Qalb-e-Aashiq Hai Ab Paara Paara Al-Wadaa’a Al-Wadaa’a Maah-e-Ramzaan Naat Lyrics

Qalb-e-Aashiq Hai Ab Paara Paara Al-Wadaa’a Al-Wadaa’a Maah-e-Ramzaan Naat Lyrics

क़ल्ब-ए-‘आशिक़ है अब पारा पारा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !
कुल्फ़त-ए-हिज्र-ओ-फ़ुर्क़त ने मारा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

तेरे आने से दिल ख़ुश हुआ था
और ज़ौक़-ए-‘इबादत बढ़ा था
आह ! अब दिल पे है ग़म का ग़लबा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

मस्जिदों में बहार आ गई थी
जौक़-दर-जौक़ आते नमाज़ी
हो गया कम नमाज़ों का जज़्बा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

बज़्म-ए-इफ़्तार सजती थी कैसी !
ख़ूब सहरी की रौनक़ भी होती
सब समाँ हो गया सूना सूना
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

तेरे दीवाने अब रो रहे हैं
मुज़्तरिब सब के सब हो रहे हैं
हाए ! अब वक़्त-ए-रुख़्सत है आया
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

तेरा ग़म हम को तड़पा रहा है
आतिश-ए-शौक़ भड़का रहा है
फट रहा है तेरे ग़म में सीना
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

याद रमज़ाँ की तड़पा रही है
आँसूओं की झड़ी लग गई है
कह रहा है ये हर एक क़तरा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

हसरता ! माह-ए-रमज़ाँ की रुख़्सत
क़ल्ब-ए-‘उश्शाक़ पर है क़ियामत
कौन देगा उन्हें अब दिलासा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

तुम पे लाखों सलाम, माह-ए-ग़ुफ़राँ !
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !
जाओ हाफ़िज़ ख़ुदा अब तुम्हारा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

नेकियाँ कुछ न हम कर सके हैं
आह ! ‘इस्याँ में ही दिन कटे हैं
हाए ! ग़फ़्लत में तुझ को गुज़ारा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

वासिता तुझ को मीठे नबी का
हश्र में हम को मत भूल जाना
रोज़-ए-महशर हमें बख़्शवाना
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

जब गुज़र जाएँगे माह ग्यारह
तेरी आमद का फिर शोर होगा
क्या मेरी ज़िंदगी का भरोसा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

माह-ए-रमज़ाँ की रंगीं फ़ज़ाओ !
अब्र-ए-रहमत से मम्लू हवाओं !
लो सलाम आख़िरी अब हमारा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

कुछ न हुस्न-ए-‘अमल कर सका हूँ
नज़्र चंद अश्क़ मैं कर रहा हूँ
बस यही है मेरा कुल असासा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

हाए ! ‘अत्तार-ए-बद-कार काहिल
रह गया ये ‘इबादत से ग़ाफ़िल
इस से ख़ुश हो के होना रवाना
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !

साल-ए-आइंदा, शाह-ए-हरम ! तुम
करना ‘अत्तार पर ये करम तुम
तुम मदीने में रमज़ाँ दिखाना
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ाँ !


क़ल्ब-ए-‘आशिक़ है अब पारा पारा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ
कुल्फ़त-ए-हिज्र-ओ-फ़ुर्क़त ने मारा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

तेरे आने से दिल ख़ुश हुआ था
और ज़ौक़-ए-‘इबादत बढ़ा था
आह ! अब दिल पे है ग़म का ग़लबा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

मस्जिदों में बहार आ गई थी
जौक़-दर-जौक़ आते नमाज़ी
हो गया कम नमाज़ों का जज़्बा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

बज़्म-ए-इफ़्तार सजती थी कैसी !
ख़ूब सहरी की रौनक़ भी होती
सब समाँ हो गया सूना सूना
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

तेरे दीवाने अब रो रहे हैं
मुज़्तरिब सब के सब हो रहे हैं
हाए ! अब वक़्त-ए-रुख़्सत है आया
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

तेरा ग़म हम को तड़पा रहा है
आतिश-ए-शौक़ भड़का रहा है
फट रहा है तेरे ग़म में सीना
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

याद रमज़ाँ की तड़पा रही है
आँसूओं की झड़ी लग गई है
कह रहा है ये हर एक क़तरा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

हसरता ! माह-ए-रमज़ाँ की रुख़्सत
क़ल्ब-ए-‘उश्शाक़ पर है क़ियामत
कौन देगा उन्हें अब दिलासा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

तुम पे लाखों सलाम, आह ! रमज़ाँ
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ
जाओ हाफ़िज़ ख़ुदा अब तुम्हारा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

नेकियाँ कुछ न हम कर सके हैं
आह ! ‘इस्याँ में ही दिन कटे हैं
हाए ! ग़फ़्लत में तुझ को गुज़ारा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

वासिता तुझ को मीठे नबी का
हश्र में हम को मत भूल जाना
रोज़-ए-महशर हमें बख़्शवाना
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

जब गुज़र जाएँगे माह ग्यारह
तेरी आमद का फिर शोर होगा
क्या मेरी ज़िंदगी का भरोसा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

माह-ए-रमज़ाँ की रंगीं फ़ज़ाओ !
अब्र-ए-रहमत से मम्लू हवाओं !
लो सलाम आख़िरी अब हमारा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

कुछ न हुस्न-ए-‘अमल कर सका हूँ
नज़्र चंद अश्क़ मैं कर रहा हूँ
बस यही है मेरा कुल असासा
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

हाए ! ‘अत्तार-ए-बद-कार काहिल
रह गया ये ‘इबादत से ग़ाफ़िल
इस से ख़ुश हो के होना रवाना
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

साल-ए-आइंदा, शाह-ए-हरम ! तुम
करना ‘अत्तार पर ये करम तुम
तुम मदीने में रमज़ाँ दिखाना
अल-वदा’अ, अल-वदा’अ, आह ! रमज़ाँ

शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी
असद रज़ा अत्तारी


qalb-e-‘aashiq hai ab paara paara
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !
kulfat-e-hijr-o-furqat ne maara
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

tere aane se dil KHush huaa tha
aur zauq-e-‘ibaadat ba.Dha tha
aah ! ab dil pe hai Gam ka Galba
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

masjido.n me.n bahaar aa gai thi
zauq-dar-zauq aate namaazi
ho gaya kam namaazo.n ka jazba
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

bazm-e-iftaar sajti thi kaisi !
KHoob sahri ki raunaq bhi hoti
sab samaa.n ho gaya soona soona
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

tere deewaane ab ro rahe hai.n
muztarib sab ke sab ho rahe hai.n
haae ! ab waqt-e-ruKHsat hai aaya
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

tera Gam ham ko ta.Dpa raha hai
aatish-e-shauq bha.Dka raha hai
phaT raha hai tere Gam se seena
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

yaad ramzaa.n ki ta.Dpa rahi hai
aansoo.o.n ki jha.Di lag gai hai
kah raha hai ye har ek qatra
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

hasrta ! maah-e-ramzaa.n ki ruKhsat
qalb-e-‘ushshaaq par hai qiyaamat
kaun dega unhe.n ab dilaasa
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

tum pe laakho.n salaam, maah-e-Gufraa.n
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !
jaao hafiz KHuda ab tumhara
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

nekiyaa.n kuchh na ham kar sake hai.n
aah ! ‘isyaa.n me.n hi din kaTe hai.n
haae ! Gaflat me.n tujh ko guzaara
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

waasita tujh ko meeThe nabi ka
hashr me.n ham ko mat bhool jaana
roz-e-mahshar hame.n baKHshwaana
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

jab guzar jaaenge maah gyaarah
teri aamad ka phir shor hoga
kya meri zindagi ka bharosa
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

maah-e-ramzaa.n ki rangee.n fazaao !
abr-e-rahmat se mamloo hawaao !
lo salaam aaKHiri ab hamaara
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

kuchh na husn-e-‘amal kar saka hu.n
nazr chand ashq mai.n kar raha hu.n
bas yahi hai mera kul asaasa
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

haae ! ‘Attar-e-bad-kaar kaahil
rah gaya ye ‘ibaadat se Gaafil
is se KHush ho ke hona rawaana
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !

saal-e-aa.inda, shaah-e-haram ! tum
karna ‘Attar par ye karam tum
tum madine me.n ramzaa.n dikhaana
al-wadaa’a, al-wadaa’a, maah-e-ramzaa.n !


qalb-e-‘aashiq hai ab paara paara
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n
kulfat-e-hijr-o-furqat ne maara
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

tere aane se dil KHush huaa tha
aur zauq-e-‘ibaadat ba.Dha tha
aah ! ab dil pe hai Gam ka Galba
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

masjido.n me.n bahaar aa gai thi
zauq-dar-zauq aate namaazi
ho gaya kam namaazo.n ka jazba
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

bazm-e-iftaar sajti thi kaisi !
KHoob sahri ki raunaq bhi hoti
sab samaa.n ho gaya soona soona
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

tere deewaane ab ro rahe hai.n
muztarib sab ke sab ho rahe hai.n
haae ! ab waqt-e-ruKHsat hai aaya
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

tera Gam ham ko ta.Dpa raha hai
aatish-e-shauq bha.Dka raha hai
phaT raha hai tere Gam se seena
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

yaad ramzaa.n ki ta.Dpa rahi hai
aansoo.o.n ki jha.Di lag gai hai
kah raha hai ye har ek qatra
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

hasrta ! maah-e-ramzaa.n ki ruKhsat
qalb-e-‘ushshaaq par hai qiyaamat
kaun dega unhe.n ab dilaasa
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

tum pe laakho.n salaam, aah ! ramzaa.n
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n
jaao hafiz KHuda ab tumhara
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

nekiyaa.n kuchh na ham kar sake hai.n
aah ! ‘isyaa.n me.n hi din kaTe hai.n
haae ! Gaflat me.n tujh ko guzaara
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

waasita tujh ko meeThe nabi ka
hashr me.n ham ko mat bhool jaana
roz-e-mahshar hame.n baKHshwaana
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

jab guzar jaaenge maah gyaarah
teri aamad ka phir shor hoga
kya meri zindagi ka bharosa
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

maah-e-ramzaa.n ki rangi.n fazaao !
abr-e-rahmat se mamloo hawaao !
lo salaam aaKHiri ab hamaara
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

kuchh na husn-e-‘amal kar saka hu.n
nazr chand ashq mai.n kar raha hu.n
bas yahi hai mera kul asaasa
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

haae ! ‘Attar-e-bad-kaar kaahil
rah gaya ye ‘ibaadat se Gaafil
is se KHush ho ke hona rawaana
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

saal-e-aa.inda, shaah-e-haram ! tum
karna ‘Attar par ye karam tum
tum madine me.n ramzaa.n dikhaana
al-wadaa’a, al-wadaa’a, aah ! ramzaa.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *