya, kamaal aaya !

nabi ka lab par jo zikr hai
be-misaal aaya, kamaal aaya !

teri duaao.n hi ki badaulat
azaab-e-rab se bache hue hai.n
jo haq me.n ummat ke tere lab par
sawaal aaya, kamaal aaya !

nabi ka lab par jo zikr hai
be-misaal aaya, kamaal aaya !

Guroor umayya ka to.D Daala
dikha ke imaan waala jazbaa
jo habshiyo.n me.n Gulaam tera
bilaal aaya, kamaal aaya !

nabi ka lab par jo zikr hai
be-misaal aaya, kamaal aaya !

nabi ki aamad se noor faila
faza-e-shab par nikhaar aaya
chaman me.n kaliyo.n ke ruKH pe
husn-o-jamaal aaya, kamaal aaya !

nabi ka lab par jo zikr hai
be-misaal aaya, kamaal aaya !

laqab jo siddiq tera Thahra
niraala sab se hai tera pahra
nabi ke shaatim pe jaise tujh ko
jalaal aaya, kamaal aaya !

nabi ka lab par jo zikr hai
be-misaal aaya, kamaal aaya !

‘umar ki jur.at pe jaau.n qurbaa.n
the qaisar-o-kisra jin se larzaa.n
‘umar ke aane se kufr par jo
zawaal aaya, kamaal aaya

nabi ka lab par jo zikr hai
be-misaal aaya, kamaal aaya !

husain ibn-e-‘ali ka naara
zabaa.n par aaya to dil pukaara
nabi ka pyaara, hasee.n dulaara
kamaal aaya ! kamaal aaya !

nabi ka lab par jo zikr hai
be-misaal aaya, kamaal aaya !

nabi to, Saaim ! sabhi hai.n aa’la
hai.n rutbe sab ke azeem-o-baala
magar jo aaKHir me.n aamina ka
wo laal aaya, kamaal aaya !

nabi ka lab par jo zikr hai
be-misaal aaya, kamaal aaya !

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *