Ramzaan Al-Wadaa’a Maah-e-Ramzaan Al-Wadaa’a Naat Lyrics

Ramzaan Al-Wadaa’a Maah-e-Ramzaan Al-Wadaa’a Naat Lyrics

 

 

रमज़ान है चला, माह-ए-रमज़ान है चला
रमज़ान है चला, माह-ए-रमज़ान है चला

रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ
रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ

रोती है आँख, दिल है परेशान, या ख़ुदा !
अब छोड़ के चला हमें रमज़ान, या ख़ुदा !
फिर से दिखाना तू माह-ए-ग़ुफ़रान, या ख़ुदा !
हम आसियों का है यही अरमान, या ख़ुदा !

रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ
रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ

आने से तेरे दिल को मिली थी मसर्रतें
हम आसियों पे रब की बरसती थी रहमतें
हर शख़्स शादमाँ था तेरी पा के ने’अमतें
तेरे तुफ़ैल रब ने ‘अता की थी बरकतें

रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ
रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ

इफ़्तार की वो रौनक़ें, सहरी की लज़्ज़तें
आती है याद मुझ को तरावीह की सा’अतें
क़ुरआन की तिलावतें, सज्दों की कसरतें
अब छोड़ के चली हमें रमज़ाँ की ज़ीनतें

रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ
रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ

जाने से तेरे रोते थे अल्लाह के नबी
और आप के सहाबा तड़प जाते थे सभी
ए मोमिनो ! क्या तुम ने भी ऐसा किया कभी
या सिर्फ़ तुम ने ‘ईद की हासिल है की ख़ुशी

रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ
रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ

हक़ तेरी मोहब्बत का न हम कर सके अदा
तुझ माह-ए-मुक़द्दस में भी करते रहे ख़ता
हम तेरे गुनहगार हैं, होना न तू ख़फ़ा
राज़ी तू हम से रहना ख़ुदा के लिये सदा

रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ
रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ

ए रब्ब-ए-काएनात के मेहमान ! अस्सलाम
‘आसिम की जान तुझ पे है क़ुर्बान, अस्सलाम
हम हो सके न तेरे क़द्र-दान, अस्सलाम
अपने ‘अमल पे हम हैं पशेमान, अस्सलाम

रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ
रमज़ान अल-वदा’अ, माह-ए-रमज़ान अल-वदा’अ

शायर:
मुहम्मद आसिम-उल-क़ादरी

ना’त-ख्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी और हाफ़िज़ अहसन क़ादरी

 

ramzaan hai chala, maah-e-ramzaan hai chala
ramzaan hai chala, maah-e-ramzaan hai chala

ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a
ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a

roti hai aankh, dil hai pareshaan, ya KHuda !
ab chho.D ke chala hame.n ramzaan, ya KHuda !
phir se dikhana tu maah-e-Gufraan, ya KHuda !
ham aasiyo.n ka hai yahi armaan, ya KHuda !

ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a
ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a

aane se tere dil ko mili thi masarrate.n
ham aasiyo.n pe rab ki barasti thi rahmate.n
har shaKHs shaadmaa.n tha teri pa ke ne’mate.n
tere tufail rab ne ‘ata ki thi barkate.n

ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a
ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a

iftaar ki wo raunaqe.n, sahari ki lazzate.n
aati hai yaad mujh ko taraawih ki saa’ate.n
qur.aan ki tilaawate.n, sajdo.n ki kasrate.n
ab chho.D ke chali hame.n ramzaa.n ki zeenate.n

ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a
ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a

jaane se tere rote the allah ke nabi
aur aap ke sahaaba ta.Dap jaate the sabhi
ai momino ! kya tum ne bhi aisa kiya kabhi
ya sirf tum ne ‘eid ki hasil hai ki KHushi

ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a
ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a

haq teri mohabbat ka na ham kar sake ada
tujh maah-e-muqaddas me.n bhi karte rahe KHata
ham tere gunahgaar hai.n, hona na tu KHafa
raazi tu ham se rahna KHuda ke liye sada

ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a
ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a

ai rabb-e-kaa.enaat ke mehmaan ! assalaam
‘Aasim ki jaan tujh pe hai qurbaan, assalaam
ham ho sake na tere qadr-daan, assalaam
apne ‘amal pe ham hai.n pashemaan, assalaam

ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a
ramzaan al-wadaa’a
maah-e-ramzaan al-wadaa’a

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *