Rozi Khuda Ne Di Hai Khilaate Hain Mustafa Naat Lyrics

Rozi Khuda Ne Di Hai Khilaate Hain Mustafa Naat Lyrics

 

 

रोज़ी ख़ुदा ने दी है, खिलाते हैं मुस्तफ़ा
दुनिया है ये ख़ुदा की, चलाते हैं मुस्तफ़ा

कितने अमीर हो के भी तयबा न जा सके
जाते वही हैं जिन को बुलाते हैं मुस्तफ़ा

पढ़ कर दुरूद रात में सो जाओ बा-वुज़ू
मैंने सुना है ख़्वाब में आते हैं मुस्तफ़ा

आओ चलें मदीना, बुलाते हैं मुस्तफ़ा
सीने से ग़मज़दों को लगाते हैं मुस्तफ़ा

है बचपने की ‘उम्र मगर काम देखिए
ऊँगली पे अपनी चाँद नचाते हैं मुस्तफ़ा

ना’त-ख़्वाँ:
दिलबर शाही
आ’ज़म इक़बाल रामपुरी

 

rozi KHuda ne di hai, khilaate hai.n mustafa
duniya hai ye KHuda ki, chalaate hai.n mustafa

kitne ameer ho ke bhi tayba na jaa sake
jaate wahi hai.n jin ko bulaate hai.n mustafa

pa.Dh kar durood raat me.n so jaao baa-wuzoo
mai.n ne suna hai KHwaab me.n aate hai.n mustafa

aao chale.n madina, bulaate hai.n mustafa
seene se Gamzado.n ko lagaate hai.n mustafa

hai bachpane ki ‘umr magar kaam dekhiye
ungli pe apni chaand nachaate hai.n mustafa

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *