Phaila Hai Chaaro Samt Andhera Mere Huzoor Lillah Ab To Keeje Ujaala Mere Huzoor Naat Lyrics

Phaila Hai Chaaro Samt Andhera Mere Huzoor Lillah Ab To Keeje Ujaala Mere Huzoor Naat Lyrics

 

फैला है चारो सम्त अँधेरा, मेरे हुज़ूर !
लिल्लाह ! अब तो कीजे उजाला, मेरे हुज़ूर !
डूबे न बहर-ए-ग़म में सफ़ीना, मेरे हुज़ूर !
दिखलाइए ख़ुदारा मदीना, मेरे हुज़ूर !

उम्मत की कितनी फ़िक्र है ज़हरा बतूल को
बख़्शिश की कितनी चाह है बिन्त-ए-रसूल को
भीगा है आँसूओं से मुसल्ला, मेरे हुज़ूर !
लिल्लाह ! अब तो कीजे उजाला, मेरे हुज़ूर !

डूबे न बहर-ए-ग़म में सफ़ीना, मेरे हुज़ूर !
दिखलाइए ख़ुदारा मदीना, मेरे हुज़ूर !

बन कर नजिस वो पैदा हुए हैं जहान में
कुत्ते जो भौंकते हैं सहाबा की शान में
कर दें ‘अली अब उन का सफ़ाया, मेरे हुज़ूर !
लिल्लाह ! अब तो कीजे उजाला, मेरे हुज़ूर !

डूबे न बहर-ए-ग़म में सफ़ीना, मेरे हुज़ूर !
दिखलाइए ख़ुदारा मदीना, मेरे हुज़ूर !

आईन-ए-ज़िंदगी का वो दर खोलने लगे
शम्स-ओ-क़मर भी चुपके से ये बोलने लगे
हो जाए काश फिर से इशारा, मेरे हुज़ूर !
लिल्लाह ! अब तो कीजे उजाला, मेरे हुज़ूर !

डूबे न बहर-ए-ग़म में सफ़ीना, मेरे हुज़ूर !
दिखलाइए ख़ुदारा मदीना, मेरे हुज़ूर !

ना’त-ख़्वाँ:
असद इक़बाल

 

phaila hai chaaro samt andhera, mere huzoor !
lillah ! ab to keeje ujaala, mere huzoor !
Doobe na bahr-e-Gam me.n safeena, mere huzoor !
dikhlaaie KHudaara madina, mere huzoor !

ummat ki kitni fikr hai zahra batool ko
baKHshish ki kitni chaah hai bint-e-rasool ko
bheega hai aansuo.n se musalla, mere huzoor !
lillah ! ab to keeje ujaala, mere huzoor !

Doobe na bahr-e-Gam me.n safeena, mere huzoor !
dikhlaaie KHudaara madina, mere huzoor !

ban kar najis wo paida hue hai.n jahaan me.n
kutte jo bhaunkte hai.n sahaaba ki shaan me.n
kar de.n ‘ali ab un ka safaaya, mere huzoor !
lillah ! ab to keeje ujaala, mere huzoor !

Doobe na bahr-e-Gam me.n safeena, mere huzoor !
dikhlaaie KHudaara madina, mere huzoor !

aaeen-e-zindagi ka wo dar kholne lage
shams-o-qamar bhi chupke se ye bolne lage
ho jaae kaash phir se ishaara, mere huzoor
lillah ! ab to keeje ujaala, mere huzoor !

Doobe na bahr-e-Gam me.n safeena, mere huzoor !
dikhlaaie KHudaara madina, mere huzoor !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *