Raatein Bhi Madine Ki Baatein Bhi Madine Ki Naat Lyrics

Raatein Bhi Madine Ki Baatein Bhi Madine Ki Naat Lyrics

 

रातें भी मदीने की, बातें भी मदीने की
जीने में ये जीना है, क्या बात है जीने की

‘अर्सा हुआ तयबा की गलियों से वो गुज़रे हैं
इस वक़्त भी गलियों में ख़ुश्बू है पसीने की

ता’रीफ़ के लाइक़ जब अल्फ़ाज़ नहीं मिलते
ता’रीफ़ करे कोई किस तरह मदीने की

वो अपनी निगाहों से दीवाना बनाते हैं
ज़हमत भी नहीं देते मय-ख़्वार को पीने की

ये ज़ख़्म है तयबा का, ये सब को नहीं मिलता
कोशिश न करे कोई इस ज़ख़्म को सीने की

हर साल बुलाने का है राज़ यही, मिर्ज़ा !
सरकार बनाते हैं तक़दीर कमीने की

ना’त-ख़्वाँ:
असद रज़ा अत्तारी
ओवैस रज़ा क़ादरी

 

raate.n bhi madine ki, baate.n bhi madine ki
jeene me.n ye jeena hai, kya baat hai jeene ki

‘arsa huaa tayba ki galiyo.n se wo guzre hai.n
is waqt bhi galiyo.n me.n KHushboo hai paseene ki

taa’reef ke laa.iq jab alfaaz nahi.n milte
taa’reef kare koi kis taraha madine ki

wo apni nigaaho.n se deewaana banaate hai.n
zehmat hi nahi.n dete mai-KHwaar ko peene ki

ye zaKHm hai tayba ka, ye sab ko nahi.n milta
koshish na kare koi is zaKHm ko seene ki

har saal bulaane ka hai raaz yahi, Mirza !
sarkaar banaate hai.n taqdeer kameene ki

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *