Nahin Hai Koi Duniya Mein Hamara Ya Rasoolallah Naat Lyrics

Nahin Hai Koi Duniya Mein Hamara Ya Rasoolallah Naat Lyrics

 

नहीं है कोई दुनिया में हमारा, या रसूलल्लाह !
हमें तो आप ही का है सहारा, या रसूलल्लाह !

सरापा मा’सियत हूँ, बार है बेहद गुनाहों का
बचाना नार-ए-दोज़ख़ से ख़ुदा-रा, या रसूलल्लाह !

हूँ सर से पाँव तक डूबा हुवा ग़म के समुंदर में
नहीं आता नज़र कोई किनारा, या रसूलल्लाह !

तलातुम-ख़ेज़ है दरिया, भँवर में है मेरी कश्ती
नज़र आता नहीं कोई किनारा, या रसूलल्लाह !

तड़पता है मेरा दिल और तरसती हैं बहुत आँखें
बुला लो अब मदीने में दोबारा, या रसूलल्लाह !

तड़पता है ये दिल मेरा, तरसती हैं मेरी आँखें
बुला लो अब मदीने में दोबारा, या रसूलल्लाह !

ख़ुदा जब आप से फ़रमाए, लाओ अपनी उम्मत को
हमारी सिम्त भी करना इशारा, या रसूलल्लाह !

फ़क़त आ’माल के बदले न पाएगा कोई जन्नत
न होगा आप का जब तक इशारा, या रसूलल्लाह !

ब-रोज़-ए-हश्र मेरे इस यक़ीं की लाज रख लेना
तुम्हारा हूँ, तुम्हारा हूँ, तुम्हारा, या रसूलल्लाह !

हक़ीक़त में बहुत बढ़ कर के है ‘अर्श-ए-मु’अल्ला से
ज़मीं जिस पर हो नक़्श-ए-पा तुम्हारा, या रसूलल्लाह !

दम-ए-आख़िर ज़रा मुश्ताक़ पर इतना करम करना
कि इस के लब पे हो कलमा तुम्हारा, या रसूलल्लाह !

ना’त-ख़्वाँ:
ख़ालिद हसनैन ख़ालिद
वक़्क़ार आज़म क़ादरी
आबिद रउफ़ क़ादरी
फ़रहान अली क़ादरी

 

nahi.n hai koi duniya me.n hamaara, ya rasoolallah !
hame.n to aap hi ka hai sahaara, ya rasoolallah !

saraapa maa’siyat hu.n, baar hai behad gunaaho.n ka
bachaana naar-e-dozaKH se KHuda-ra, ya rasoolallah !

hu.n sar se paanw tak Dooba huwa Gam ke samundar me.n
nahi.n aata nazar koi kinaara, ya rasoolallah !

talaatum-KHez hai dariya, bhanwar me.n hai meri kashti
nazar aata nahi.n koi kinaara, ya rasoolallah !

ta.Dapta hai mera dil aur tarasti hai.n bahut aankhe.n
bula lo ab madine me.n dobaara, ya rasoolallah !

ta.Dapta hai ye dil mera, tarasti hai.n meri aankhe.n
bula lo ab madine me.n dobaara, ya rasoolallah !

KHuda jab aap se farmaae, laao apni ummat ko
hamaari simt bhi karna ishaara, ya rasoolallah !

faqat aa’maal ke badle na paaega koi jannat
na hoga aap ka jab tak ishaara, ya rasoolallah !

ba-roz-e-hashr mere is yaqee.n ki laaj rakh lena
tumhaara hu.n, tumhaara hu.n, tumhaara, ya rasoolallah !

haqeeqat me.n bahut ba.Dh kar ke hai ‘arsh-e-mu’alla se
zamee.n jis par ho naqsh-e-paa tumhaara, ya rasoolallah !

dam-e-aaKHir zara Mushtaaq par itna karam karna
ki is ke lab pe ho kalma tumhaara, ya rasoolallah !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *