Neamat-e-Kibriya Mere Ahmad Raza Naat Lyrics

Neamat-e-Kibriya Mere Ahmad Raza Naat Lyrics

 

 

 

Neamat-e-Kibriya Mere Ahmad Raza | Mere Ahmad Raza Mere Ahmad Raza | Ishq-o-Mohabbat Ala Hazrat

 

‘इश्क़-ओ-मोहब्बत ! ‘इश्क़-ओ-मोहब्बत !
आ’ला हज़रत ! आ’ला हज़रत !

मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !
मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !

रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान
रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान

ने’मत-ए-किब्रिया, मेरे अहमद रज़ा !
मुस्तफ़ा की ‘अता, मेरे अहमद रज़ा !
तेवर-ए-मुर्तज़ा, मेरे अहमद रज़ा !
फ़ैज़-ए-ग़ौस-उल-वरा, मेरे अहमद रज़ा !

मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !
मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !

रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान
रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान

‘इल्म की कान हो, बोले अहल-ए-नज़र
हो गई रौशनी चल दिए हो जिधर
अहल-ए-‘अक़्ल-ओ-ख़िरद दंग हैं देख कर
आप का मर्तबा, मेरे अहमद रज़ा !

मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !
मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !

रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान
रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान

बद-‘अक़ीदों के शर से बचाया हमें
और मदीने का रस्ता दिखाया हमें
जाम-ए-‘इश्क़-ए-मुहम्मद पिलाया हमें
है ये एहसाँ तेरा, मेरे अहमद रज़ा !

मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !
मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !

रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान
रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान

हिन्द की वो ज़मीं पर न आते अगर
बद-‘अक़ीदों की फिर कैसे होती ख़बर
आ गए देने पहरा लो ईमान पर
बन के फ़ज़्ल-ए-ख़ुदा, मेरे अहमद रज़ा !

मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !
मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !

रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान
रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान

अहल-ए-‘इल्म-ओ-‘अमल से लक़ब आप को
आ’ला हज़रत मिला, मेरे अहमद रज़ा !
चार-सू सुन्नियत में बहारें हैं जो
है करम आप का, मेरे अहमद रज़ा !

मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !
मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !

रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान
रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान

ज़िंदगी में मेरी हैं बड़े रंज-ओ-ग़म
मेरी जानिब भी हो इक निगाह-ए-करम
हो ‘अता मुझ को भी ‘इश्क़-ए-शाह-ए-उमम
बहर-ए-ग़ौस-उल-वरा, मेरे अहमद रज़ा !

मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !
मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !

रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान
रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान

आप ही का मुख़ालिफ़ को डर है फ़क़त
आप ही का दिलों पर असर है फ़क़त
कोई माने न माने मगर है फ़क़त
दौर ये आप का, मेरे अहमद रज़ा !

मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !
मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !

रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान
रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान

आ रही है सदा चार-सू से यही
बस गई है दिलों में मेरी शा’इरी
आज जो कुछ भी है ‘आसिम-उल-क़ादरी
आप की है ‘अता, मेरे अहमद रज़ा !

मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !
मेरे अहमद रज़ा ! मेरे अहमद रज़ा !

रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान
रज़ा मेरी जान जान जान, रज़ा मेरी जान

शायर:
मुहम्मद आसिम-उल-क़ादरी मुरादाबादी

ना’त-ख़्वाँ:
ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी

 

‘ishq-o-mohabbat ! ‘ishq-o-mohabbat !
aa’la hazrat ! aa’la hazrat !

mere ahmad raza ! mere ahmad raza !
mere ahmad raza ! mere ahmad raza !

raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan
raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan

ne’mat-e-kibriya, mere ahmad raza !
mustafa ki ‘ata, mere ahmad raza !
tewar-e-murtaza, mere ahmad raza !
faiz-e-Gaus-ul-wara, mere ahmad raza !

mere ahmad raza ! mere ahmad raza !
mere ahmad raza ! mere ahmad raza !

raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan
raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan

‘ilm ki kaan ho, bole ahl-e-nazar
ho gai raushani chal diye ho jidhar
ahl-e-‘aql-o-KHirad dang hai.n dekh kar
aap ka martaba, mere ahmad raza !

mere ahmad raza ! mere ahmad raza !
mere ahmad raza ! mere ahmad raza !

raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan
raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan

bad-‘aqeedo.n ke shar se bachaaya hame.n
aur madine ka rasta dikhaaya hame.n
jaam-e-‘ishq-e-muhammad pilaaya hame.n
hai ye ehsaa.n tera, mere ahmad raza !

mere ahmad raza ! mere ahmad raza !
mere ahmad raza ! mere ahmad raza !

raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan
raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan

hind ki wo zamee.n par na aate agar
bad-‘aqeedo.n ki phir kaise hoti KHabar
aa gae dene pehra lo imaan par
ban ke fazl-e-KHuda, mere ahmad raza !

mere ahmad raza ! mere ahmad raza !
mere ahmad raza ! mere ahmad raza !

raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan
raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan

ahl-e-‘ilm-o-‘amal se laqab aap ko
aa’la hazrat mila, mere ahmad raza !
chaar-soo sunniyat me.n bahaare.n hai.n jo
hai karam aap ka, mere ahmad raza !

mere ahmad raza ! mere ahmad raza !
mere ahmad raza ! mere ahmad raza !

raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan
raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan

zindagi me.n meri hai.n ba.De ranj-o-Gam
meri jaanib bhi ho ik nigaah-e-karam
ho ‘ata mujh ko bhi ‘ishq-e-shaah-e-umam
bahr-e-Gaus-ul-wara, mere ahmad raza !

mere ahmad raza ! mere ahmad raza !
mere ahmad raza ! mere ahmad raza !

raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan
raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan

aap hi ka muKHaalif ko Dar hai faqat
aap hi ka dilo.n par asar hai faqat
koi maane na maane magar hai faqat
daur ye aap ka, mere ahmad raza !

mere ahmad raza ! mere ahmad raza !
mere ahmad raza ! mere ahmad raza !

raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan
raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan

aa rahi hai sada chaar-soo se yahi
bas gai hai dilo.n me.n meri shaa’iri
aaj jo kuchh bhi hai ‘Aasim-ul-Qadri
aap ki hai ‘ata, mere ahmad raza !

mere ahmad raza ! mere ahmad raza !
mere ahmad raza ! mere ahmad raza !

raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan
raza meri jaan jaan jaan, raza meri jaan

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *