Piya Ghaus-e-Aa’zam Naat Lyrics

Piya Ghaus-e-Aa’zam Naat Lyrics

 

 

 

Piya Ghaus-e-Aa’zam, Piya Ghaus-e-Aa’zam, Hai Tum Par Nichhaawar Jiya, Ghaus-e-Aa’zam

 

पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म ! पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म !
है तुम पर निछावर जिया, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

पिया ! पास आ के, सूरतिया दिखा के
गए मोरे मन माँ समा, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म ! पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म !
है तुम पर निछावर जिया, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

न रुठियो जी मो से, ई बिनती है तो से
सदा मो पे कीजो दया, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म ! पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म !
है तुम पर निछावर जिया, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

जो पकड़े हैं बैयाँ, निभाना भी सैयाँ
पड़ूँ तोरे पैयाँ, पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म !

पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म ! पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म !
है तुम पर निछावर जिया, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

न बंधन ये टूटे, न साथ अब ये छूटे
मोरी लाज रखियो सदा, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म ! पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म !
है तुम पर निछावर जिया, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

है लागी नजरिया जो तो से सँवरिया
न लागे कहीं अब जिया, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म ! पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म !
है तुम पर निछावर जिया, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

मोरी टूटी नैया के तुम हो खिवैया
चलेगी न तुमरे बिना, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म ! पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म !
है तुम पर निछावर जिया, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

तुम्हारे ही चरनन माँ बीते ई जीवन
निज़ामी की है इल्तिजा, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म ! पिया ग़ौस-ए-आ’ज़म !
है तुम पर निछावर जिया, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

शायर:
सय्यिद निज़ाम अशरफ़ अशरफ़ी

ना’त-ख़्वाँ:
निसार अहमद मार्फ़ानी

 

piya Gaus-e-aa’zam ! piya Gaus-e-aa’zam !
hai tum par nichhaawar jiya, Gaus-e-aa’zam !

piya ! paas aa ke, sooratiya dikha ke
gae more man maa.n sama, Gaus-e-aa’zam !

piya Gaus-e-aa’zam ! piya Gaus-e-aa’zam !
hai tum par nichhaawar jiya, Gaus-e-aa’zam !

na ruThiyo ji mo se, ee binti hai to se
sada mo pe keejo daya, Gaus-e-aa’zam !

piya Gaus-e-aa’zam ! piya Gaus-e-aa’zam !
hai tum par nichhaawar jiya, Gaus-e-aa’zam !

jo pak.De hai.n baiyaa.n, nibhaana bhi saiyaa.n
pa.Doo.n tore paiyaa.n, piya Gaus-e-aa’zam !

piya Gaus-e-aa’zam ! piya Gaus-e-aa’zam !
hai tum par nichhaawar jiya, Gaus-e-aa’zam !

na bandhan ye TooTe, na saath ab ye chooTe
mori laaj rakhiyo sada, Gaus-e-aa’zam !

piya Gaus-e-aa’zam ! piya Gaus-e-aa’zam !
hai tum par nichhaawar jiya, Gaus-e-aa’zam !

hai laagi najariya jo to se sanwariyaa.n
na laage kahi.n ab jiya, Gaus-e-aa’zam !

piya Gaus-e-aa’zam ! piya Gaus-e-aa’zam !
hai tum par nichhaawar jiya, Gaus-e-aa’zam !

mori TooTi naiya ke tum ho khiwaiya
chalegi na tumre bina, Gaus-e-aa’zam !

piya Gaus-e-aa’zam ! piya Gaus-e-aa’zam !
hai tum par nichhaawar jiya, Gaus-e-aa’zam !

tumhaare hi charnan maa.n beete ee jeewan
Nizami ki hai iltija, Gaus-e-aa’zam !

piya Gaus-e-aa’zam ! piya Gaus-e-aa’zam !
hai tum par nichhaawar jiya, Gaus-e-aa’zam !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *