Rahenge Hashr Tak Baaqi Bahattar Karbala Waale Naat Lyrics

Rahenge Hashr Tak Baaqi Bahattar Karbala Waale Naat Lyrics

 

रहेंगे हश्र तक बाक़ी बहत्तर कर्बला वाले
यज़ीदी मिट गए लेकिन हैं घर घर कर्बला वाले

सुनो, ए ज़ालिमो ! तुम प्यास का ताना न दो उन को
हैं रखते अपनी ठोकर में समंदर कर्बला वाले

यज़ीदी हैं कि मरते जा रहे हैं पानी पी पी कर
हैं प्यासे फिर भी ज़िंदा हैं बहत्तर कर्बला वाले

यज़ीदी फ़ौज थर थर काँप उठी, शल हुए बाज़ू
चले जब रन में सज कर प्यारे अकबर कर्बला वाले

जो दुनिया में लगाते हैं सबील-ए-सय्यिदुश्शुहदा
पिलाएँगे उन्हें महशर में कौसर कर्बला वाले

मेरा ईमाँ है, ‘आबिद ! इम्तिहान-ए-सब्र है वर्ना
हर इक दुश्मन पे भारी हैं ये असग़र कर्बला वाले

ना’त-ख़्वाँ:
अहमदुल फ़त्ताह

 

rahenge hashr tak baaqi bahattar karbala waale
yazeedi miT gae lekin hai.n ghar ghar karbala waale

suno, ai zaalimo ! tum pyaas ka taana na do un ko
hai.n rakhte apni Thokar me.n samandar karbala waale

yazeedi hai.n ki marte jaa rahe hai.n paani pi pi kar
hai.n pyaase phir bhi zinda hai.n bahattar karbala waale

yazeedi fauj thar thar kaanp uThi, shal hue baazoo
chale jab ran me.n saj kar pyaare akbar karbala waale

jo duniya me.n lagaate hai.n sabeel-e-sayyidushshuhda
pilaaenge unhe.n mahshar me.n kausar karbala waale

mera imaa.n hai, ‘Aabid ! imtihaan-e-sabr hai warna
har ik dushman pe bhaari hai.n ye asGar karbala waale

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *