Razavi Rang Mein Rang Jao Mere Yaar Naat Lyrics

Razavi Rang Mein Rang Jao Mere Yaar Naat Lyrics

 

रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

वो रज़ा, प्यारे रज़ा, अच्छे रज़ा, सच्चे रज़ा, मेरे रज़ा, सब के रज़ा, जिन की सदा हक़ की सना, जिन की ज़बाँ ‘इश्क़-बयाँ, जिन का क़लम हक़ का ‘अलम, जिन की जबीं महर-ए-यक़ीं, जिन का जिगर बाग़-ए-हुनर, पैकर-ए-ईसार

वो दिल-ओ-जाँ से फ़िदा-ए-शह-ए-अबरार, वो मक़बूल-ए-दर-ए-अहमद-ए-मुख़्तार, वो हैं ‘इश्क़-ए-रिसालत के ‘अलम-दार, वो दुनिया-ए-मोहब्बत के हैं सरदार, बड़ा आ’ला है किरदार, रज़ा से है हमें प्यार

रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

उन का सीना शह-ए-कौनैन की उल्फ़त का चमन, जिस की महक, जिस की लहक, फ़ख़्र-ए-ज़मीं, फ़ख़्र-ए-फ़लक, जिस के शजर बर्ग-ओ-समर, ग़ुंचा-ओ-गुल या’नी कि कुल रौनक़-ए-इस्लाम

उन की तहरीर की तनवीर से ता’मीर है मीनार-ए-वफ़ा, क़स्र-ए-सना, बाब-ए-करम, शहर-ए-हिकम, ‘इश्क़-ओ-मोहब्बत का जहाँ, नग़्मा-ए-आक़ा-ए-ज़माँ, सिद्क़-ओ-यक़ीं, ‘अज़मत-ए-दीं, हक़ का वक़ार

रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

‘इल्म-ओ-‘इरफ़ाँ के वो इक गौहर-ए-नायाब, हिदायत के वो महताब, शहंशाह-ए-सुख़न, नय्यर-ए-फ़न, फ़ख़्र-ए-ज़मन, शाह-ए-अदब, जान-ए-क़लम, नाज़-ए-‘अरब, शान-ए-‘अजम, ‘इश्क़-ओ-मोहब्बत के इमाम

जल्वा-ए-फ़ैज़-ए-नबी, महर-ए-‘इनायात-ए-‘अली, नूर-ए-दर-ए-ग़ौस-ए-जली, ‘अज़्म-ए-हुसैन, ‘अक्स-ए-हसन, हामी-ए-दीं, नाशिर-ए-हक़, जिन से है ता-हश्र गुलिस्तान-ए-शरी’अत में निखार

रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

वो गुल-ए-फ़ज़्ल-ओ-कमालात, चराग़-ए-दर-ए-बरकात, वो इक तोहफ़ा-ए-सादात, किछौछा की हैं सौग़ात, वो फ़ैज़ान-ए-दर-ए-ख़्वाजा-ए-अजमेर, ‘अता-ए-शह-ए-हजवेर

उन पे मुर्शिद भी करें नाज़, ये है कितनी बड़ी शान, ये कितना बड़ा ए’ज़ाज़, कि जिस से हुए अरबाब-ए-हिदायत में वो मुमताज़, ये है ‘इश्क़ की मे’राज, मिला उन को शरी’अत का तरीक़त का हसीं ताज, बने दीन के मे’मार

रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

ग़ैरत-ए-‘इश्क़-ए-रिसालत के वो इक ख़ंजर-ए-ख़ूँ-ख़्वार, वो इक बर्क़-ए-शरर-बार, हर इक नज्दी वहाबी के लिए शो’ला-फ़िशाँ, आफ़त-ए-जाँ, क़हर-ए-ख़ुदा, ज़र्ब-ए-‘अज़ीम

बन के वो तेग़-ए-‘उमर, कोह-ए-यक़ीं, ग़ैरत-ए-दीं, आगे बढ़े, हो के निडर, ख़त्म किए नज्द के शर, जिस की धमक, जिस का असर, आज भी है दाफ़े’-ए-अशरार

रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

‘इल्म-ए-बातिन हो कि ज़ाहिर, वो थे हर एक में माहिर, वो मुजद्दिद, वो वली हैं, वो कमालों के धनी हैं, मैं बयाँ कैसे करूँ उन के सब औसाफ़

ज़ोहद-ओ-तक़्वा के वो नायाब गुलिस्तान, वो हैं ना’त के हस्सान, वो ऐवान-ए-फ़क़ाहत के हैं नो’मान, उन्हों ने जो क़लम अपना चलाया, तो दलाइल का हसीं दरिया बहाया, वो हैं फ़ैज़-ए-शह-ए-कौनैन के शहकार

रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

जान-ए-रहमत पे सलाम ऐसा है मक़बूल, कि सब अहल-ए-सुनन का बना मा’मूल, जो है ‘इश्क़ से मा’मूर, ज़माने में है मशहूर, पढ़ा जाएगा दिन-रात, न कम होगी कभी धूम

उन के क़दमों के निशाँ, फ़ैज़-रसाँ, मख़्ज़न-ए-फ़न, ‘इल्मी चमन, मस्लक-ए-हक़, मशरब-ए-हक़, राह-ए-जिनाँ, बाग़-ए-अमाँ, होगा सदा ज़िक्र-ए-रज़ा, विर्द-ए-ज़बाँ, चारों तरफ़, हश्र तलक, लैल-ओ-नहार

रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

किश्वर-ए-‘इल्म के बे-मिस्ल शहंशाह के दरबार-ए-गुहरबार में, गुल्हा-ए-सुख़न, हदिया-ए-फ़न, तोहफ़ा-ए-ईसार-ओ-वफ़ा, गौहर-ए-तौसीफ़-ओ-सना, ले के फ़रीदी है खड़ा, बहर-ए-क़ुबूल

काश ! वो कर दें ज़रा चश्म-ए-‘अता, मुझ को मिलें ला’ल-ए-करम, जिन से भरे दामन-ए-फ़न, जेब-ए-क़लम, जिन से चमक जाए, दमक जाए मेरा ख़ाना-ए-अफ़्कार

रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !
रज़वी रंग में रंग जाओ, मेरे यार !

शायर:
मुहम्मद सलमान रज़ा फ़रीदी मिस्बाही

ना’त-ख़्वाँ:
मुहम्मद हस्सान रज़ा क़ादरी
मुहम्मद सादिक़ रज़वी
हाफ़िज़ इल्यास बरकाती

 

razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !
razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !

wo raza, pyaare raza, achchhe raza, sachche raza, sab ke raza, jin ki sada haq ki sana, jin ki zabaa.n ‘ishq-bayaa.n, jin ka qalam haq ka ‘alam, jin ki jabee.n mehr-e-yaqee.n, jin ka jigar baaG-e-hunar, paikar-e-isaar

wo dil-o-jaa.n se fida-e-shah-e-abraar, wo maqbool-e-dar-e-ahmad-e-muKHtaar, wo hai.n ‘ishq-e-risaalat ke ‘alam-daar, wo duniya-e-mohabbat ke hai.n sardaar, ba.Da aa’la hai kirdaar, raza se hai hame.n pyaar

razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !
razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !

un ka seena shah-e-kaunain ki ulfat ka chaman, jis ki mahak, ji ki lahak, faKHr-e-zamee.n, faKHr-e-falak, jis ke shajar barg-o-samar, Guncha-o-gul yaa’ni ki kul raunaq-e-islaam

un ki tahreer ki tanweer se taa’meer hai minaar-e-wafa, qasr-e-sana, baab-e-karam, shahr-e-hikam, ‘ishq-o-mohabbat ka jahaa.n, naGma-e-aaqa-e-zamaa.n, sidq-o-yaqee.n, ‘azmat-e-dee.n, haq ka waqaar

razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !
razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !

‘ilm-o-‘irfaa.n ke wo ik gauhar-e-naayaab, hidaayat ke wo mahtaab, shanshaah-e-suKHan, naiyar-e-fan, faKHr-e-zaman, shaah-e-adab, jaan-e-qalam, naaz-e-‘arab, shaan-e-‘ajam, ‘ishq-o-mohabbat ke imaam

jalwa-e-faiz-e-nabi, mehr-e-‘inaayaat-e-‘ali, noor-e-dar-e-Gaus-e-jali, ‘azm-e-husain, ‘aks-e-hasan, haami-e-dee.n, naashir-e-haq, jin se hai taa-hashr gulistaan-e-sharee’at me.n nikhaar

razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !
razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !

wo gul-e-fazl-o-kamaalaat, charaaG-e-dar-e-barkaat, wo ik tohfa-e-saadaat, kichhauchha ki hai.n sauGaat, wo faizaan-e-dar-e-KHwaaja-e-ajmer, ‘ata-e-shah-e-hajwer

un pe murshid bhi kare.n naaz, ye hai kitni ba.Di shaan, ye kitna ba.Da e’zaaz, ki jis se hue arbaab-e-hidaayat me.n wo mumtaaz, ye hai ‘ishq ki me’raaj, mila un ko sharee’at ka tareeqat ka hasee.n taaj, bane deen ke me’maar

razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !
razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !

Gairat-e-‘ishq-e-risaalat ke wo ik KHanjar-e-KHoo.n-KHwaar, wo ik barq-e-sharar-baar, har ik najdi wahaabi ke liye sho’la-fisha.n, aafat-e-jaa.n, qahr-e-KHuda, zarb-e-‘azeem

ban ke wo teG-e-‘umar, koh-e-yaqee.n, Gairat-e-dee.n, aage ba.Dhe, ho ke niDar, KHatm kiye najd ke shar, jis ki dhamak, jis ka asar, aaj bhi hai dafe’-e-ashraar

razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !
razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !

‘ilm-e-baatin ho ki zaahir, wo the har ek me.n maahir, wo mujaddid, wo wali hai.n, wo kamaalo.n ke dhani hai.n, mai.n bayaa.n kaise karu.n un ke sab ausaaf

zohd-o-taqwa ke wo naayaab gulistaan, wo hai.n naa’t ke hassaan, wo aiwaan-e-faqaahat ke hai.n no’maan, unho.n ne jo qalam apna chalaaya, to dalaail ka hasee.n dariya bahaaya, wo hai.n faiz-e-shah-e-kaunain ke shahkaar

razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !
razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !

jaan-e-rahmat pe salaam aisa hai maqbool, ki sab ahl-e-sunan ka bana maa’mool, jo hai ‘ishq se maa’moor, zamaane me.n hai mash.hoor, pa.Dha jaaega din-raat, na kam hogi kabhi dhoom

un ke qadmo.n ke nisha.n, faiz-rasaa.n, maKHzan-e-fan, ‘ilmi chaman, maslak-e-haq, mashrab-e-haq, raah-e-jina.n, baaG-e-ama.n, hoga sada zikr-e-raza, wird-e-zabaa.n, chaaro.n taraf, hashr talak, lail-o-nahaar

razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !
razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !

kishwar-e-‘ilm ke be-misl shahanshah ke darbaar-e-guharbaar me.n, gulha-e-suKHan, hadiya-e-fan, tohfa-e-isaar-o-wafa, gauhar-e-tauseef-o-sana, le ke Fareedi hai kha.Da, behr-e-qubool

kaash ! wo kar de.n zara chashm-e-‘ata, mujh ko mile.n laa’l-e-karam, jin se bhare daaman-e-fan, jeb-e-qalam, jin se chamak jaae, damak jaae mera KHaana-e-afkaar

razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !
razavi rang me.n rang jaao, mere yaar !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *