Qadri Aastana Salamat Rahe Naat Lyrics

Qadri Aastana Salamat Rahe Naat Lyrics

 

 

क़ादरी आस्ताना सलामत रहे
मुस्तफ़ा का घराना सलामत रहे

पल रहे हैं जहाँ से ये दोनों जहाँ
वो सख़ी आस्ताना सलामत रहे

पल रहे हैं जहाँ से ये शाह-ओ-गदा
वो सख़ी आस्ताना सलामत रहे

दर्दमंदों के सर पर है साया-फ़िगन
आप का शामियाना सलामत रहे

तुम से मंसूब है ज़िंदगी का निसाब
हश्र तक ये फ़साना सलामत रहे

ये नकीरैन बोले मुझे क़ब्र में
मुस्तफ़ा का दीवाना सलामत रहे

हुक्म था कि अदा हों नमाज़ें पचास
आप का आना-जाना सलामत रहे

है क़यामत तलक हर ज़माना तेरा
तेरा हर इक ज़माना सलामत रहे

ग़ौस की महफ़िलें फिर से सजने लगीं
सुन्नियों का घराना सलामत रहे

‘इत्रत-ए-फ़ातिमा पर उजागर निसार
सय्यिदा का घराना सलामत रहे

शायर:
अल्लामा निसार अली उजागर

ना’त-ख़्वाँ:
मीलाद रज़ा क़ादरी
हाफ़िज़ ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी
सय्यिद फ़ुर्क़ान क़ादरी
सय्यिद अर्सलान शाह क़ादरी

 

qaadri aastaana salaamat rahe
mustafa ka gharaana salaamat rahe

pal rahe hai.n jahaa.n se ye dono.n jahaa.n
wo saKHi aastaana salaamat rahe

pal rahe hai.n jahaa.n se ye shaah-o-gada
wo saKHi aastaana salaamat rahe

dardmando.n ke sar par hai saaya-figan
aap ka shaamiyaana salaamat rahe

tum se mansoob hai zindagi ka nisaab
hashr tak ye fasaana salaamat rahe

ye nakeerain bole mujhe qabr me.n
mustafa ka deewaana salaamat rahe

hukm tha ki ada ho.n namaaze.n pachaas
aap ka aana-jaana salaamat rahe

hai qayaamat talak har zamaana tera
tera har ik zamaana salaamat rahe

Gaus ki mehfile.n phir se sajne lagee.n
sunniyo.n ka gharaana salaamat rahe

‘itrat-e-faatima par Ujaagar nisaar
sayyida ka gharaana salaamat rahe

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *