Rok Leti Hai Aap Ki Nisbat Teer Jitne Bhi Ham Pe Chalte Hain Naat Lyrics

Rok Leti Hai Aap Ki Nisbat Teer Jitne Bhi Ham Pe Chalte Hain Naat Lyrics

 

रोक लेती है आप की निस्बत
तीर जितने भी हम पे चलते हैं
ये करम है हुज़ूर का हम पर
आने वाले अज़ाब टलते हैं

वोही भरते हैं झोलियाँ सब की
वो समझते हैं बोलियाँ सब की
आओ, बाज़ार-ए-मुस्तफ़ा को चलें
खोटे सिक्के वहीं पे चलते हैं

अपनी औक़ात सिर्फ़ इतनी है
कुछ नहीं, बात सिर्फ़ इतनी है
कल भी टुकड़ों पे उन के पलते थे
अब भी टुकड़ों पे उन के पलते हैं

अब हमें क्या कोई गिराएगा
हर सहारा गले लगाएगा
हम ने ख़ुद को गिरा दिया है वहाँ
गिरने वाले जहाँ सँभलते हैं

घर वोही मुश्कबार होते हैं
ख़ुल्द से हमकिनार होते हैं
ज़िक्र-ए-सरकार के हवालों से
जिन घरों में चराग़ जलते हैं

दिल की हसरत वो पूरी फ़रमाएँ
इस तरह तयबा मुझ को बुलवाएँ
मेरे मुर्शिद ये मुझ से फ़रमाएँ
आओ, तयबा नगर को चलते हैं

ज़िक्र-ए-सरकार के उजालों की
बे-निहायत हैं रिफ़’अतें, ख़ालिद !
ये उजाले कभी न सिमटेंगे
ये वो सूरज नहीं जो ढलते हैं

शायर:
ख़ालिद महमूद ख़ालिद

नात-ख़्वाँ:
मुहम्मद ओवैस रज़ा क़ादरी

 

rok leti hai aap ki nisbat
teer jitne bhi ham pe chalte hai.n
ye karam hai huzoor ka ham par
aane waale azaab Talte hai.n

wohi bharte hai.n jholiyaa.n sab ki
aur samajhte hai.n boliyaa.n sab ki
aao, bazaar-e-mustafa ko chale.n
khoTe sikke wahi.n pe chalte hai.n

apni auqaat sirf itni hai
kuchh nahi.n, baat sirf itni hai
kal bhi Tuk.Do.n pe un ke palte the
ab bhi Tuk.Do.n pe un ke palte hai.n

ab hame.n kya koi giraaega
har sahaara gale lagaaega
ham ne KHud ko gira diya hai wahaa.n
girne waale jahaa.n sa.nbhalte hai.n

ghar wohi mushkbaar hote hai.n
KHuld se hamkinaar hote hai.n
zikr-e-sarkaar ke hawaalo.n se
jin gharo.n me.n charaaG jalte hai.n

dil ki hasrat wo poori farmaae.n
is tarah tayba mujh ko bulwaae.n
mere murshid ye mujh se farmaae.n
aao, tayba nagar ko chalte hai.n

zikr-e-sarkaar ke ujaalo.n ki
be-nihaayat hai.n rif’ate.n, KHaalid !
ye ujaale kabhi na simTe.nge
ye wo sooraj nahi.n jo Dhalte hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *