Nabi Ka Mohsin Khalifa Awwal Sadaaqaton Ka ‘Azeem Paikar Naat Lyrics

Nabi Ka Mohsin Khalifa Awwal Sadaaqaton Ka ‘Azeem Paikar Naat Lyrics

 

नबी का मोहसिन, ख़लीफ़ा अव्वल, सदाक़तों का ‘अज़ीम पैकर
हमें अबू-बक्र जाँ से प्यारा, है क़ल्ब-ए-उम्मत सिद्दीक़-ए-अकबर

नबी हो दामाद जिस बशर का, बशर वो कितना अज़ीम-तर है
तमाम असहाब का वो सालार, रहबर-ओ-ज़ात-ए-मो’तबर है
मिला के शाना चला नबी से, कठिन मराहिल में बे-ख़तर है
सफ़-ए-‘अदू पे गिरा हमेशा वो बर्क़-ए-ईमाँ कड़कती बन कर

नबी का मोहसिन, ख़लीफ़ा अव्वल, सदाक़तों का ‘अज़ीम पैकर
हमें अबू-बक्र जाँ से प्यारा, है क़ल्ब-ए-उम्मत सिद्दीक़-ए-अकबर

वो राज़ी रब से, रब उस से राज़ी, वो पाक, बे-दाग़, गुल-बदन था
था जन्नती शख़्स क़ौल-ए-आक़ा, वो नूर-ए-ईमाँ की अंजुमन था
वो हल्क़ा-ए-दोस्ताँ में ख़ुश्बू, वो रज़्म-ए-बातिल में सफ़-शिकन था
वो आज भी मोमिनों की धड़कन, मुनाफ़िक़ों के लिए है ख़ंजर

नबी का मोहसिन, ख़लीफ़ा अव्वल, सदाक़तों का ‘अज़ीम पैकर
हमें अबू-बक्र जाँ से प्यारा, है क़ल्ब-ए-उम्मत सिद्दीक़-ए-अकबर

था हम-सफ़र, यार-ए-ग़ार-ए-सरवर, वफ़ा की इक जावेदाँ निशानी
दयार-ए-मक्का में संग आक़ा के सह गया ज़ुल्म-ओ-बद-ज़ुबानी
था बा’द अज़ अम्बिया वो अफ़ज़ल, की दीन की जिस ने तर्जुमानी
वली नबी का, ‘उमर का साथी, ग़नी की धड़कन, वो जान-ए-हैदर

नबी का मोहसिन, ख़लीफ़ा अव्वल, सदाक़तों का ‘अज़ीम पैकर
हमें अबू-बक्र जाँ से प्यारा, है क़ल्ब-ए-उम्मत सिद्दीक़-ए-अकबर

‘अजब सख़ावत ! नबी के ए’लान पे मोहब्बत से घर लुटाया
ज़कात-ओ-ख़ैरात रोकने वाले फ़ित्ना-बाज़ों का सर उड़ाया
कभी नुबुव्वत के दा’वेदारों का जड़ से नाम-ओ-निशाँ मिटाया
क्या शान ! रब ने सुला दिया उन को रौज़ा-ए-मुस्तफ़ा के अंदर

नबी का मोहसिन, ख़लीफ़ा अव्वल, सदाक़तों का ‘अज़ीम पैकर
हमें अबू-बक्र जाँ से प्यारा, है क़ल्ब-ए-उम्मत सिद्दीक़-ए-अकबर

शायर:
मुग़ीरा हैदर

ना’त-ख़्वाँ:
हंज़ला अब्दुल्लाह
मुहम्मद हस्सान रज़ा क़ादरी

 

nabi ka mohsin, KHalifa awwal
sadaaqato.n ka ‘azeem paikar
hame.n abu-bakr jaa.n se pyaara
hai qalb-e-ummat siddiq-e-akbar

nabi ho daamaad jis bashar ka
bashar wo kitna azeem-tar hai
tamaam ashaab ka wo saalaar
rahbar-o-zaat-e-mo’tabar hai
mila ke shaana chala nabi se
kaThin maraahil me.n be-KHatar hai
saf-e-‘adoo pe gira hamesha
wo barq-e-imaa.n ka.Dakti ban kar

nabi ka mohsin, KHalifa awwal
sadaaqato.n ka ‘azeem paikar
hame.n abu-bakr jaa.n se pyaara
hai qalb-e-ummat siddiq-e-akbar

wo raazi rab se, rab us se raazi
wo paak, be-daaG, gul-badan tha
tha jannati shaKHs qaul-e-aaqa
wo noor-e-imaa.n ki anjuman tha
wo halqa-e-dostaa.n me.n KHushboo
wo razm-e-baatil me.n saf-shikan tha
wo aaj bhi momino.n ki dha.Dkan
munaafiqo.n ke liye hai KHanjar

nabi ka mohsin, KHalifa awwal
sadaaqato.n ka ‘azeem paikar
hame.n abu-bakr jaa.n se pyaara
hai qalb-e-ummat siddiq-e-akbar

tha ham-safar, yaar-e-Gaar-e-sarwar
wafa ki ik jaavedaa.n nishaani
dayaar-e-makka me.n sang aaqa –
ke sah gaya zulm-o-bad-zubaani
tha baa’d az ambiya wo afzal
ki deen ki jis ne tarjumaani
wali nabi ka, ‘umar ka saathi
Gani ki dha.Dkan, wo jaan-e-haidar

nabi ka mohsin, KHalifa awwal
sadaaqato.n ka ‘azeem paikar
hame.n abu-bakr jaa.n se pyaara
hai qalb-e-ummat siddiq-e-akbar

‘ajab saKHaawat ! nabi ke e’laan –
pe mohabbat se ghar luTaaya
zakaat-o-KHairaat rokne waale
fitna-baazo.n ka sar u.Daaya
kabhi nubuwwat ke daa’wedaaro.n –
ka ja.D se naam-o-nishaa.n miTaaya
kya shaan ! rab ne sula diya –
un ko rauza-e-mustafa ke andar

nabi ka mohsin, KHalifa awwal
sadaaqato.n ka ‘azeem paikar
hame.n abu-bakr jaa.n se pyaara
hai qalb-e-ummat siddiq-e-akbar

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *