Peeran-e-Peer Lajpal Meeran Naat Lyrics

Peeran-e-Peer Lajpal Meeran Naat Lyrics

 

 

पीरान-ए-पीर लज-पाल मीराँ !
नूर-ए-नबी, मुस्तफ़ा के लाल मीराँ !

ख़ाक-ए-क़दम का मैं सुरमा बनाऊँ
राह में तुमरी मैं पलकें बिछाऊँ
महबूब-ए-रब्ब-ए-ज़ुल-जलाल मीराँ !

पीरान-ए-पीर लज-पाल मीराँ !
नूर-ए-नबी, मुस्तफ़ा के लाल मीराँ !

बुढ़िया की हसरत को तुम ने मिटाया
बिछड़े पिसर से उसे फिर मिलाया
डूबी हुई कश्ती दी निकाल, मीराँ !

पीरान-ए-पीर लज-पाल मीराँ !
नूर-ए-नबी, मुस्तफ़ा के लाल मीराँ !

सर पे विलायत का है ताज आ’ला
नूर-ए-नबी का है काँधे पे दोशाला
पंज-तनी रुख़ पे है जमाल, मीराँ !

पीरान-ए-पीर लज-पाल मीराँ !
नूर-ए-नबी, मुस्तफ़ा के लाल मीराँ !

क़ादरी सख़ावत के चर्चे बड़े हैं
ग़ौस-ओ-क़ुतुब हाथ बाँधे खड़े हैं
कर रहे हैं सब को माला-माल मीराँ

पीरान-ए-पीर लज-पाल मीराँ !
नूर-ए-नबी, मुस्तफ़ा के लाल मीराँ !

वलियों ने क़दमों में गर्दन झुकाई
साया-फ़िगन तुम पे है मुस्तफ़ाई
आप की नहीं कोई मिसाल, मीराँ

पीरान-ए-पीर लज-पाल मीराँ !
नूर-ए-नबी, मुस्तफ़ा के लाल मीराँ !

‘आसी के दिल को मदीना बना दो
नूर-ए-मुहम्मद के जल्वे बसा दो
कर दो करम, पीर-ए-बा-कमाल मीराँ !

पीरान-ए-पीर लज-पाल मीराँ !
नूर-ए-नबी, मुस्तफ़ा के लाल मीराँ !

ना’त-ख़्वाँ:
हाजी बिलाल रज़ा क़ादरी
अक़्सा अब्दुल हक़
बिलाल क़ादरी मूसानी

 

peeraan-e-peer laj-paal meera.n !
noor-e-nabi, mustafa ke laal meera.n !

KHaak-e-qadam ka mai.n surma banaau.n
raah me.n tumri mai.n palke.n bichhaau.n
mahboob-e-rabb-e-zul-jalaal meera.n !

peeraan-e-peer laj-paal meera.n !
noor-e-nabi, mustafa ke laal meera.n !

bu.Dhiya ki hasrat ko tum ne miTaaya
bichh.De pisar se use phir milaaya
Doobi hui kashti di nikaal, meera.n !

peeraan-e-peer laj-paal meera.n !
noor-e-nabi, mustafa ke laal meera.n !

sar pe wilaayat ka hai taaj aa’la
noor-e-nabi ka hai kaandhe pe doshaala
panj-tani ruKH pe hai jamaal, meera.n !

peeraan-e-peer laj-paal meera.n !
noor-e-nabi, mustafa ke laal meera.n !

Qaadri saKHaawat ke charche ba.De hai.n
Gaus-o-Qutub haath baandhe kha.De hai.n
kar rahe hai.n sab ko maala-maal meera.n !

peeraan-e-peer laj-paal meera.n !
noor-e-nabi, mustafa ke laal meera.n !

waliyo.n ne qadmo.n me.n gardan jhukaai
saaya-figan tum pe hai mustafaai
aap ki nahi.n koi misaal, meera.n !

peeraan-e-peer laj-paal meera.n !
noor-e-nabi, mustafa ke laal meera.n !

‘Aasi ke dil ko madina bana do
noor-e-muhammad ke jalwe basa do
kar do karam, peer-e-baa-kamaal meera.n !

peeraan-e-peer laj-paal meera.n !
noor-e-nabi, mustafa ke laal meera.n !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *